प्रेगनेंसी (गर्भावस्था ) के दौरान करने वाले 4 व्यायाम

pregnancy

मासिक धर्म ना होना निश्चित रूप से गर्भावस्था का एक स्पष्ट संकेत है, लेकिन यही एक संकेत नहीं है। आपके मासिक धर्म ना होने से पहले एक अंडा निषेचन (Egg Fertilization) के बाद गर्भाशय की दीवार में प्रत्यारोपित (implanted) हो जाता है।

प्रत्यारोपण होने के बाद आप गर्भवती हो जाती है। गर्भावस्था के कुछ दिनों या हफ्तों बाद , शरीर मासिक धर्म की तारीख से पहले कुछ संकेत देने लग जाते है। कई बार महिलाऐं उन संकेतों पर ध्यान नहीं देती है।

गर्भावस्था के संकेत:

आइये जानते है यहाँ गर्भावस्था के कुछ शुरुआती लक्षणों के बारे में जिसकी मदद से आप गर्भवती है या नहीं यह टेस्ट करवाए बिना जान सकती है।

प्रत्यारोपण (Implanted), रक्तस्राव, ऐंठन: मासिक धर्म के दौरान ऐंठन, हल्का रक्तस्राव, और स्पॉटिंग जिसे आमतौर पर प्रत्यारोपण रक्तस्राव कहा जाता है, गर्भावस्था के शुरुआती और स्पष्ट संकेत हैं। निषेचित अंडा अपने आप को गर्भाशय की दीवार से जोड़ता है जिसके परिणामस्वरूप प्रत्यारोपण होता है। यदि आपका मासिक धर्म चक्र नियमित है, तो मासिक धर्म ना होने की तारीख के लगभग एक सप्ताह पहले से प्रत्यारोपण रक्तस्राव के संकेत नज़र आने लगते हैं, यह कुछ घंटों या कुछ दिनों तक हो सकता है।

यह अंतर्वस्त्र पर खून के हल्के निशान के रूप में या योनि को पोंछते समय हल्के रक्तस्राव के रूप में दिखाई दे सकता है। लेकिन ज़्यादा रक्तस्राव ना हो क्योंकि ऐसा गर्भपात होने पर हो सकता है या फिर मासिक धर्म के कारण भी हो सकता है।

बढ़ा हुआ बॉडी तापमान: बाकी लक्षणों की तुलना में अक्सर अधिक सटीक, ध्यान देने योग्य परिवर्तन का पता लगाने के लिए बॉडी तापमान की महीनों तक जाँच करवाए। ओव्यूलेशन (Ovulation) से पहले, शरीर का तापमान बढ़ जाता है और आपके मासिक धर्म के बाद वापस सामान्य हो जाता है।

लेकिन गर्भावस्था के दौरान, शरीर का तापमान लगातार बढ़ा रहता है और प्रत्यारोपण होने पर, शरीर एक नया जीवन लाने के लिए तैयार करता है। जिसके परिणामस्वरूप तापमान बढ़ जाता है। प्रतिरक्षा प्रणाली (Immune System) खुद को गर्भावस्था के लिए तैयार करती है। यदि आपके शरीर का तापमान ओव्यूलेशन के 20 दिनों से ज्यादा समय पार होने के बाद भी बढ़ा हुआ है, तो आप प्रेगनेंट हो सकती है।

पीड़ादायक, संवेदनशील और भारी स्तन: मासिक धर्म ना होने से एक सप्ताह पहले ही पीड़ादायक, संवेदनशील व भारी स्तन या निप्पल के चारों तरफ के रंग का गहरा होना नज़र आने वाले गर्भधारण के लक्षण होते हैं। गर्भाधान के बाद एस्ट्रोजेन का स्तर बढ़ने के साथ, महिलाऐं अत्यधिक पीड़ित व भरा–भरा महसूस करती हैं, और स्तन में तेज़ दर्द होता है।

निप्पल गहरे रंग के दिखने शुरू हो जाते हैं और इनमें खुजली, तनाव या चुभन महसूस होती है। हालांकि यह लक्षण मासिक धर्म से पहले निप्पल की स्थिति के संकेत से बहुत अलग नहीं होते, लेकिन आपके मासिक धर्म ना होने के बाद भी यह लक्षण बने रहते हैं।

