विटामिन-डी से कोरोना कैसे है जुड़ा हुआ | Daily Health Tip | Aayu App

deficiency of vitamin-D

विटामिन-डी की कमी से कई तरह की बीमारियां हो सकती है जैसे कि ह्रदय रोग, मेटाबोलिक सिंड्रोम आदि। शरीर में विटामिन-डी की कमी हो गई है तो आप मशरूम, सूरजमुखी के बीज आदि चीज़ों का सेवन कर सकते है।

Vitamin-D deficiency can lead to problems like heart diseases, metabolism syndrome etc. For Vitamin-D, you should eat mashroom, sunflower seed etc. “

Health Tips for Aayu App

ऐसा देखा गया है कि जिन देशों में विटामिन-डी की कमी है वहाँ मौतों का आंकड़ा भी ज़्यादा है।

विटामिन-डी के लाभ:

SARS-CoV2 वायरस को प्रो-इंफ्लामेट्री साइटोकिन्स की अधिकता के कारण जाना जाता है यानि कि इस वायरस के वजह से शरीर में साइटोकिन्स अधिक बनने लगते है। मरीज के फेफड़ों में सूजन व म्यूकस बनने लगता है जिस वजह से सांस लेने में परेशानी होती है। स्थिति गंभीर होने पर मरीजों को बैक्टीरियल निमोनिया होने का खतरा बढ़ जाता है। वहीं, विटामिन डी शरीर में वाइट ब्लड सेल्स को मॉड्यूलेट करता है जिससे कि इंफ्लामेट्री साइटोकिन्स को अधिक मात्रा में रिलीज होने से रोकने में मदद करता है।

विटामिन-डी की कमी से होने वाले रोग:

विटामिन डी की कमी से डिमेंशिया या मनोभ्रंश होने का जोखिम बढ़ सकता है। विटामिन डी की अधिक कमी वाले लोगों में डिमेंशिया होने की संभावना ज़्यादा हो जाती है। भारत में विटामिन-डी अच्छी मात्रा में पाया जाता है लेकिन फिर भी भारत में विटामिन-डी की कमी बहुत पाई जाती है।

विटामिन डी शरीर की हर कोशिका को प्रभावित करता है। यह सूर्य के प्रकाश में रहने पर त्वचा में उत्पन्न होता है, और कैल्शियम के अवशोषण तथा हड्डियों के स्वास्थ्य के लिए आवश्यक है। विटामिन डी का लेवल कम होने पर हड्डियों को नुकसान पहुंचता है हालांकि, यह विटामिन दिल, मस्तिष्क और प्रतिरक्षा तंत्र के लिए भी उतना ही महत्वपूर्ण है।

विटामिन-डी की कमी से मैटाबोलिक सिंड्रोम, हृदय रोग और प्रजनन क्षमता से जुड़ी बीमारियां हो सकती है।

विटामिन डी 2 हमें खाद्य पदार्थो से मिलता है, जबकि विटामिन डी 3 सूर्य की रोशनी पड़ने पर हमारे शरीर में उत्पन्न होता है। डी 2 हमें भोजन से मिलता है, लेकिन डी 3 का उत्पादन सूर्य के प्रकाश में ही होता है।

विटामिन डी की कमी के कई कारण है। भारत में प्रचुर मात्रा में धूप उपलब्ध रहती है, फिर भी बहुत से लोग इस चीज़ से अनजान है कि उन्हें विटामिन डी की कमी हो सकती है।

विटामिन-डी के अच्छे स्रोत:

कॉड लिवर ऑयल: यह तेल कॉड मछली के जिगर से प्राप्त होता है और सेहत के लिए बेहद अच्छा माना जाता है। यह जोड़ों के दर्द को कम करने में मदद करता है और इसे कैप्सूल या तेल के रूप में प्रयोग किया जा सकता है।

मशरूम: यदि आपको मशरूम पसंद है, तो आपको विटामिन डी भरपूर मिल सकता है। यह विटामिन डी 3 के साथ-साथ विटामिन बी का भी अच्छा स्रोत है। इनमें कम कैलोरी होती है और इन्हें जब चाहे खाया जा सकता है।

सूरजमुखी के बीज: इनमें ना केवल विटामिन डी-3, बल्कि मोनोअनसैचुरेटेड वसा और प्रोटीन भी भरपूर मात्रा मेें होता है।

यह लेख केवल सामान्य जानकारी के लिए है। यह किसी भी तरह से किसी दवा या इलाज का विकल्प नहीं हो सकता। ज्यादा जानकारी के लिए हमेशा आयु ऐप (AAYU App) पर डॉक्टर से संपर्क करें.

फ्री हैल्थ टिप्स अपने मोबाइल पर पाने के लिए अभी आयु ऐप डाऊनलोड करें । क्लिक करें  

Leave a Reply

Your email address will not be published.