गाजर का जूस के फायदे और नुकसान

gajar ka juice

गाजर विटामिन्स, पोषक तत्वों और फाइबर से भरपूर है। अगर आप गाजर नहीं खाते तो आप अपनी डाइट में गाजर का जूस शामिल कर सकते हैं।

गाजर का जूस के फायदे:

मेटाबॉलिज्म अच्छा करें: गाजर के जूस में कम कैलोरी होती है। सोडा और दूसरे ड्रिंक्स के बजाए आप अगर गाजर का जूस पीते है तो आपका वजन नहीं बढ़ेगा। गाजर का जूस बाइल रिलीज बढ़ाता है जिससे मेटाबॉलिज्म में सुधार होता है। मेटाबॉलिज्म से हमारा मतलब है वह दर जिससे शरीर में खाने से ऊर्जा बनती है। बाइल जूस से फैट को तोड़ने में मदद मिलती है।

आँखों की रोशनी बढ़ाए: गाजर खाने से आंखों की रोशनी मजबूत होती है। गाजर आँखों के लिए बहुत फायदेमंद है। गाजर में बीटा कैरोटीन पाया जाता है जो विटामिन-ए का टाइप है। यह एंटीऑक्सिडेंट है।

त्वचा के लिए फायदेमंद: अगर आपको स्किन से जुड़ीं समस्याएं हैं तो गाजर का जूस पीना फायदेमंद है। इससे आपकी स्किन अच्छी होती है। गाजर में विटामिन सी होता है जिससे हीलिंग होती है। घाव से त्वचा को उबारने में गाजर के जूस से मदद मिलती है।

इम्यून सिस्टम रहता है दुरुस्त: कोल्ड या फ्लू एक या दो हफ्ते के लिए रह सकता है इसलिए इम्यून सिस्टम का मजबूत रहना आपके लिए बहुत जरूरी है। अपनी रोजमर्रा की डाइट में गाजर का जूस शामिल करने से हर तरह के इन्फेक्शन से लड़ने में मदद मिलती है।

कोलेस्ट्रॉल कम करें: अगर आप कोलेस्ट्रॉल कम करना चाहते है तो गाजर का जूस पोटैशियम का अच्छा स्रोत है जिसकी वजह से कोलेस्ट्रॉल लेवल मेनटेन रहता है। लोवर कोलेस्ट्रॉल से हार्ट बीमारियों और स्ट्रोक का खतरा कम होता है। लेकिन दवा बंद करने से पहले डॉक्टर से सलाह लें।

प्रेगनेंसी में फायदेमंद: प्रेग्नेंसी में गाजर का जूस पीना फायदेमंद है। इसमें कैल्शियम, पोटैशियम, मैग्नीशियम प्रचुर मात्रा में होते हैं और यह विटामिन-ए का अच्छा स्रोत है। कैल्शियम भ्रूण के विकास में जरूरी है जबकि फोलेट बर्थ डिफेक्ट से रोकता है। प्रेग्नेंट महिलाओं और ब्रेस्टफीड कराने वाली महिलाओं को प्रतिदिन 1000 मिलीग्राम कैल्शियम की जरूरत होती है।

गाजर के जूस के नुकसान:

  • मधुमेह रोगी को गाजर का जूस अधिक मात्रा में लेने से बचना चाहिए।
  • गाजर के रस में शुगर होती है जो रक्‍त में शुगर के स्‍तर को बढ़ा सकती है।
  • कुछ लोगों को गाजर और इससे संबंधित खाद्य पदार्थों से एलर्जी हो सकती है। इसलिए जिन लोगों को गाजर या मूली आदि से एलर्जी है उन्‍हें इसका सेवन नहीं करना चाहिए।
  • स्‍तनपान करवाने वाली महिलाओं को गाजर के रस का अधिक सेवन नहीं करना चाहिए क्‍योंकि यह दूध उत्‍पादन को प्रभावित करता है।
  • कुछ लोगों में गाजर के जूस का अधिक सेवन करने से दस्त और पेट संबंधित परेशानियाँ हो सकती है।

अस्वीकरण: सलाह सहित इस लेख में सामान्य जानकारी दी गई है। यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है।अधिक जानकारी के लिए आज ही अपने फोन में आयु ऐप डाउनलोड कर घर बैठे विशेषज्ञ  डॉक्टरों से परामर्श करें। स्वास्थ संबंधी जानकारी के लिए आप हमारे हेल्पलाइन नंबर 781-681-11-11 पर कॉल करके भी अपनी समस्या दर्ज करा सकते हैं। आयु ऐप हमेशा आपके बेहतर स्वास्थ के लिए कार्यरत है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.