थकावट: हॉर्मोन में परिवर्तन के कारण आप हर समय थकान महसूस कर सकते हैं। थकावट और नींद आना गर्भवती होने के शुरुआती लक्षण हैं, मामूली काम करने के बाद थकान महसूस होना बेहद सामान्य है। इस समय ज्यादा नींद आती है जो प्रेगनेंसी की पहली तिमाही के दौरान रहता है। बढ़ते भ्रूण का समर्थन करने के लिए शरीर अधिक रक्त का उत्पादन करना शुरू कर देता है जिसके परिणामस्वरूप थकावट बढ़ जाती है। यह खनिज, विटामिन, आयरन और बहुत सारे तरल पदार्थों से भरपूर स्वस्थ आहार खाने से ठीक कर सकते है।

जी मिचलाना: मतली या उल्टी, एक तरह का लक्षण है, जिसे अक्सर “मॉर्निंग सिकनेस” कहा जाता है। यह लक्षण गर्भवती होने का मुख्य लक्षण है। इस दौरान आप बेचैनी महसूस कर सकती है। एस्ट्रोजेन और प्रोजेस्टेरोन के स्तर में वृद्धि के कारण, आपको हर दिन उठते ही उल्टी जैसा लग सकता है।

उल्टी आपको किसी भी समय हो सकती है और यह पूरे दिन चल सकती है। मासिक धर्म ना होने से पहले शुरुआती हफ्तों में लगभग 80% गर्भवती महिलाओं को मतली होती है। मॉर्निंग सिकनेस या मतली के लक्षणों की तीव्रता अलग–अलग महिलाओं में अलग–अलग तरह की होती है, लेकिन 50% गर्भवती महिलाओं को गर्भधारण के छह सप्ताह के भीतर या उससे पहले से मतली महसूस होती है।

बार–बार पेशाब करने की ज़रूरत: बार–बार पेशाब करने की ज़रूरत महसूस होना एक प्रमुख संकेत है। यह प्रवृत्ति गर्भावस्था के दौरान बढ़ती है जब बढ़ता गर्भाशय, मूत्राशय पर दबाव डालना शुरू करता है। हॉर्मोन में परिवर्तन और रक्त के अतिरिक्त उत्पादन के साथ, बार–बार पेशाब आना एक सामान्य लक्षण है जो पूरी गर्भावस्था के दौरान रहता है। रक्त को छानने के लिए गुर्दे अधिक समय तक काम करते हैं, जिससे बार–बार पेशाब करने की ज़रूरत महसूस होती है। सभी गर्भवती महिलाऐं इस लक्षण का अनुभव करती हैं जो गर्भावस्था के शुरुआती लक्षणों में से एक है, यह आपके मासिक धर्म की तारीख के करीब होने पर शुरू होता है।

गर्भावस्था क्या होती है?

गर्भावस्था से तात्पर्य उस अवस्था से है, जिसमें किसी महिला के शरीर में भ्रूण का विकास होता है या जब किसी महिला के मासिक धर्म आना बंद हो जाते हैं तो उस स्थिति को गर्भावस्था या प्रेग्नेंसी कहा जाता है।

गर्भावस्था के लक्षण (Symptoms of pregnancy):

गर्भावस्था के कई सारे लक्षण होते हैं, जिनमें से कुछ मुख्य लक्षण हैं:

  • मासिक धर्म (Periods) ना होना:  किसी महिला के मासिक धर्म का ना होना गर्भावस्था का पहला लक्षण है।
  • मूड स्विंग होना: जब कोई महिला गर्भवती होती है, तो उसे मूड स्विंग की समस्या होती है।
  • जी मचलाना और उल्टी होना: यह गर्भावस्था  का आम लक्षण है, जिसमें किसी महिला का जी मचलाता है और इसके साथ उल्टी होती है।
  • गैस होना: कई महिलाओं में गर्भवती होने पर गैस की समस्या देखी जाती है।
  • थकावट होना:  गर्भवती होने पर महिला को थकावट रहती है।
  • कुछ खाने की इच्छा होना: जब कोई महिला गर्भवती होती है, तो उसे समय-समय पर कुछ खाने की इच्छा होती है।
  • पीठे के निचले हिस्से में दर्द होना: महिला की पीठ के निचले हिस्से पर दर्द होना गर्भावस्था का लक्षण है।

