गर्ड या गैस्ट्रोएसोफेगल रिफ्लक्स डिजीज (GERD)

gerd

गर्ड या गैस्ट्रोएसोफेगल रिफ्लक्स डिजीज (GERD) में पेट का एसिड वापस फूड पाइप में जमा होता है। यह एसिड फूड पाइप की लाइनिंग को नुकसान पहुँचा सकता है। इससे इनडाइजेशन की प्रॉब्लम हो सकती है। अगर यह प्रॉब्लम लंबे समय तक बनी रहे तो अल्सर या कैंसर जैसी बिमारियों में बदल सकती है।

गर्ड या गैस्ट्रोएसोफेगल रिफ्लक्स रोग (जीईआरडी) एक दीर्घकालिक पाचन संबंधी रोग है। गर्ड तब होता है, जब पेट में उत्पन्न एसिड या कभी-कभी पेट में मौजूद तत्व आपकी भोजन नली (Esophagus) में वापस आ जाते है। इस रिफ्लक्स के परिणाम स्वरूप आपकी भोजन नली की अंदर की सतह में जलन होती है और गर्ड (जीईआरडी​) हो जाता है। 

एसिड भाटा (Acid Reflux) और सीने में जलन दोनों ही आम पाचन की स्थिति है, जिन्हें कई लोग समय-समय पर अनुभव करते है। जब ये संकेत और लक्षण हर हफ्ते में कम से कम दो बार होते है या आपके रोजमर्रा के जीवन में रुकावट करते है या जब आपके चिकित्सक आपकी भोजन नली (फ़ूड पाइप) में होने वाली क्षति का निरीक्षण (Inspection) करते है, तो आपके एसिड भाटा रोग (Acid Reflux Disease) का निदान किया जा सकता है। 

ज्यादातर लोग गर्ड का निदान अपनी जीवन शैली में परिवर्तन करके और ओवर-द-काउंटर दवाओं (बिना डॉक्टर के पर्चे से मिलने वाली दवाएं) के साथ कर सकते है लेकिन गर्ड से ग्रसित कुछ लोगों में इसके लक्षणों को कम करने के लिए ज़्यादा प्रभावशाली दवाओं या सर्जरी की आवश्यकता भी पड़ सकती है।

गर्ड (जीईआरडी​) के लक्षण:

गर्ड (जीईआरडी​) के संकेत और लक्षणों में निम्नलिखित शामिल है।

  • सीने में जलन, जो कभी-कभी आपके गले में भी होने लगती है। इसके साथ ही आपके मुँह का स्वाद खट्टा हो जाता है। 
  • छाती में दर्द
  • निगलने में कठिनाई
  • सूखी खांसी
  • गले में खराश
  • भोजन या खट्टे तरल का उल्टी के साथ बाहर आना
  • गले में गांठ महसूस होना आदि। 

गर्ड (जीईआरडी​) के कारण और रिस्क फैक्टर:

गर्ड क्यों होता है?

गर्ड अक्सर एसिड रिफ्लक्स के कारण होता है जैसे पेट के एसिड या पित्त का भोजन नली (फूड पाइप) में वापस आना।

जब आप निगलते है, तो लोअर एसोफिजिअल स्फिंक्टर (Lower Esophageal Sphincter) – भोजन नली के निचले हिस्से के आसपास मांसपेशी का एक गोलाकार बैंड – शिथिल (Relax) हो जाता है और भोजन व तरल पदार्थ आपके पेट में आसानी से चले जाते है। उसके बाद यह वापस बंद हो जाता है।

हालांकि, अगर यह स्फिंक्टर असामान्य रूप से शिथिल (Relax) हो जाता है या कमजोर हो जाता है, तो पेट में उत्पन्न एसिड आपकी भोजन नली (फूड पाइप) में वापस आ सकता है, जिसके कारण आपके सीने में अक्सर जलन होने लगती है। कभी-कभी यह आपके रोजाना की दिनचर्या को बाधित कर सकता है।

