चंद्र ग्रहण से गर्भवती महिलाएं की सेहत पर हो सकता है ये नुकसान | Lunar Eclipse

शेयर करें

16 जुलाई आषाढ़ पूर्णिमा यानि आज राज को इस साल का दूसरा चंद्र ग्रहण लगने वाला है। यह एक आंशिक चंद्र ग्रहण होगा जिसे भारत के कुछ हिस्सों को छोड़ कर पूरे भारत में देखा जा सकता है। 

आमतौर पर चंद्र ग्रहण एवं सूर्य ग्रहण एक खगोलीय घटना है जो प्रत्येक वर्ष घटित होती है। इन्हें खुली आंखों से सीधे देखना काफी हानिकारक माना जाता है। हालांकि यह बात सत्य है लेकिन सूर्यग्रहण को नंगी आंखों से देखना नुकसानदायक होता है ना कि चंद्रग्रहण को। हिंदू धर्म में चंद्र ग्रहण को लेकर कई पौराणिक मान्यताएं हैं। खासतौर पर गर्भवती महिलाओं को इस दौरान सावधानी बरतने की सलाह दी जाती है। चंद्र ग्रहण गर्भवती महिलाओं के लिए दूसरे लोगों की तुलना में अधिक नुकसानदेह माना जाता है।ज्योतिष के अनुसार, चंद्र ग्रहण का 12 राशियों पर प्रभाव पड़ता है, जिससे व्यक्ति का जीवन भी प्रभावित होता है। , खासकर गर्भवती महिलाओं को विशेष ध्यान रखना होता है।क्योकि  महिलाओं को कुछ खास नियमों का ध्यान रखना पड़ता है। दरअसल ग्रहण के दौरान गर्भ में पल रहे बच्चे पर बुरा असर होने का डर होता है। इसलिए गर्भवती महिलाओं को चंद्र ग्रहण के दौरान सावधानी बरतनी चाहिए

क्या होता है आंशिक चंद्र ग्रहण?

आंशिक चंद्र ग्रहण तब होता है जब सूरज और चांद के बीच पृथ्‍वी घूमते हुए आती है, लेकिन वे तीनों एक सीधी लाइन में नहीं होते। ऐसी स्थिति में चांद की छोटी सी सतह पर पृथ्‍वी के बीच के हिस्‍से की छाया पड़ती है, जिसे अंब्र कहते हैं। चांद के बाकी हिस्‍से में पृथ्‍वी के बाहरी हिस्‍से की छाया पड़ती है, जिसे पिनम्‍ब्र कहते हैं। इस दौरान चांद के एक बड़े हिस्‍से में हमें पृथ्‍वी की छाया नजर आने लगती है।

किस समय दिखेगा आंशिक चंद्र ग्रहण?

चंद्र ग्रहण कुल 2 घंटे 59 मिनट का होगा। भारतीय समय के अनुसार चंद्र ग्रहण 16 जुलाई को आधी रात के बाद खग्रास चंद्रग्रहण लगेगा, जो भारत में दिखाई देगा। इसका स्पर्श रात 1.31 बजे शुरू होगा और 17 जुलाई की सुबह 4 बजकर 30 मिनट पर समाप्‍त हो जाएगा।चंद्र ग्रहण का सूतक काल ग्रहण के समय से 9 घंटे पूर्व ही प्रारंभ हो जाता है। इस दिन चंद्रमा पूरे देश में शाम 6 बजे से 7 बजकर 45 मिनट तक उदित हो जाएगा इसलिए देश भर में इसे देखा जा सकेगा। लेकिन देश के पूर्वी क्षेत्र में स्थित बिहार, असम, बंगाल और ओड़िसा में ग्रहण की अवधि में ही चंद्र अस्‍त हो जाएगा।

ग्रहण के दुष्‍प्रभाव से बचने के लिए क्‍या उपाय करें?

वैसे तो ग्रहण के पीछे वैज्ञानिक कारण हैं, लेकिन धार्मिक मान्‍यताओं में ग्रहण का विशेष महत्‍व है। ग्रहण काल को अशुभ माना गया है। सूतक की वजह से इस दौरान कोई भी धार्मिक कार्य नहीं किया जाता है।चंद्र ग्रहण का 12 राशियों पर प्रभाव पड़ता है, जिससे व्यक्ति का जीवन भी प्रभावित होता है। ऐसे समय में व्यक्ति को ईश्वर का स्मरण करना चाहिए , धार्मिक मान्‍यताओं में विश्‍वास रखने वाले लोग ग्रहण के वक्‍त शिव चालिसा का पाठ कर सकते हैं। साथ ही ग्रहण खत्‍म होने के बाद नहाकर गंगा जल से घर का शुद्धिकरण किया जाता है। फिर पूजा-पाठ कर दान-दक्षिणा देने का विधान है।

गर्भवती महिलाएं क्‍यों रहें चंद्र ग्रहण से दूर

चंद्र ग्रहण के दौरान चांद धरती के काफी करीब होता है और साथ ही इसका गुरुत्‍वाकर्षण भी तेज होता है। ऐसे में गर्भवती महिलाओं को इस बात की हिदायत दी जाती है कि वह चांद को ना देखें। दरअसल चंद्र ग्रहण के समय गर्भवती महिलाओं की बॉडी में हॉर्मोनल चेंज आ सकते हैं। इसमें बेचैनी, सिरदर्द, पसीना आना, इमोशनल होना वगैरह शामिल हैं। चंद्र ग्रहण महिला के ब्‍लड प्रेशर पर भी असर डाल सकता है।

