Coronavirus Vaccine update : कोरोनावायरस वैक्सीन जॉनसन एंड जॉनसन की सिंगल डोज फायदेमंद , जानें इसके मायने

Coronavirus vaccine johnson and johnsons

Coronavirus Vaccine Johnson & Johnsons: कोरोनावायरस वैक्सीन जॉनसन एंड जॉनसन के बेहतर नतीजे सामने आए हैं। जानसेन फार्मास्युटिकल कंपनी की कोरोनावायरस वैक्सीन जॉनसन एंड जॉनसन (Coronavirus Vaccine Johnson & Johnsons) की  सिंगल-डोज वैक्सीन अमेरिका में हुए फेज-3 क्लीनिकल ट्रायल्स में 66 फीसदी तक फायदेमंद साबित हुई है। 

1. कोरोनावायरस वैक्सीन जॉनसन एंड जॉनसन बन सकती है गेमचेंजर

कोरोनावायरस वैक्सीन जॉनसन एंड जॉनसन (Coronavirus Vaccine Johnson & Johnsons) की सिंगल डोज के ट्रायल्स 8 देशों के करीब 37 हजार वॉलंटियर्स पर किए गए। अगर कमर्शियल इस्तेमाल के लिए अप्रूवल मिला तो यह दुनिया की पहली सिंगल-डोज वैक्सीन होगी।

मालूम हो, अब तक दुनिया में 10 वैक्सीन को अप्रूवल मिला है। इनमें सभी दो डोज वाली वैक्सीन है, जिसमें दूसरा डोज बूस्टर के तौर पर इस्तेमाल हो रहा है। ऐसे में जॉनसन एंड जॉनसन की कोरोनावायरस वैक्सीन (Coronavirus Vaccine) गेमचेंजर बन सकती है।   

आयु ऐप से किसी भी स्वास्थ्य समस्या के लिए अभी ऑनलाइन परामर्श लें। क्लिक करें 👇

Online Doctor Consultation through Aayu App
Online Doctor Consultation through Aayu App

2. अप्रूवल मिलते ही शुरू हो जाएगी जॉनसन एंड जॉनसन की डिलीवरी

जॉनसन एंड जॉनसन अपनी वैक्सीन (Coronavirus Vaccine Johnson & Johnsons) के लिए फरवरी में अमेरिका में इमरजेंसी इस्तेमाल की अनुमति मांग सकती है और अप्रूवल मिलते ही अप्रूवल मिलते ही शुरू हो जाएगी जॉनसन एंड जॉनसन की डिलीवरी। कंपनी ने कहा कि अमेरिकी में आपातकालीन प्रयोग के लिए वह एक हफ्ते के अंदर आवेदन देगी और फिर विदेशों में आवेदन किया जाएगा।

इसके अलावा कंपनी को उम्मीद है कि अमेरिका में मंजूरी मिलते ही इसकी खेप बाहर भी भेजना शुरू कर दी जाएगी। अमेरिका के फूड एंड ड्रग एडमिनिस्ट्रिेशन (एफडीए) ने पिछले महीने आपातकालीन प्रयोग के लिए कोरोना के दो टीकों को मंजूरी प्रदान की थी।

3. टीकाकरण से महामारी को रोकने में मिलेगी मदद: WHO

विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के महानिदेशक टेड्रोस अधनोम घेब्रेयेसस ने कहा कि टीकाकरण से महामारी को काबू करने में मदद मिलेगी। साथ ही उन्होंने यह भी चिंता जताई है कि अगर टीका वितरण ठीक तरह से नहीं किया गया तो इससे असमानता बढ़ेगी।

उधर, यूरोपीय आयोग ने एस्ट्राजेनेका और ऑक्सफ़ोर्ड द्वारा विकसित की गई कोरोनावायरस वैक्सीन के इस्तेमाल को सशर्त मंजूरी प्रदान कर दी है। वियतनाम ने भी एस्ट्राजेनेका के टीके को मंजूरी प्रदान कर दी है।

4. कैसे बनी है जॉनसन एंड जॉनसन की कोरोनावायरस वैक्सीन 

आइए जानते हैं कैसे बनी है जॉनसन एंड जॉनसन की कोरोनावायरस वैक्सीन –

जॉनसन एंड जॉनसन की कोरोनावायरस वैक्सीन (Coronavirus Vaccine Johnson & Johnsons) को अपने एडवैक वैक्सीन प्लेटफॉर्म पर बनाया है। इस प्लेटफॉर्म का इस्तेमाल इससे पहले इबोला, जीका आरएसवी और एचआईवी इन्वेस्टिगेशनल वैक्सीन के लिए भी कर चुका है। जानसेन के एडवैक वेक्टर्स विशेष तरह के एडेनोवायरस हैं, जिन्हें जेनेटिक तौर पर बदला गया है। यह इंसानों के शरीर में अपनी संख्या नहीं बढ़ाते और इस वजह से बीमारी का कारण नहीं बनते।

ये भी पढ़ें

डिस्क्लेमर-

इस लेख में हमने आपको कोरोनावायरस वैक्सीन के बारे में जानकारी दी, जो उम्मीद है आपको पसंद आएगी। अब तक जितनी भी वैक्सीन बनी हैं उनके दो डोज लेने अनिवार्य हैं अगर जॉनसन एंड जॉनसन Covid-19 वैक्सीन को अप्रूवल मिलता है तो कोरोना की यह सिंगल डोज वैक्सीन गेमचेंजर साबित होगी।

इसी तरह की रोज़ाना स्वास्थ्य जानकारी अपने फोन पर पाने के लिए अभी डाउनलोड करें आयु ऐप। इस ऐप की मदद से आप किसी भी सामान्य बीमारी के लिए भारत के टॉप स्पेशलिस्ट डॉक्टरों से घर बैठे ऑनलाइन परामर्श ले सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.