प्रेगनेंसी के व्यायाम (Pregnancy Exercise):

गर्भावस्था के दौरान कई महिलाऐं सुस्त हो जाती हैं, जबकि गर्भावस्था के दौरान आपको ज्यादा एक्टिव रहने की जरूरत होती है। प्रेगनेंसी के दौरान हर महिला को अपने आपको फिट रखने की जरूरत होती है, इससे गर्भवती महिलाऐं फिट रहती है और बच्चा सही रहता है।

गर्भावस्था के दौरान फिजिकल एक्टिविटी इसलिए जरूरी है क्योंकि इससे बच्चे की डिलीवरी आसानी से हो सकती है। ज्यादा मेहनत वाली एक्सरसाइज ना करें।

गर्भावस्था के दौरान करने वाली एक्सरसाइज:

स्विमिंग: तैराकी यानि स्विमिंग गर्भवती महिलाओं के लिए बहुत बेहतर और सुरक्षित एक्सरसाइज है। इसके साथ ही पानी एरोबिक्स सिर्फ सही गर्भावस्था की कसरत हो सकती है। पानी में आप हल्का और अधिक चुस्त महसूस करते हैं। गर्भावस्था के दौरान पूल में एक डुबकी भी मतली, दर्द और टखनों को राहत देने में मदद करती है। इसके साथ ही आपकी पूरी बॉडी को एक सुरक्षित एक्सरसाइज करने का मौका मिलता है।

वॉकिंग: गर्भावस्था के दौरान आपके लिए वॉकिंग एक अच्छी एक्सरसाइज है, इससे आप और आपका बच्चा दोनों फिट रहते हैं। डॉक्टर भी वॉकिंग की सलाह इसिलए देते हैं जिससे कि आपका बच्चा नॉर्मल डिलीवरी के साथ पैदा हो। यह एक कसरत है जिसे आप अपनी डिलीवरी की तारीख तक जारी रख सकते हैं। आपको सुबह और शाम करीब कम से कम आधा घंटा वॉक करना चाहिए, ये आपके लिए फायदेमंद होता है। 

रनिंग: रनिंग जरूरी नहीं कि सिर्फ तेज गती से करें, आप इसे गर्भावस्था के दौरान काफी आराम-आराम से कर सकते हैं जो आपके लिए फायदेमंद और सुरक्षित है। आप रनिंग को एक जॉगिंग का तरीका दे सकते हैं और धीरे-धीरे रनिंग करने की आदत डालें, ये आपके बच्चे को कोई नुकसान नहीं पहुँचाता और आप प्रेगनेंसी में फिट रह सकेंगी। 

एरोबिक्स: आप प्रेगनेंट होने के कुछ समय बाद एरोबिक्स क्लास को ज्वॉइन कर सकती हैं। ज़ुम्बा जैसे कम प्रभाव वाले एरोबिक्स और डांस वर्कआउट क्लासेस आपके हृदय गति को बढ़ाने और आपको और आपके बच्चे को फिट रखने का काम करती है। डांस वर्कआउट को आराम से करने की कोशिश करें और हो सके तो आप किसी ट्रेनर की मदद लें।

अस्वीकरण: सलाह सहित इस लेख में सामान्य जानकारी दी गई है। यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है।अधिक जानकारी के लिए आज ही अपने फोन में आयु ऐप डाउनलोड कर घर बैठे विशेषज्ञ  डॉक्टरों से परामर्श करें। स्वास्थ संबंधी जानकारी के लिए आप हमारे हेल्पलाइन नंबर 781-681-11-11 पर कॉल करके भी अपनी समस्या दर्ज करा सकते हैं। आयु ऐप हमेशा आपके बेहतर स्वास्थ के लिए कार्यरत है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.