Read More : SUPERFOOD FOR PREGNANCY | जानें गर्भावस्था के सुपरफ़ूड

होने वाले बच्चे की सेहत पर पड़ता है सीधा असर

चंद्र ग्रहण के दौरान गर्भवती महिलाओं को घर से बाहर नहीं निकलना चाहिए। गर्भवती महिला अगर चंद्र ग्रहण देख ले तो उसका असर होने वाले शिशु पर पड़ता है और वह शारीरिक और मानसिक रूप से कमजोर हो जाता है। 

ग्रहण के दौरान और बाद इन बातों का रखें ध्यान:

  • चंद्रग्रहण पर दान पुण्य करना चाहिए इसका अधिक लाभ मिलता है। जब ग्रहण शुरू हो तब थोड़ा-सा अनाज और कोई पुराना पहना हुआ कपड़ा निकालकर अलग रख दें और जब ग्रहण समाप्त हो जाये तब उस कपड़े और अनाज को आदर के  साथ किसी सफाई-कर्मचारी को दान कर दें।
  • सूतक काल में पूजा-पाठ करने से बचना चाहिए। 
  • जिन चीजों को फेंका नहीं जा सकता उन खाने पीने की चीजों में तुलसी की पत्ती डाल दें।
  • गर्भवती स्त्रियों को ग्रहण काल घर से बाहर नहीं निकलना चाहिए। अपने हाथ में चाकू-कैंची या कोई भी धारदार चीज न लें, न ही कुछ काटने का प्रयास करें। ग्रहण के दौरान कोशिश करे खड़ी रहे, लेटना या हाथ-पैर मोड़ कर न बैठें।ग्रहण के समय निकलने वाली नकारात्मक किरणें माता और शिशु के स्वास्थ्य को नुकसान पहुंचा सकती हैं। 
  • ग्रहण के समय खाना खाने से भी बचना चाहिए। इस दौरान ग्रहण किया गया भोजन अशुद्ध हो जाता है। 
  • घर में यदि कोई लंबे समय से बीमार है तो ग्रहण के बाद घी और खीर से हवन करने पर लाभ मिलेगा। 
  • चंद्रमा कमजोर स्थिति में है तो ‘ऊं चंद्राय नम:’ मंत्र का जाप करने से लाभ मिलेगा।
  • ग्रहण के दौरान प्राणायाम और व्यायाम करना चाहिए। सोच को सकारात्मक रखना चाहिए।
  • ग्रहण समाप्त होने के बाद घर में गंगाजल का छिड़काव अवश्य करें।
  • ग्रहण खत्म होने के तुरंत बाद स्नान करना चाहिए। उसके बाद जिन चीजों को आप दान करना चाहते हो तो उन्हें स्पर्श कर रख दें और अगले दिन दान कर दें।

ज्योतिषिओं द्वारा राशिफल में विश्वास रखने वाले व्यक्तियों को सलाह :

जानें किस राशि पर कैसा होगा ग्रहण का असर

मेष राशि :- गृह एवं वाहन सुख वृद्धि ,घबराहट ,सीने की तकलीफ। 

वृष राशि : पराक्रम वृद्धि,धार्मिक कार्यो पर खर्च,क्रोध में वॄद्धि।

मिथुन राशि : वाणी में तीव्रता ,पैर में चोट या दर्द,विद्या में वृद्धि ,शत्रु विजय ,पेट की समस्या ।

कर्क राशि : स्वास्थ्यगत समस्या ,सम्मान एवं नौकरी में वृद्धि ,विद्या वृद्धि,शत्रु विजय।

सिंह राशि : गृह एवं वाहन सुख वृद्धि ,मनोबल एवं स्वास्थ्य अचानक कमजोर ,खर्च वृद्धि ।

कन्या राशि : दाम्पत्य सुख वृद्धि ,पराक्रम वृद्धि ,विद्या में अवरोध ,आय के साधनों में वृद्धि।

तुला राशि : धन वृद्धि ,सीने की तकलीफ, पराक्रम वृद्धि शरीरिक कष्ट । 

वृश्चिक राशि : मनोबल एवं स्वास्थ्य में वृद्धि ,धन वृद्धि एवं खर्च वृद्धि ,विद्या में अवरोध।

धनु राशि : धनागम के नए स्रोत ,पैर में चोट या दर्द ,विद्या वृद्धि, पेट एवं पेशाब संबंधित समस्या ।

मकर राशि : यात्रा पर खर्च,दाम्पत्य में अवरोध ,वरिष्ठ अधिकारियों एवं लोगो से मतभेद, आलस्य,आय में वृद्धि।

कुम्भ राशि : शत्रु विजय,व्यक्तित्व में वृद्धि,सम्मान में वृद्धि,आँख की दिक्कत,राजनीतिक लाभ।

जानें कैसे गर्भवती महिलाएं घर बैठे रख सकती है अपने स्वास्थ्य का ख्याल:

अब ईलाज और डॉक्टर से परामर्श के लिए नहीं जाना पडेग़ा दूर। मेडकॉर्ड्स ऐप से घर बैठे लें सर्वश्रेस्ठ डॉक्टरों से ई – परामर्श और सलाह। साथ ही करें समय और धन की बचत।

अभी डाउनलोड करें : मेडकॉर्ड्स ऐप

शेयर करें

One Reply to “चंद्र ग्रहण से गर्भवती महिलाएं की सेहत पर हो सकता है ये नुकसान | Lunar Eclipse”

Leave a Reply

Your email address will not be published.