Latest Health updates: कोविड-19 वैक्सीन के प्रयासों के लिए WHO ने की भारत की सराहना

कोविड-19 वैक्सीन Covid-19 vaccine

Covid-19 vaccine: कोविड-19 वैक्सीन को लेकर भारत द्वारा किए जा रहे प्रयासों की विश्व स्वास्थ्य संगठन ने सराहना की। विश्व स्वास्थ्य संगठन (World Health Organisation) के प्रमुख टेड्रोस एडनोम घेब्रयासस (Tedros Adhanom Ghebreyesus) ने बुधवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी  (PM Narendra Modi) को Covax के प्रति उनकी प्रतिबद्धता और Covid-19 वैक्सीन बन जाने पर दुनिया भर के लिए उसकी उपलब्धता की बात करने को लेकर धन्यवाद दिया। 

1. WHO ने की भारत की सराहना

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के प्रमुख ने एक ट्वीट में लिखा कि ‘मैंने COVAX के प्रति मजबूत प्रतिबद्धता और COVID-19 वैक्सीन्स को ग्लोबल बनाने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को धन्यवाद दिया। यह महामारी दुनिया के लिए एक अभूतपूर्व चुनौती है और हमने इसे खत्म करने के लिए कंधे से कंधा मिलाकर लड़ने को सहमति जताई है।

Who प्रमुख ने एक अन्य ट्वीट में लिखा, ‘पारंपरिक चिकित्सा के क्षेत्र में दुनिया भर में ज्ञान, शोध और प्रशिक्षण की आसान पहुंच के लिए पारस्परिक सहयोग को और मजबूत करने को लेकर हुई बातचीत के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का नमस्ते। WHO ग्लोबल हेल्थ और यूनिवर्सल हेल्थ कवरेज में भारत की अग्रणी की भूमिका का स्वागत करता है।’

जानकारी के मुताबिक, पीएम मोदी ने स्वास्थ्य संगठन के प्रमुख को 13 नवंबर को आर्युवेद दिवस पर ‘Ayurveda for COVID-19’ की थीम के तहत किए जा रहे आयोजन की भी बात की। 

2. Covaxin के ट्रायल में AMU वीसी बने पहले वॉलेंटियर

Coronavirus Vaccine: कोविड-19 की भारत बायोटेक द्वारा बनाई जा रही वैक्सीन ‘कोवैक्सीन’ (Covaxin)के तीसरे चरण का चिकित्सीय परीक्षण शुरू हो गया है। जानकारी के मुताबिक, कोरोनावायरस वैक्सीन ‘कोवैक्सीन’ (Covaxin) भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद (ICMR) के सहयोग से फार्मास्युटिकल फर्म भारत बायोटक (Bharat Biotech) द्वारा विकसित की जा रही है। 

अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी (AMU) के वाइस चांसलर ने मंगलवार (10 नवंबर) को पहले वॉलेंटियर के तौर पर अपना नाम रजिस्टर्ड करवाया है। यूनिवर्सिटी के जवाहर लाल लेहरू मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल में यह चिकित्सीय परीक्षण होना है। यूनिवर्सिटी के वाइस चांसलर प्रोफेसर तारिक़ मनसूर ने अन्य लोगों को भी ट्रायल में भाग लेने के लिए प्रोत्साहित किया है। 

प्रोफेसर मनसूर ने ट्वीट कर इसकी जानकारी दी है और लोगों से सहभागिता बढ़ाने की अपील की है।

यूनिवर्सिटी प्रवक्ता ने कहा है कि वैक्सीन के तीसरे चरण के परीक्षणों से गुजरने वाले स्वयंसेवकों को आईसीएमआर के दिशा-निर्देश के अनुसार यात्रा व्यय और अन्य लाभ प्राप्त होंगे।

लेटेस्ट कोरोना वायरस अपडेट्स और किसी भी बीमारी से संबंधित विशेषज्ञ डॉक्टर से परामर्श के लिए डाउनलोड करें ”आयु ऐप’। 

Leave a Reply

Your email address will not be published.