फ्लू और सामान्य जुकाम में फर्क पहचानें ,जानें बचने के उपाय | INFLUENZA

शेयर करें

फ्लू (Influenza) और सामान्य जुखाम के अंतर को बताना अक्सर मुश्किल होता है क्योंकि दोनों के लक्षण समान होते हैं। लेकिन फ्लू को पहचानने का एक संकेत है कि सामान्य जुखाम कि तुलना में Influenza के लक्षण जल्दी महसूस होते है, और वे बहुत अधिक तीव्रता के साथ आते हैं।

फ्लू (Influenza) के लक्षण क्या हैं?

फ्लू (Influenza) होने पर आप 2 या 3 सप्ताह तक बहुत कमजोर और थके हुए महसूस करते हैं। इसमें आपको:

  • बुखार का अचानक से आना और चले जाना
  • नाक का भरना
  • सिरदर्द
  • गले में दर्द जैसे लक्षण होते है
किसी भी स्वास्थ्य समस्या के लिए आज ही “Aayu” ऐप डाउनलोड करें

निम्नलिखित संकेत यह निर्धारित करने में आपकी सहायता कर सकते है कि आपको जुखाम या फ्लू के लक्षण हैं या नहीं –

  • जुखाम में आमतौर पर हल्का बुखार आता है, लेकिन फ्लू में 100-102 F या उससे अधिक तेज़ बुखार होता है जो कि 3-4 दिन तक रहता है।
  • जुखाम में हल्का सामान्य दर्द रहता है, लेकिन फ्लू (Influenza) में 3 से 4 सप्ताह तक गंभीर दर्द रह सकता है।
  • जुखाम में थकावट महसूस नहीं होती, बल्कि फ्लू कि शुरुआत में थकावट होती है।
  • जुखाम में नाक का बहना सामान्य है, फ्लू में ऐसा होना जरूरी नही है।
  • जुखाम में गले मे खराश होना सामान्य है, फ्लू में ऐसा कभी कभी होता है।
  • जुखाम में छाती में दर्द, खांसी सामान्य या ज्यादा हो सकती है, लेकिन फ्लू में यह परेशानिया गंभीर रूप ले सकती है।
  • जुखाम में नाक में जमाव जैसे हल्की जटिलताएं होती है, लेकिन फ्लू में साइनसाइटिस, निमोनिया जैसे खतरनाक रोग हो सकते है।
  • जुखाम एवं फ्लू (Influenza) से बचाव के लिए अक्सर हाथ धोएं एवं संक्रमित लोगो से दूर रहे। टीकाकरण  हर साल करवाएं।

मेडकॉर्ड्स (MedCords) डॉक्टर के अनुसार, फ्लू (Influenza) के लक्षणों को रोकने लिए सबसे महत्वपूर्ण उपाय अक्सर हाथ धोना होता है।  हाथ धोने के अलावा, आप मौसमी इन्फ्लूएंजा को रोकने के लिए टीकाकरण भी करवाएं। एंटीवायरल दवा भी फ्लू को रोकने में मदद करती है।

ध्यान रखें — अपने नज़दीकी डॉक्टर से परामर्श करके ही कोई भी एंटीवायरल दवा लें।

INFLUENZA | साधारण फ्लू (इन्फ़्लुएन्ज़ा) कैसे बन सकता है बड़ी परेशानी? जानें

क्या आप या आपके घर में कोई फ्लू से बीमार है?

फ्लू (Influenza) के लक्षणों को कम करने के कुछ प्राकृतिक तरीके आप घर पर आज़मा सकते है। जैसे कि :

  • घर पर रहें और आराम करें

अगर आपको फ्लू (Influenza) के लक्षण हैं, तो अपना काम करने की जगह या स्कूल में बताएं कि आप कुछ दिनों तक वहाँ नहीं आ पाएंगे क्यूंकि आप बीमार है और आपको आराम की जरूरत है।अच्छे से घर पर रहकर आराम करें|

  • बहुत सारे तरल पदार्थ पीएं

फ्लू के लक्षण होने पर आपको खूब तरल पदार्थ पीना चाहिए, और सुनिश्चित करें की तरल पदार्थ में सिर्फ पानी नहीं होना चाहिए – उसमे फलो के रस, सूप, दाल इत्यादि भी शामिल होना चाहियें।

  • भाप में सांस लें

एक बर्तन में पानी गर्म करके उसमे मेन्थॉल या नीलगिरी तेल की कुछ बूंदे डालकर उसकी भाप में सांस ले। वे आपके नाक एवं गले के वायुमार्ग खोलते हैं, जिससे आपको सांस लेने में आसानी होती है।

  • अपनी खांसी का ख्याल रखें एवं गरम पानी और नमक से गरारा करें जो आपके गले की ख़राश को कम करने में सहायता करता है।

यदि आपमें निम्न में से कोई भी लक्षण है, जैसे कि :

  1. आपके कान में दर्द या पानी निकलना
  2. एक हफ्ते से अधिक समय तक गाढ़ा पीले रंग के बलगम बनने के साथ आपके चेहरे या माथे में दर्द होना
  3. 3 महीने से कम आयु के शिशु में तापमान 100.4 °F या उससे अधिक होना
  4. बड़े बच्चों या वयस्कों में 102 °F से अधिक तापमान
  5. गले में दर्द, या काफी समय से खांसी होना
  6. सांस लेने में परेशानी होना
  7. उल्टी

आयु है आपका सहायक

अगर आपके घर का कोई सदस्य लंबे समय से बीमार है या उसकी बीमारी घरेलू उपायों से कुछ समय के लिए ठीक हो जाती है, लेकिन पीछा नहीं छोड़ती है तो आपको तत्काल उसे डॉक्टर से दिखाना चाहिए. क्योंकि कई बार छोटी बीमारी भी विकराल रूप धारण कर लेती है. अभी घर बैठे स्पेशलिस्ट डॉक्टर से “Aayu” ऐप पर परामर्श लें . Aayu ऐप डाउनलोड करने के लिए नीचे दी गई बटन पर क्लिक करें.

शेयर करें

One Reply to “फ्लू और सामान्य जुकाम में फर्क पहचानें ,जानें बचने के उपाय | INFLUENZA”

Leave a Reply

Your email address will not be published.