एसिड के लगातार भोजन नली (फूड पाइप) में वापस आने से इसकी अंदर की सतह में जलन हो सकती है, जिससे इसमें सूजन भी आ सकती है (एसिफैगिटिस)। समय के साथ यह सूजन भोजन नली की अंदर की सतह को क्षतिग्रस्त कर सकती है, जिससे रक्तस्राव, भोजन नली का संकीर्ण (Narrow) होना या बेरेट्स इसोफेगस (कैंसर की एक पहले की स्थिति) जैसी जटिलताएं उत्पन्न हो सकती है।

गर्ड (जीईआरडी​) के रिस्क फैक्टर: गर्ड के जोखिम को बढ़ाने वाली स्थितियों में नीचे दी गई चीजें शामिल है।

  • मोटापा
  • गर्भावस्था
  • धूम्रपान
  • मुँह में खुश्की (Dryness) होना 
  • अस्थमा
  • डायबिटीज
  • भूख देर से लगना

गर्ड (जीईआरडी​) से कैसे बचें:

गर्ड (जीईआरडी​) को रोकने के प्रभावी तरीकों में से एक है।

  • पूरे दिन थोड़ी-थोड़ी मात्रा में खाएं।
  • धूम्रपान छोड़ दें।
  • अपने बिस्तर के सिरहाने के पायों के नीचे ईंटें रखें। इसे कम से कम 4 इंच से 6 इंच तक ऊँचा रखें।
  • भोजन करने के कम से कम 2 से 3 घंटे तक ना सोएं।
  • दिन में सोने के लिए कुर्सी का उपयोग करें।
  • ज़्यादा टाइट बेल्ट ना पहनें।
  • यदि आपका वजन ज़्यादा है या आप मोटापे से ग्रस्त है, तो व्यायाम और आहार में परिवर्तन के द्वारा वजन कम करने का प्रयास करें।

गर्ड (जीईआरडी​) का इलाज:

गर्ड (जीईआरडी​) का उपचार कैसे होता है?

सीने की जलन और एसिड भाटा (Acid Reflux) के अन्य संकेतो और लक्षणों का उपचार आमतौर पर ओवर-द-काउंटर दवाओं से शुरू होता है, जो एसिड को नियंत्रित करती है। यदि आपको कुछ हफ्तों के अंदर राहत नहीं मिलती, तो आपके डॉक्टर दवाइयों और सर्जरी सहित अन्य उपचारों की सिफारिश भी कर सकते है।

सीने की जलन को नियंत्रित करने के लिए शुरूआती उपचार:

ओवर-द-काउंटर उपचार, जो सीने की जलन को नियंत्रित करने में मदद करते है।

  • पेट में उत्पन्न एसिड को बेअसर करने वाले एंटासिड: जेलुसिल (Gelusil), गाविस्कॉन (Gaviscon) जैसे एंटासिड तुरंत राहत दिला सकते है लेकिन पेट के एसिड से सूजने वाली भोजन नली को सिर्फ एंटासिड के द्वारा ठीक नहीं किया जा सकता। कुछ एंटासिड के अत्यधिक प्रयोग के दुष्प्रभाव भी हो सकते है जैसे कब्ज या दस्त।
  • एसिड उत्पादन को कम करने वाली दवाएं: एच-2 रिसेप्टर ब्लॉकर्स में फमोटीडीन (Famotidine) जैसे पेप्सिड एसी (Pepcid AC) या रेनिटिडिन (Ranitidine) दवाएं शामिल है। एच-2 रिसेप्टर ब्लॉकर्स उतनी जल्दी असर नहीं करते, जितनी जल्दी एंटासिड करते है लेकिन ये लंबे समय तक राहत प्रदान करते है और 12 घंटों तक पेट में एसिड के उत्पादन को कम करते है।
  • एसिड उत्पादन को रोकने वाली और भोजन नली को राहत देने वाली दवाएं: एच-2 रिसेप्टर ब्लॉकर्स की तुलना में प्रोटॉन पंप ब्लॉकर्स एसिड उत्पादन को मजबूती से रोकते है और क्षतिग्रस्त एसोफिजिअल ऊतक (टिश्यू) को ठीक होने के लिए समय देते है। ओवर-द-काउंटर प्रोटॉन पंप ब्लॉकर्स में ओमेप्राजोल (Omeprazole) शामिल है।

यदि आपको ये दवाईयाँ दो से तीन सप्ताह से अधिक समय तक लेने की जरूरत है या आपके लक्षणों में कोई आराम नहीं आया है, तो अपने चिकित्सक से संपर्क करें।

गर्ड (जीईआरडी​) में क्या खाना चाहिए?:

गर्ड में क्या खाएं?

