Covid-19 Effect On Sperm: कोविड-19 से स्पर्म क्वालिटी और फर्टिलिटी का खतरा, जानें फर्टिलिटी बढ़ाने के 5 आसान उपाय

Covid-19 Effect On Sperm

Covid-19 Effect On Sperm: कोविड-19 से लोगों पर पड़ने वाले प्रभाव को लेकर नई- नई जानकारी सामने आ रही हैं। एक स्टडी में दावा किया गया है कि कोविड-19 पुरुषों में स्पर्म क्वालिटी को डैमेज कर सकता है। साथ ही इससे फर्टिलिटी (प्रजनन क्षमता) भी कम हो सकती है। 

1. कोविड-19 से स्पर्म क्वालिटी और फर्टिलिटी का खतरा

इस स्टडी में शोधकर्ताओं ने दावा किया है कि कोविड-19 से स्पर्म क्वालिटी और फर्टिलिटी को (Covid-19 Effect On Sperm) खतरा हो सकता है। कोरोना स्पर्म सेल डेथ, सूजन और ऑक्सीडेटिव तनाव का कारण बन सकता है। 

इस वायरस का असर लोगों की सेहत पर सबसे ज्यादा पड़ा है। एक नए अध्ययन के मुताबिक COVID 19 पुरुषों में शुक्राणुओं की संख्या को प्रभावित कर सकता है, जो पुरुषों में बांझपन का कारण बन रहा है। 

पुरुषों में, प्रजनन क्षमता को प्रभावित करने वाले कुछ सामान्य कारकों में एरक्टाइल डिस्फंक्शन, टेस्टोस्टेरॉन लेवल, स्पर्म मॉटिलिटी काउंट और लिबिडो जैसे कुछ सामान्य कारक पुरुषों में इंफर्टिलिटी के लिए जिम्मेदार है।

जर्नल रीप्रोडक्शन में प्रकाशित एक अध्ययन के मुताबिक कोरोना वायरस स्पर्म सेल्स डेथ, इन्फ्लेमेशन और ऑक्सीडेटिव स्ट्रेस का कारण बन सकता है। ऐसे में इसके प्रति सतर्कता बरतना जरूरी है। कुछ चीजों में बदलाव लाकर स्पर्म क्वालिटी और फर्टिलिटी को बूस्ट किया जा सकता है। 

आयु ऐप से घर बैठे किसी भी स्वास्थ्य समस्या के लिए विशेषज्ञ डॉक्टर से परामर्श लें। क्लिक करें👇

Online Doctor Consultation through Aayu App
Online Doctor Consultation through Aayu App

2. फर्टिलिटी बढ़ाने के 5 आसान उपाय

  • स्पर्म काउंट बढ़ाने के लिए संतुलित आहार बहुत जरूरी है।
  • जीवन शैली में सुधार करें
  • नियमित रूप से एक्सरसाइज 
  • मानसिक तनाव को करें दूर
  • अश्वगंधा का सेवन

(i) `संतुलित आहार लें

फर्टिलिटी बढ़ाने के लिए संतुलित आहार लेना चाहिए। संतुलित आहार स्वस्थ और लंबे जीवन की कुंजी है। स्वस्थ आहार स्वस्थ शुक्राणुओं की संख्या को बनाए रखने में मदद कर सकता है। स्पर्म काउंट बढ़ाने के लिए विटामिन सी, डी और जिंक से भरपूर खाद्य पदार्थ लें।

(ii) नियमित रूप से एक्सरसाइज 

Covid-19 के पुरुषों के स्पर्म क्वालिटी (Covid-19 Effect On Sperm) पर पड़ने वाले प्रभाव को कम करने के लिए नियमित रुप से एकसरसाइज करनी चाहिए। पुरुषों में कोरना के अलावा भी अन्य कारण से भी स्पर्म क्वालिटी और प्रजनन क्षमता प्रभावित होती है।

एक स्टडी के अनुसार, इनमें शारीरिक रूप से एक्टिव नहीं रहना भी एक प्रमुख कारण है। इसको नियमित एक्सरसाइज करके दूर किया जा सकता है। एक्सरसाइज से पुरुषों में टेस्टोस्टेरॉन हार्मोन में बढ़ता है, जिससे इस समस्या से छुटकारा मिल सकता है। 

(iii) मानसिक तनाव से बचें

कोविड -19 के स्पर्म क्वालिटी (Covid-19 Effect On Sperm) पर पड़ने वाले प्रभाव को कम करने के लिए पुरुषों को मानसिक तनाव से बचना चाहिए। खराब मानसिक स्वास्थ्य पुरुषों के यौन स्वास्थ्य को प्रभावित कर सकता है। लंबे समय तक तनाव की स्थिति में रहने से पुरुषों में प्रजनन क्षमता को नुकसान हो सकता है। इससे टेस्टोस्टेरोन लेवल को नुकसान पहुंच सकता है। ऐसे काम करें जो आपको तनाव मुक्त करने में मदद करते हैं और आपको खुश और तनाव मुक्त महसूस करते हैं। 

(iv) अश्वगंधा का सेवन

एक अध्ययन में समाने आया है कि covid-19 के स्पर्म क्वालिटी पर पड़ने वाले प्रभाव (Covid-19 Effect On Sperm) को कम करने के लिए अश्वगंधा का सेवन करना चाहिए। अश्वगंधा से फर्टिलिटी बढ़ सकती है। अश्वगंधा के सेवन से स्पर्म काउंट और टेस्टोस्टेरॉन हार्मोन के स्तर को बढ़ाया जा सकता है। 

