सेहत साथी ऐप पर इलाके के लोगों से दवाइयों के ऑर्डर लें

Sehat Sathi

आज भारत कोरोना वायरस से लड़ने में ऐसी स्टेज पर खड़ा है जहां हम उसे स्टेज 2 से 3 में जाने से बचा सकते हैं। लगभग समस्त जिलों में सरकारों ने लॉकडाउन किया है। ताकि हम इस सबको बचा सकें। इस लॉकडाउन की स्थिति सभी मेडिकल स्टोर भाई भारत से कोरोना की इस लड़ाई में एक ज़बरदस्त योगदान दे सकते हैं।

कोरोना वायरस से लड़ने में करें योगदान

आपसे एक विनम्र अपील है कि आप अभी इस जानकरी को ज्यादा से ज्यादा शेयर करें और बाकि मेडिकल स्टोर्स भाइयों को भी बताएं की कैसे वो इस लड़ाई में महायोगदान दे सकते हैं।चूंकि ज्यादातर लोग अपने घरों में ही बंद हैं, उनको कोई भी अगर तकलीफ होती है खासकर अगर गांव में हैं तो वो शहर भी नहीं आ सकते दिखाने के लिए।
सरकार के सभी डॉक्टर्स 24 घंटे निरन्तर लगे हुए हैं।

विशेषज्ञ डॉक्टरों से मिलेगा परामर्श

इस सबके बीच आप सेहत साथी ऐप डाउनलोड करके, अपने गांव के या शहर के लोगों को उसकी मदद से, विशेषज्ञ डॉक्टरों से सामान्य बीमारी के लिए घर बैठे परामर्श भी दिला सकते हैं। उससे उनको शहर जाने की जरूरत नहीं पड़ेगी। और आप वहीं से उनको दवाईं भी दे पाएंगे। इसके अलावा अगर आपका मेडिकल शहरी इलाके में है, तो भी आप बहुत बड़ा योगदान दे सकते हैं।

कोरोना से लड़ने में पॉजिटिव भूमिका

चूंकि लोगों को कम से कम बाहर निकलने के लिए कहा गया है। ताकि संक्रमण ना फैले। लाखों लोग अपने आयु ऐप की मदद से डॉक्टरों द्वारा लिखी गई दवाइयों की प्रिसक्रिप्शन मेडिकल स्टोर को सेहत साथी ऐप पर भेज रहे हैं। मेडिकल स्टोर वो दवाइयां अपने नज़दीकी इलाके के लोगों को भिजवा सकते हैं। ये करने से हम बहुत ही ज्यादा कारगर साबित होंगे , पूरे देश में इस महामारी से लड़ने के लिए क्योंकि लोगों का आवागमन बचेगा और हम एक बहुत ही पॉजिटिव भूमिका निभा पाएंगे।

हर महीने 75000 रूपये तक कमाएं सेहत साथी बनकर। मेडिकल स्टोर वाले बन रहे हें सेहत साथी । Sehat Sathi

डाउनलोड करें सेहत साथी ऐप

आप सभी मेडिकल भाइयों से सविनम्र निवेदन है कि एक बार आप सेहत साथी ऐप डाउनलोड कर लें । यह ऐप बनाया ही इसलिए गया है ताकि हम भारत को आगे भी स्वस्थ जीवन, लोगों को बेहतर स्वास्थ दे सकें। हमारा उद्देश्य भी यही है की मेडिकल स्टोर्स जो असली सेहत साथी हैं आप लोगों की सेवा कर पाएं और साथ ही आपकी आमदनी भी बढ़े।

Leave a Reply

Your email address will not be published.