राजस्थान सरकार ने तय की सीटी स्कैन की दरें, मनमानी वसूली पर लगेगी रोक

सीटी स्कैन CT-Scan

कोरोना बीमारी में सीटी स्कैन (CT-Scan) की उपयोगिता को देखते हुए राजस्थान सरकार ने बड़ा फैसला लिया है। प्रदेश में कोरोना संक्रमण के शिकार व अन्य मरीज़ों को अब सीटी स्कैन जांच के मनमाने शुल्क चुकाने से मुक्ति मिलेगी।

स्वास्थ्य मंत्री रघू शर्मा के निर्देश पर प्रदेश में कोरोना मरीज़ों में फेफड़ों के गंभीर संक्रमण की निजी चिकित्सालयों व जांच प्रयोगशालाओं को एचआर सिटी स्कैन (CT-Scan) जांच का  शुल्क निर्धारित किया गया है। इसके लिए सरकार ने निजी प्रयोगशालाओं के लिए भी 1700 रुपये की फीस तय की है। इससे अधिक फीस लेने वालों पर सरकार कड़ी कार्रवाई करेगी। 

चिकित्सा विभाग के प्रमुख शासन सचिव अखिल अरोरा ने 30 सितंबर (बुधवार) को  एचआर सिटी स्कैन (CT-Scan) जांच शुल्क के संबंध में आदेश जारी कर दिए हैं। जिसके अनुसार नॉन-एनएबीएच-एनएबीएल लैब में एचआरसीटी स्कैन जांच के लिए 1700 रुपए एवं एनएबीएच-एनएबीएल लैब में एचआर सिटी स्कैन जांच के लिए 1955 रुपए शुल्क निर्धारित किया गया है। 

ये दरें तत्काल प्रभाव से लागू हो गई हैं। निर्धारित दरों से अधिक शुल्क लेने पर संबंधित निजी चिकित्सालय व जांच प्रयोगशाला के विरुद्ध कड़ी कार्रवाई के लिए संबंधित अधिकारियों को निर्देशित किया है।

बतादें, मुख्यमंत्री श्री गहलोत ने प्रदेश के मंत्रियों के साथ वीडियो कांफ्रेंस करके कई मुद्दों पर चर्चा की। प्रदेश में 2 अक्टूबर गांधी जयंति से स्वास्थ्य के प्रति गांधीजी के सपने को साकार करने की दिशा में लोगों को जागरूक करने लिए जन आंदोलन किया जाएगा।  जिसमें लोगों को मास्क वितरण, और कोरोना वायरस से बचाव के तरीकों को बताया जाएगा। 

 एचआर सिटी स्कैन है कारगर

अध्ययन में सामने आया कि इस कोरोना महामारी (Corona pandemic) से निदान के लिए  प्राथमिक उपचार के रुप में चेस्ट सीटी स्कैन (CT Scan) परीक्षण ज्यादा कारगर और प्रभावी है। सीटी स्कैन (CT Scan) परीक्षण के ज्यादा सकारात्मक परिणाम सामने आए हैं। 

सीटी स्कैन क्यों किया जाता है – What is the purpose of CT Scan in Hindi

रोगी को कोरोना संक्रमण के लक्षण न होने पर भी अगर फेफड़ों की समस्या, सांस लेने में तकलीफ़ आदि होने पर डॉक्टर एचआर सीटी स्कैन टेस्ट का सुझाव दे रहे हैं। 

सीटी स्कैन (CT Scan) कराने पर रोगी के फेफड़ों की स्थिति और किसी अन्य बीमारी के होने का पता चल जाता है। सीटी स्कैन कई स्थितियों में किया जाता है 

सीटी स्कैन (CT Scan) के कई उपयोग होते हैं, लेकिन यह बीमारियों के निदान और चोटों का मूल्यांकन करने के लिए विशेष रूप से बहुत ही अच्छा होता है। इसकी इमेजिंग तकनीक आपके डॉक्टर की मदद कर सकती है –

जैसे- 

  • संक्रमण का निदान, मांसपेशी विकार और हड्डी के फ्रैक्चर
  • ट्यूमर (कैंसर सहित) के स्थान के बारे में जानने के लिए
  • रक्त वाहिकाओं और अन्य आंतरिक संरचनाओं का अध्ययन
  • आंतरिक चोटों और आंतरिक रक्तस्राव की मात्रा का आकलन
  • कैंसर और हृदय रोग सहित कुछ चिकित्सा स्थितियों के उपचार के प्रभाव की निगरानी करें।

यह टेस्ट करवाने में बहुत कम समय लगता हैं। इसको करने में किसी भी तरह से शरीर को छेदा नहीं जाता।

लेटेस्ट हेल्थ अपडेट और घर बैठे विशेषज्ञ डॉक्टर से परामर्श करने के लिए अभी डाउनलोड करें ‘आयु ऐप’

Leave a Reply

Your email address will not be published.