CORONAVIRUS: डायमंड प्रिंसेस क्रूज से 119 भारतीयों का रेस्क्यु, जापानी डॉक्टर्स ने दी सलाह

Coronavirus

कोरोना वायरस से चीन में मौतों का आंकड़ा लगातार बढ़ रहा है। 26 फरवरी को 29 और लोगों की मौत की पुष्टि हुई है, इसके बाद मरने वालों की संख्या बढ़कर 2,744 हो गई है। राष्ट्रीय स्वास्थ्य आयोग के मुताबिक कोेरोना वायरस से संक्रमित 433 नए मामले सामने आए हैं। इनमें से 24 के अलावा सभी हुबेई प्रांत में सामने आए हैं, जिसकी राजधानी वुहान से पिछले साल दिसम्बर से यह वायरस फैलना शुरू हुआ था. देश में अभी इसके कुल 78,500 मामले हैं।

कोरोना वायरस से  81,200 लोग संक्रमित 

अब तक दुनियाभर में कोरोना वायरस के 81,200 मामलों की पुष्टि हुई है। जिसमें से 2,750 से भी अधिक लोगों की मौत हो चुकी है। कोरोना वायरस के कारण ईरान और रूस ने अपने यहां वीजा नियमों को कड़ा कर दिया है। टूरिस्ट वीजा नहीं दिए जा रहे हैं। यदि कोई बिजनेस के सिलसिले में इन देशों की यात्रा करना चाहता है या मामला मानवता से जुड़ा है तभी वीजा जारी किया जा रहा है।

दुनिया के लिए असंभव “कोरोना वायरस” का इलाज, अब सिर्फ भारत में

वहीं जापान, फ्रांस और दक्षिण कोरिया में इसके नए मामले सामने आए हैं। दक्षिण कोरिया में कोरोना वायरस संक्रमण के 334 नए मामले सामने आने के बाद इससे संक्रमित लोगों की संख्या बढ़कर गुरुवार को 1,595 हो गई। कोरोना वायरस के खतरे के चलते अमेरिका और दक्षिण कोरिया सेना ने अपने आगामी संयुक्त अभ्यास को 27 फरवरी को स्थगित कर दिया।  ‘कम्बाइंड फोर्सेज कमांड’ ने कहा कि वायरस को लेकर सियोल के बेहद गंभीर स्तर का अलर्ट घोषित करने के बाद यह निर्णय किया गया।

जापानी शिप में 16 लोग कोरोना वायरस से संक्रमित

वहीं भारतीय विदेश मंत्रालय ने जानकारी दी है कि जापान के डाममंड प्रिंसेज जहाज में 138 भारतीयों में से 16 का टेस्ट रिपोर्ट पॉजीटिव आया है। इन सभी को जापान में जरूरी मेडिकल सुविधा और चिकित्सा प्रदान की जा रही है। भारत ने 27 फरवरी की सुबह चीन से 76 तो वहीं जापान से 119 भारतीय नागरिकों का रेस्क्यू किया है। दिल्ली एयरपोर्ट पर उतरने के बाद सबकी थर्मल स्क्रीनिंग की गयी और इसके बाद उन्होंने आईटीबीपी की विशेष सुविधा वाले कैंप में रखा गया है।

COVID-19 विशेषज्ञों की सलाह

कोरोना वायरस से बचने के लिए COVID-19 मामलों का इलाज करने वाले जापानी डॉक्टरों की सलाह है कि आपका मुँह और गला कभी सूखा न हो। डॉक्टर्स के मुताबिक कम से कम हर 15 मिनट में कुछ घूंट पानी पी लें। क्योंकि अगर कोरोना का वायरस आपके मुँह में जाता भी है तो पानी या अन्य तरल पेय पदार्थ जैसे की जूस इस वायरस को पेट में ही खत्म कर देंगे। मगर जब आप नियमित समय पर पानी नहीं पीते हैं तो कोरोना वायरस आपके विंडपाइप और फेफड़ों में प्रवेश कर सकता है। जो कि बहुत खतरनाक है।

https://blog.medcords.com/suspected-case-of-coronavirus-reported-in-rajasthan/

बतादें, नए एनसीपी कोरोनावायरस कई दिनों तक संक्रमण का संकेत नहीं दिखाते। ऐसे में कोई कैसे जान सकता है कि वह संक्रमित है? जब तक उन्हें बुखार या खांसी होती है और वह अस्पताल जाते हैं तक तक उस व्यक्ति के फेफड़े तकरीबन 50 प्रतिशत तक फाइब्रोसिस हो जाते हैं और बहुत देर हो चुकी होती है। 

कोरोना वायरस पर ताइवान डॉक्टर्स की सलाह

इसके लिए ताइवान के विशेषज्ञों ने एक साधारण आत्म परिक्षण बताया है जिसे हम हर सुबह आसानी से कर सकते हैं। जो इस प्रकार है एक गहरी सांस लें जिसे 10 सेकंड से अधिक समय तक रोककर रखें। यदि आप इस क्रिया को बिना खांसी और बिना असुविधा के कर लेते हैं तो यह साबित करता है कि आपके फेफड़ों में फाइब्रोसिस (संक्रमण) नहीं है।


Leave a Reply

Your email address will not be published.