और पढ़ें- स्पर्म काउंट बढ़ाने के आसान उपाय

(v) हेल्दी डाइट

हेल्दी डाइट संपूर्ण स्वास्थ्य के लिए अच्छी होती है। एक्सपर्ट के अनुसार, अगर आप कोविड-19 के स्पर्म क्वालिटी (Covid-19 Effect On Sperm) पर पड़ने वाले प्रभाव को कम करने या स्पर्म काउंट मैंटेन रखने के लिए हेल्दी डाइट का सेवन करना चाहिए। इसमें विटामिन-सी, डी और जिंक जैसे न्यूट्रीएंट वाली डाइट इसमें फ़ायदेमंद रहती है। ऐसे में स्पर्म काउंट को बढ़ाने वाले पोषक तत्वों को डाइट में शामिल करना चाहिए। 

(vi) जीवन शैली में सुधार करें

पुरुषों को स्पर्म क्वालिटी में सुधार के लिए जीवन शैली में सुधार करना चाहिए। लाइफस्टाइल में सुधार करके आप कोविड-19 के स्पर्म क्वालिटी (Covid-19 Effect On Sperm) पर पड़ने वाले प्रभआव को रोक सकते हैं। खराब नींद, शराब और धूम्रपान का सेवन टेस्टोस्टेरोन के स्तर को नुकसान पहुंचा सकता है। पर्याप्त नींद लें और अपनी स्पर्म क्वालिटी को बढ़ाने के लिए धूम्रपान और शराब का सेवन करने से परहेज करें। 

3. मेल इनफर्टिलिटी के कारण

पुरुषों में प्रजनन क्षमता (इनफर्टिलिटी) को प्रभावित करने वाले कुछ सामान्य कारकों में स्तंभन दोष, टेस्टोस्टेरोन का लेवल, स्पर्म मोटीलिटी, स्पर्म काउंट और लिबिडो जैसे कारक शामिल हैं। एक नए अध्ययन में पाया गया है कि कोरोना वायरस स्पर्म काउंट (Covid-19 Effect On Sperm) को प्रभावित कर सकता है और पुरुषों में इनफर्टिलिटी को जन्म दे सकता है।

और पढ़ें- पिता नहीं बन पाने के 3 बड़े कारण

एक अंग्रेजी समाचार पत्र टीओआई की एक रिपोर्ट के अनुसार, जर्नल रिप्रोडक्शन में प्रकाशित शोध में पाया गया कि कोरोना वायरस से स्पर्म सेल डेथ, इन्फ्लेमेशन और ऑक्सीडेटिव स्ट्रेस बढ़ सकता है।

विशेषज्ञों के अनुसार, इन प्रभावों में समय के साथ सुधार होता है, लेकिन ये कोरोना रोगियों में असामान्य रूप से अधिक रहते हैं। यह भी कहा जाता है कि रोग की गंभीरता शुक्राणु स्वास्थ्य को बदलने में महत्वपूर्ण योगदान कारक है।

कुछ पुराने अध्ययनों से पता चला है कि कोरोना संक्रमण पुरुष प्रजनन अंगों को संक्रमित कर सकता है, शुक्राणु कोशिका के विकास को बाधित कर सकता है और प्रजनन हार्मोन को बाधित कर सकता है। यह पाया गया कि फेफड़े के उतकों तक पहुंचने के लिए वायरस द्वारा उपयोग किए जाने वाले समान रिसेप्टर्स अंडकोष में पाए गए थे।

4. अध्ययन

अध्ययन के लिए, 105 स्वस्थ पुरुषों के डेटा की तुलना में 10 दिनों के अंतराल में कोरोना से पीड़ित 84 पुरुषों के डेटा की तुलना की गई। कोरोना के मरीज़ों में शुक्राणु कोशिकाओं ने इन्फ्लेमेशन और ऑक्सीडेटिव स्ट्रेस को बढ़ाने का काम किया। यह एक रासायनिक असंतुलन है जो शरीर में डीएनए और प्रोटीन को नुकसान पहुंचा सकता है।

Disclaimer-

ब्लॉग डॉट मेड्कॉर्ड्स पर आपको कोविड-19 के प्रभाव, इससे बचाव के उपाय और कोरोना वैक्सीन से संबंधित तमाम जानकारी मिलेगी, जिसे आप आयु ऐप डाउनलोड करके भी पढ़ सकते हैं। यहां हमने कोरोनावायरस पर एक सीरीज़ चलाई है।

आज हमने इस लेख में हाल ही में कोविड-19 से स्पर्म क्वालिटी और फर्टिलीटी पर पड़ने वाले प्रभाव (Covid-19 Effect On Sperm) पर हुए अध्ययन का विस्तार से जिक्र किया है। इसके अलावा फर्टिलिटी बढ़ाने के उपाय भी बताएं हैं। उम्मीद है यह जानकारी आपके काम आएगी। विशेषज्ञ डॉक्टरों द्वारा दी जाने वाली स्वास्थ्य जानकारी फोन पर पाने के लिए अभी डाउनलोड करें आयु ऐप।

Leave a Reply

Your email address will not be published.