पेट में एसिड की बहुत ज्यादा या बहुत कम मात्रा Reflux के लक्षणों का कारण बन सकती है। यदि आपके पेट में बहुत ज्यादा एसिड बनता है, तो एसिड भाटा के लक्षणों को कम करने के लिए आप अपने आहार में निम्न खाद्य पदार्थ शामिल कर सकते है।

1. सब्जियां

सब्ज़ियों में फैट और शुगर प्राकृतिक रूप से कम मात्रा में मौजूद है और ये पेट के एसिड को कम करने में मदद करती है। इनमें हरी बीन्स, ब्रोकली, फूलगोभी, पत्तेदार साग, आलू और खीरे शामिल है।

2. अदरक

अदरक में सूजन रोधी (Anti-inflammatory) प्राकृतिक गुण होते है और यह सीने की जलन और अन्य पेट से संबंधी (Gastrointestinal) समस्याओं के लिए एक प्राकृतिक उपचार है। लक्षणों को कम करने के लिए आप अदरक को घिसकर या काटकर डिशेस में डाल सकते है या अदरक की चाय पी सकते है।

3. जई का दलिया (Oatmeal)

जई का दलिया एक भरपूर नाश्ता है और फाइबर का अच्छा स्रोत है। यह दलिया पेट में उत्पन्न एसिड को अवशोषित (Absorb) करके भाटा (Reflux) के लक्षणों को कम कर सकता है। फाइबर के अन्य स्रोतों में साबुत अनाज से बने ब्रेड और ब्राउन राइस शामिल है।

4. नॉन साइट्रस फल

खरबूजे, केले, सेब और नाशपति जैसे नॉन-साइट्रस फल अम्लीय (Acidic) फलों की तुलना में भाटा (Reflux) के लक्षणों को कम करते है।

5. बिना चर्बी वाला मांस

बिना चर्बी वाले मांस जैसे चिकन, मछली और समुद्री भोजन में फैट कम होता है और ये एसिड भाटा (Acid Reflux) के लक्षणों को कम करते है। इन्हें भूनकर, बेक करके और उबालकर खाएं।

6. सफेद अंडे: 

सफेद अंडा एक अच्छा विकल्प है। अंडे की जर्दी (Egg Yolk) से दूर रहें, क्योंकि इसमें बहुत ज्यादा फैट होता है और यह भाटा (Reflux) के लक्षणों को बढ़ा सकता है।

7. स्वस्थ फैट:

स्वस्थ फैट के स्रोतों में शामिल है एवोकाडो, अखरोट, फ्लैक्स सीड, जैतून का तेल, तिल का तेल, सूरजमुखी का तेल। संतृप्त और ट्रांस फैट का कम सेवन करें और इनके स्थान पर स्वस्थ असंतृप्त वसा (Unsaturated Fat) को अपने आहार में शामिल करे।

अस्वीकरण: सलाह सहित इस लेख में सामान्य जानकारी दी गई है। अधिक जानकारी के लिए आज ही अपने फोन में आयु ऐपडाउनलोड कर घर बैठे विशेषज्ञ डॉक्टरों से परामर्श करें। स्वास्थ संबंधी जानकारी के लिए आप हमारे हेल्पलाइन नंबर 781-681-11-11 पर कॉल करके भी अपनी समस्या दर्ज करा सकते हैं। आयु ऐप हमेशा आपके बेहतर स्वास्थ के लिए कार्यरत है। 

Leave a Reply

Your email address will not be published.