fbpx

Epileptic Seizure Symptoms in Hindi: मिर्गी (दौरे) के लक्षण, मिर्गी का दौरा आने पर क्या करें

Epileptic Seizure Symptoms in Hindi: मिर्गी (दौरे) के लक्षण, मिर्गी का दौरा आने पर क्या करें

मिर्गी का दौरा आना एक तरह का न्यूरोलॉजिकल डिसऑर्डर है इसे अंग्रेजी में एपिलेप्सी (Epilepsy) कहते है। इसमें रोगी को बार-बार दौरे आते है। यह आमतौर पर तभी आते है जब मस्तिष्क में किसी तरह की गड़बड़ी होती है। अक्सर दौरे के दौरान व्यक्ति का दिमागी संतुलन गड़बड़ाता है जिससे शरीर लड़खड़ाने लगता है। आपको जानकर हैरानी होगी कि मिर्गी एक बीमारी की वजह से नहीं होती यह अनेक बिमारियों की वजह से हो सकता है।

मिर्गी का दौरा आने पर क्या करें: What to do when you have epileptic Seizure:

  • सबसे पहले अगर आपने टाइट कपड़ें पहने है तो ढीला कर लें।
  • शांत रहने की कोशिश करें।
  • मरीज को करवट लेकर लिटा दें।
  • मरीज के आसपास भीड़ ना लगाएं। मरीज को हवा आने दें।
  • मरीज के हाथ-पैरों की मालिश ना करें।
  • मरीज के शरीर के अकड़े हुए अंगों को जबरदस्ती सीधा करने की कोशिश ना करें।
  • मरीज के मुँह में कुछ भी ना डालें।
  • मरीज को कुछ ना पिलाएं, ना ही कुछ खिलाएं।
  • 5-6 मिनट में मरीज होश में ना आए तो डॉक्टर के पास ले जाएं क्योंकि अगर उसी अवस्था में दोबारा दौरा पड़ गया तो घातक हो सकता है।

मिर्गी के लक्षण: Symptoms of Epilepsy in Hindi:

  • भूलने की बिमारी होना
  • किसी चीज़ में ध्यान नहीं लगा पाना
  • सुनने में असमर्थ
  • आवाज़ अजीब या अलग हो जाना
  • असामान्य बदबू आना (अक्सर रबर से बदबू आना)
  • सामान्य स्वाद ना आना
  • दृष्टि की हानि या देखने में असमर्थ होना
  • सही से दिखाई ना देना
  • शरीर के अंगों को लगता है या अलग दिखता है
  • घबराहट की भावना, भय होना
  • सुखद भावनाएं

शारीरिक लक्षण:

  • बात करने में कठिनाई होना
  • निगलने में असमर्थ होना
  • बार-बार पलकें झपकने से आँखें एक तरफ चली जाती है
  • मूवमेंट या मांसपेशियों की टोन में कमी (हिलने-डुलने में असमर्थ, गर्दन और सिर में तनाव का कम होना, शरीर में मांसपेशियों की टोन का नुकसान और व्यक्ति फिसल सकता है या आगे गिर सकता है)
  • कठोर या तनावपूर्ण मांसपेशियों (शरीर या पूरे शरीर का हिस्सा तनाव महसूस कर सकता है)
  • होंठों का फटना या चबाने की क्रिया
  • हाथों का बार-बार हिलना, जैसे हाथ मिलाना, हाथों में बटन या वस्तुओं से खेलना, लहराते हुए रहना
  • चलना या दौड़ना
  • व्यक्ति अपना होश खो सकता है, शरीर कठोर या तनावपूर्ण हो जाता है, फिर तेज झटकेदार हलचलें हो सकती है
  • यूरिन या स्टूल पर कंट्रोल खोना
  • पसीना आना
  • त्वचा के रंग में बदलाव आना
  • रोगी सामान्य से पतला या मोटा हो सकता है
  • दांतों की मांसपेशियों में कसाव होना
  • सांस लेने मे तकलीफ होना

मिर्गी के कारण: Causes of Epilepsy in Hindi:

  • स्ट्रोक
  • ब्रेन का ट्यूमर
  • ब्रेन इंफेक्शन, जैसे न्यूरोकिस्टीरोसिस
  • दर्दनाक ब्रेन की चोट या सिर की चोट
  • ब्रेन को ऑक्सीजन का नुकसान
  • कुछ आनुवंशिक विकार
  • अन्य तंत्रिका संबंधी रोग (जैसे अल्जाइमर रोग)

मिर्गी के दौरे बंद करने के लिए क्या करें?: How to stop Epileptic Seizure in Hindi:

  • जिन कारणों से दौरा पड़ने की आशंका रहती है, उनसे खासतौर से बचें।
  • मिर्गी रोगी को तैराकी, ड्राइविंग, खतरनाक मशीनों पर काम करने से बचना चाहिए।
  • नियमित रूप से और नियमित समय पर दवा का सेवन करें और जब तक डॉक्टर ना कहे, उपचार बंद ना करें।
  • व्रत न रखें, शराब का सेवन ना करें, देर रात तक ना जागें।
  • 7-8 घंटे की नींद जरूर लें।

