फीमेल ऑर्गैज्म से जुडी 10 बातें जो आपको जानना है ज़रूरी

things to kept in mind during orgasm

सेक्स या सेक्सुअल लाइफ में ऑर्गैज्म (female orgasm) या चरममुख बहुत मायने रखता है। आज भी कई महिलाऐं ऑर्गैज्म तक नहीं पहुँच पाती, जिस वजह से सेक्स उनके लिए आरामदायक नहीं बन पाता है। इसलिए यह ज़रूरी है कि आप ऑर्गैज़्म से सम्बंधित कुछ बाते जानें। क्या होता है फीमेल ऑर्गैज़म?

क्या होता है फीमेल ऑर्गैज़म?

महिलाएं मल्टी ऑर्गेज्मिक होती है यानि एक बार सेक्‍स की संपूर्ण प्रक्रिया में वह कई बार ऑर्गेज्‍म यानि चरम सुख का अनुभव करने में सक्षम होती है। जबकि पुरुषों की शारीरिक संरचना बिलकुल अलग है। एक बार चरम सुख का अनुभव करने के बाद आप पुन: उसी आनंद का अनुभव करने में सक्षम नहीं होता क्‍योंकि उसकी इंद्रिय में शिथिलता आ जाती है। पुरुष की इंद्रिय को दोबारा संबंध बनाने के लिए सक्षम होने में थोड़ा समय लगता है।

ऑर्गैज्म से संबंधित तथ्य:

ऑर्गैज्म पेनकिलर का काम करें: अगर आपको सिरदर्द है, तो कोई और उपाय करने से पहले आप एक बार सेक्स ट्राई कर सकती है। सेक्स के दौरान शरीर में ऑक्सीटॉसिन रिलीज़ होता है, जो हमें रिलैक्स करता है, इसलिए ऑर्गैज़्म आपके सिरदर्द के लिए बेहतरीन पेनकिलर हो सकता है।

कंडोम ऑर्गैज्म क्वालिटी को अफेक्ट नहीं करता:

अगर आपको लगता है कि कंडोम पहनने से सेक्स प्रक्रिया उतनी आनंददायक नहीं रहती, जितनी होनी चाहिए, तो ऐसा नहीं है। उनके मुताबिक कंडोम पहनने या ना पहनने का ऑर्गैज़्म पर कोई असर नहीं पड़ता। यह ऑर्गैज़्म में कोई बाधा उत्पन्न नहीं करता।

महिलाऐं संबंधी किसी भी समस्या के लिए अभी विशेषज्ञ डॉक्टर से परामर्श लें 👇

कई महिलाऐं ऑर्गैज्म से वंचित रह जाती है:

अगर आप ऑर्गैज़्म का अनुभव करने में सक्षम नहीं हो पाती है, तो घबराएं नहीं, बल्कि आपको यह जानकर हैरानी होगी कि लगभग 30% महिलाएं ऑर्गैज़्म तक नहीं पहुंच पाती। इसका कारण फीमेल सेक्सुअल डिस्फंक्शन होता है। आप डायबिटीज या थाइरोइड भी चेक करवा सकती है।

जी स्पॉट आपके ऑर्गैज्म को बेहतर बना सकता है:

अक्सर बहुत-सी महिलाओं को अपने जी-स्पॉट के बारे में पता नहीं होता। वेजाइना के किस हिस्से में स्टिमुलेशन होने पर आप ऑर्गैज़्म तक पहुंचती है। जी स्पॉट का टेक्स्चर रफ होता है, इसलिए इसे ढूंढ़ना बहुत मुश्किल नहीं. अपने जी स्पॉट की पहचान कर आप ऑर्गैज़्म तक आसानी से पहुँच सकती है।

उम्र के साथ ऑर्गैज्म बेहतर होता जाता है:

बढ़ती उम्र में महिलाओं को ऑर्गैज़्म आसानी से और जल्दी मिलता है, जो कम उम्र में जल्दी नहीं मिल पाता। जहां 18-24 साल की लड़कियों में मात्र 61% को ऑर्गैज़्म मिलता है, वहीं 30 की उम्र की लगभग 65% महिलाओं को ऑर्गैज़्म मिलता है, तो वहीं 40-50 की उम्र की 70% महिलाओं को ऑर्गैज़्म मिलता है।

अलग-अलग पोज़ीशन्स से जल्दी ऑर्गैज़्म मिलता है:

अगर आप रोज़ एक ही सेक्स पोज़ीशन ट्राई करती है और ऑर्गैज़्म तक नहीं पहुंच पाती, तो आज कुछ अलग ट्राई करें। इसके लिए आप एक या दो पोज़ीशन्स ट्राई करें या ओरल सेक्स भी शामिल कर सकते है।

आपका आत्मविश्‍वास ऑर्गैज्म को प्रभावित करता है:

महिलाएं अक्सर अपने प्राइवेट पार्ट्स को लेकर काफ़ी कॉन्शियस रहती हैं, पर उसकी ज़रूरत नहीं, क्योंकि वेजाइना का कोई परफेक्ट शेप या साइज़ नहीं होती. आपका प्राइवेट पार्ट जैसा भी है, आपको उसमें कॉन्फिडेंस होना चाहिए, क्योंकि आपका आत्मविश्‍वास ही आपको बेहतर ऑर्गैज़्म दिला सकता है।

महिलाओं के लिए टॉप पोज़ीशन:

सेक्सोलॉजिस्ट्स के मुताबिक जिन महिलाओं को जल्दी ऑर्गैज़्म नहीं मिलता, उन्हें टॉप पोज़ीशन ट्राई करनी चाहिए, इसमें उन्हें जल्दी ऑर्गैज़्म मिलता है। बहुत-सी महिलाएं पूरी ज़िंदगी यही सोचती है कि सेक्स करना पति की ज़िम्मेदारी है, उन्हें बस उसमें साथ देना है तो ऐसा नहीं है। संभोग को जब तक दोनों समान रूप से एंजॉय नहीं करेंगे, दोनों को ही चरमसुख की प्राप्ति नहीं होती।

दुर्लभ मामलों में एक्सरसाइज़ से कर सकते है ऑर्गैज्म:

कुछ लोगों को एक्सरसाइज़ या मसाज के दौरान ऑर्गैज़्म मिल सकता है, हालांकि यह बहुत दुर्लभ स्थिति है।एक्सरसाइज़ या मसाज के दौरान रक्त संचार बढ़ जाता है। अगर किसी के प्राइवेट पार्ट्स में ब्लड फ्लो बढ़ जाए, तो उसे ऑर्गैज़्म मिल सकता है।

ज़्यादातर महिलाओं को ऑर्गैज्म में व़क्त लगता है:

महिलाओं को पुरुषों की तुलना में ऑर्गैज़्म देरी से आता है, पर यह पूरी तरह सामान्य है. इसके लिए आप यह बिल्कुल न सोचें कि आपमें कोई कमी है, बल्कि अपनी सेक्स लाइफ को एंजॉय करें। याद रखें, आप अपनी सेक्स लाइफ को जितना इंट्रेस्टिंग बनाएंगी, ऑर्गैज़्म उतनी जल्दी मिलेगा।

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है। यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए आज ही अपने फोन में आयु ऐप डाउनलोड कर घर बैठे विशेषज्ञ डॉक्टरों से परामर्श करें। स्वास्थ संबंधी जानकारी के लिए आप हमारे हेल्पलाइन नंबर 781-681-11-11 पर कॉल करके भी अपनी समस्या दर्ज करा सकते हैं। आयु ऐप हमेशा आपके बेहतर स्वास्थ के लिए कार्यरत है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.