COVID-19 pandemic : वैज्ञानिकों ने सुझाए व्यवहार बदलने के तरीके, तनाव होगा कंट्रोल

COVID-19 pandemic- change the behaviour during coronavirus pandemic

COVID-19 pandemic: वैज्ञानिकों ने ऐसे तरीके बताए हैं जिनके द्वारा लोग COVID-19 महामारी के दौरान जीवन के अनुकूल होने के लिए अपने व्यवहार को बदल सकते हैं, ऐसे सुझाव जो नस्ल के आधार पर संचारित पूर्वाग्रह, फेक न्यूज़ से निपटने और तनाव को बेहतर ढंग से प्रबंधित करने में मदद कर सकते हैं। 

द जर्नल नेचर ह्यूमन बिहेवियर में प्रकाशित एक रिपोर्ट, कोविड-19 से जुड़ी घटनाओं पर ध्यान केंद्रित करती है। रिपोर्ट में  भीड़ तंत्र, फर्जी समाचार,सामाजिक मानदंड़ों,तनाव और नकल सहित कई क्षेत्रों को जोड़कर अध्ययन किया गया। 

जर्नल में प्रकाशित रिपोर्ट में कहा गया है कि संकट से निपटने के लिए सबसे अधिक जरूरत अपने व्यवहार में परिवर्तन लाना है, इस समय लोगों पर मनोवैज्ञानिक बोझ बढ़ रहा है, कोरोना महामारी के चलते लंबे समय से चल रहे लॉकडाउन ने लोगों को मनोवैज्ञानिक रुप से कमज़ोर बना दिया है, खासतौर पर अमेरिका में। 

वैज्ञानिकों के सुझाव (Scientists outline during COVID-19 pandemic)

  • कोरोनावायरस महामारी (COVID-19 pandemic) ने धार्मिक, नस्लीय और जातीय पूर्वाग्रह को कम करने के अवसर प्रस्तुत किए हैं। 
  • वैज्ञानिकों ने शोध के बाद सरकारों और जनता से समन्वित प्रयासों से बीमारी के प्रसार को रोकने में मदद करने को कहा है।
  • अध्ययन में कम्यूनिटी ट्रांसमिशन के संकेत मिले हैं, इसे कम करने के लिए प्रयास किया जाना चाहिए।
  • फर्जी खबरों के खतरे को प्रभावी ढंग से रोकने के लिए इनके प्रसारण पर रोक लगानी चाहिए।
  • लोगों को सोशल मीडिया पर फैली तमाम अफ़वाहों से दूर रहने के लिए जागरुक करें।
  • कोविड-19 (Covid-19) के खतरे को कम करना है तो लोगों में ज्यादा से ज्यादा जागरुकता और आवश्यकता की चीजें उपलब्ध करवाई जाएं। 
  • सोशल मीडिया पर एक समूह में साझा की जाने वाली जानकारी पर नज़र रख सकते हैं। 

तनाव होगा कंट्रोल

शोधकर्ताओं ने अध्ययन में लिखा है, “लोगों का बदलाव सामाजिक और सांस्कृतिक संदर्भ के पहलुओं से कितना प्रभावित होगा”। उन्होंने कहा ” लोग सामाजिक मानदंडों का पालन करते हैं और सांस्कृतिक मेल कभी-कभी गंभीर परिणाम दे सकते हैं,” 

एक उदाहरण का हवाला देते हुए, वैज्ञानिकों ने कहा कि बाहर जाने वाले लोगों के समाचार उदाहरणों के निरंतर संपर्क से यह स्पष्ट होता है कि 11 मार्च के COVID-19 लॉकडाउन के बाद इटालियंस को घर पर रहना मुश्किल था।

“लेकिन वे यह भी रिपोर्ट करते हैं कि सामाजिक परिवेश की इन विशेषताओं को समझना, जैसे कि सामाजिक मानदंड, सामाजिक असमानता, संस्कृति और ध्रुवीकरण, जोखिम कारकों और सफल संदेशों और हस्तक्षेपों की पहचान करने में मदद कर सकते हैं,”

वैज्ञानिकों ने सौंपी रिपोर्ट तनाव का कारण फेक न्यूज़

शोधकर्ताओं के अनुसार हमारे निर्णय दूसरों के स्वीकार करने और न करने पर टिके होते हैं। लोग उचित और अनुचित का भेद करने के लिए दूसरों का व्यवहार देखते हैं। यह प्रभाव तब ज्यादा महत्वपूर्ण होता है जब वे किसी चीज के बारे में अनिश्चित होते हैं, जैसा कि कोरोनावायरस महामारी (COVID-19 pandemic) के दौरान हुआ। लोगों ने इसे गंभीरता से नहीं लिया और परिणाम आज सबके सामने हैं।

टेलीमेडिसिन की बढ़ी डिमांड

इस महामारी में डिजिटलीकरण बढ़ा है जो कई मायनों में सही है जैसे कि गंभीर बीमारी से पीड़ित व्यक्ति को ऑनलाइन डॉक्टर से परामर्श और इलाज़ मिल जाना, टेलीमेडिसिन की डिमांड बढ़ना।

दूसरी सबसे बड़ी बात महामारी के दौर में युवाओं ने वृद्ध और बूजुर्गों की उपेक्षा की है, जाहिर है युवा पीड़ी टैकनॉलॉजी का इस्तेमाल अधिक करती है, युवाओं को इस समय को अपने बूजुर्गो के साथ बिताना चाहिए। उन्हें टैक्नोलोजी सिखानी चाहिए और बूजुर्गो से उनके जीवन का अनुभव। 

“पहले के शोध से प्राप्त ज्ञान को लागू करने से, हम आशा करते हैं कि सार्वजनिक स्वास्थ्य विशेषज्ञ प्रभावी ढंग से संवाद करने और वैश्विक लाभ प्राप्त करने वाले तरीके से व्यवहार में बदलाव लाने के लिए बेहतर होंगे।”

ये भी पढ़ें

आयु है आपका सहायक

कोरोना वायरस के प्रकोप के चलते आज विश्व टेलीमेडिसिन को अपना रहा है। भारत के प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने भी आमजन से टेलीमेडिसिन को अपनाने की बात कही है। किसी भी सामान्य बीमारी में आप विशेषज्ञ डॉक्टरों से घर बैठे आयु ऐप के माध्यम से परामर्श कर सकते हैं। इसके अलावा आयु ऐप पर डॉक्टरों द्वारा प्रमाणित स्वास्थ संबंधी तमाम अपडेट प्राप्त कर सकते हैं। आयु ऐप डाउनलोड करने के लिए नीचे दिए लिंक पर क्लिक करें।

Read Also: होम क्वारंटाइन में टेलीमेडिसिन की डिमांड, सरकारी ने शुरु की ये सेवाएं

Leave a Reply

Your email address will not be published.