मिर्गी का परीक्षण: Epileptic Seizure Diagnosis in Hindi:

इलेक्ट्रोएन्सेफलोग्राम (ईईजी): यह आम टेस्ट है। इसमें आपका डॉक्टर आपके सिर पर सेंसर लगाता है जो आपके ब्रेन में विद्युत गतिविधि (इलेक्ट्रिक एक्टिविटी) को रिकॉर्ड करता है। अगर वह आपके सामान्य ब्रेन वेव पैटर्न में बदलाव देखते है, तो यह मिर्गी का एक लक्षण है। डॉक्टर आपको रिकॉर्ड करने के लिए वीडियो पर देख सकते है कि मिर्गी के दौरान आपका शरीर कैसे प्रतिक्रिया करता है।

कम्प्यूटरीकृत टोमोग्राफी (सीटी) स्कैन: यह आपके ब्रेन की छवियों को बनाने के लिए एक्स-रे का इस्तेमाल करता है। यह आपके डॉक्टर को ट्यूमर, ब्लडस्राव और अल्सर जैसे अन्य मिर्गी कारणों का पता लगाने में मदद करता है।

ब्लड टेस्ट: वे डिस्काउंट अन्य कारणों को भी छूट देने में मदद करते है, जैसे आनुवंशिक स्थिति या इंफेक्शन।

मैगनेटिक रिसोनेंस इमेजिंग (एमआरआई): यह आपके डॉक्टर को आपके ब्रेन की संरचना को देखने देता है। यह क्षतिग्रस्त ऊतक (डैमेज टिशू) दिखा सकता है जो दौरे को बताता है। टेस्ट के लिए, आप एमआरआई मशीन के अंदर एक टेबल पर लेट जाएं, जो एक सुरंग की तरह है।

फंक्शनल एमआरआई (एफएमआरआई): इस प्रकार का एमआरआई दिखाता है कि जब आप बोलते है, मूव करते है या कुछ काम करते है तो आपके ब्रेन का कौन सा हिस्सा अधिक ऑक्सीजन का इस्तेमाल करता है। अगर आपके डॉक्टर को आपरेशन करने की जरुरत होती है तो उन क्षेत्रों को बचाने में मदद मिलती है।

मैगनेटिक रिसोनेंस स्पेक्ट्रोस्कोपी (एमआरएस): एमआरआई की तरह, एमआरएस एक इमेज बनाता है। यह डॉक्टर को तुलना करने में मदद करता है कि आपके ब्रेन के विभिन्न भाग कैसे काम करते है। एमआरआई के विपरीत, यह एक बार में आपके पूरे ब्रेन को नहीं दिखाता। यह केवल ब्रेन के उन हिस्सों पर केंद्रित रहता है जिसका आपका डॉक्टर अधिक अध्ययन करना चाहते है।

पोजीट्रान एमिशन टोमोग्राफी (पीईटी स्कैन): इस टेस्ट के लिए, डॉक्टर आपकी बांह में एक रेडियोधर्मी सामग्री को एक नस में इंजेक्ट करता है। तब यह आपके ब्रेन में इकट्ठा होता है। यह आपके ब्रेन के किन हिस्सों में कम या ज्यादा ग्लूकोज का इस्तेमाल करके नुकसान की जाँच करने में मदद करता है। पीईटी स्कैन आपके डॉक्टर को आपके ब्रेन की कैमेस्ट्री में बदलाव देखने और समस्याओं का पता लगाने में मदद करता है।

एकल-फोटॉन इमीशन कम्प्यूटरीकृत टोमोग्राफी (SPECT): यह दो-भाग टेस्ट आपके डॉक्टर को यह पता लगाने में मदद करता है कि आपके ब्रेन में दौरे कहाँ से शुरू होते है। पीईटी स्कैन के साथ, डॉक्टर ब्लड प्रवाह दिखाने के लिए एक छोटी मात्रा में रेडियोधर्मी सामग्री (रेडियोएक्टिव मैटेरियल) को एक नस में इंजेक्ट करता है।

अस्वीकरण: सलाह सहित इस लेख में सामान्य जानकारी दी गई है। अधिक जानकारी के लिए आज ही अपने फोन में आयु ऐपडाउनलोड कर घर बैठे विशेषज्ञ डॉक्टरों से परामर्श करें। स्वास्थ संबंधी जानकारी के लिए आप हमारे हेल्पलाइन नंबर 781-681-11-11 पर कॉल करके भी अपनी समस्या दर्ज करा सकते हैं। आयु ऐप हमेशा आपके बेहतर स्वास्थ के लिए कार्यरत है। 

CATEGORIES
Share This

COMMENTS

Wordpress (0)
Disqus ( )