Corona Brief News: कोरोना संक्रमण को रोकने वाल नेजल स्प्रे तैयार, भारत में कोरोना की सबसे सस्ती दवा लांच

Coronavirus Inhaler Nasal Sprays launch

कोरोना वायरस के संक्रमण के खतरे को बढ़ने से रोकने के लिए अमेरिकी वैज्ञानिकों ने ऐसा इनहेलर बनाया है, जो कोरोना को रोकने में पीपीई से भी ज्यादा सुरक्षा देगा। इस बीच फार्मा कंपनी जायडस कैडिला ने गिलियड साइंसेज की एंटीवायरल दवा रेमडेसिविर का सबसे सस्ता जेनरिक वर्जन भारत में लॉन्च कर दिया है।

1.कोरोना के संक्रमण को फैलने से रोकने वाली टैक्नीक तैयार-

कोरोना वायरस को नाक में ही ब्लॉक करने वाला इनहेलर तैयार किया गया है। कैलिफ़ोर्निया यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं ने नेजल स्प्रे ऐरोनैब्स तैयार किया है। इसमें मौजूद नैनोबॉडीज संक्रमण करने वाले कोरोना प्रोटीन को ब्लॉक करती हैं। 

शोधकर्ताओं के मुताबिक, इस इनहेलर में खास तरह की नैनोबॉडीज हैं, जो एंटीबॉडी से तैयार की गईं। ये एंटीबॉडीज लामा और ऊंट जैसे जानवरों में पाई जाती है, जो शरीर को मजबूत इम्युनिटी देती हैं। इनहेलर में मौजूद नैनोबॉडीज को लैब में तैयार किया है। ये जेनेटिकली मॉडिफाइड हैं, जो खासतौर पर कोरोना को ब्लॉक करने के लिए विकसित की गई हैं।

वायरस के संक्रमण को ऐसे रोकता है ये टैक्नीक

Coronavirus Inhaler -Scientists Latest Research On Nasal Sprays
Coronavirus Inhaler -Scientists Latest Research On Nasal Sprays

 जब कोरोना, संक्रमण फैलाने के लिए अपने स्पाइक प्रोटीन से इंसान के ACE2 रिसेप्टर से जुड़ता है तो वहीं पर ये नैनोबॉडीज उसके प्रोटीन को ब्लॉक कर देती है। 

ACE2 रिसेप्टर इंसानी कोशिकाओं की सतह पर पाया जाता है, जिससे कोरोना के संक्रमण का एंट्री पॉइंट है।

2. भारत में कोरोना की सबसे सस्ती दवा लांच

Zydus cadila launches india’s cheapest Remdesivir version

1.कोरोना वायरस के बढ़ते कहर के बीच फार्मा कंपनी डायडस कैडिला ने गिलियड साइंसेज की एंटीवायरल दवा सस्ता जेनरिक वर्जन भारत में लॉन्च कर दिया है। 

2. जायडस कैडिला ने रेमडेसिविर के सस्ते वर्जन रैमडेक की कीमत 2,800 रुपये प्रति 100 मिलीग्राम तय की है। यह सरकारी और निजी अस्पतालों में मरीज़ों के लिए उपलब्ध रहेगा। 

3. बतादें, हिटेरो लैब्स लिमिटेड, सिप्ला, माइलॉन एनवी और जुबिलेंट लाइफ साइंसेज के बाद भारत में एंटीवायरल की कॉपी लॉन्च करने वाली जायडस कैडिला पाँचवीं कंपनी है। अमेरिका की गिलियड साइंसेज़ ने इबोला के इलाज़ के लिए रेमडेसिविर बनाया था। 

4. दरअसल, गिलियड ने रेमडेसिविर दवा बनाने के लिए भारत समेत 127 देशों में लाइसेंस के लिए एग्रीमेंट किया है। इसमें डॉ रेड्डीज लैब और सिंजेन इंटरनेशनल लिमिटेड जैसी कंपनियां शामिल हैं।

3.  हरियाणा के इन पांच गाँवों ने कोविड फंड में दान किए 50 करोड़ रुपए

5 haryana village donate 50 crore rs in fight against covid
  • हरियाणा सरकार के कोविड-19 महामारी के रिलीफ फंड़ में इन गाँवों की तरफ से 50 करोड़ का डोनेशन दिया है। हरियाणा के 7,000 की आबादी वाले पलरा गांव ने रिलीफ फंड को 21 करोड़ दान में दिए हैं, इस गांव में अभी तक बस कोविड का एक ही केस आया है।
  • दान देने वाले इन पांचों गाँवों में कुल मिलाकर कोविड के अभी पांच केस ही सामने आए हैं। बता दें कि ये डोनेशन गांव की पंचायतों ने गाँवों के डेवलपेंट फंड से दिए गए हैं।
  • दरअसल, इन गाँवों को अकसर होते रहने वाले जमीन अधिग्रहण परियोजनाओं के तहत मिलने वाले मुआवजा के चलते फंडिंग की कमी नहीं होती है। पलरा के पास अभी भी 23 करोड़ हैं। 

4. वैक्सीन लॉन्च करने के दो दिन बाद रूस का नया दावा

Russian Corona vaccine

दुनिया की पहली कोरोना वैक्सीन के लॉंच की घोषणा के बाद रूस ने नया दावा पेश किया है। इसे लेकर कहा गया है कि वैक्सीन की एक डोज दो साल तक वायरस से बचाने में कारगर होगी।  रूस सरकार ने साफ किया है कि फिलहाल यह वैक्सीन सिर्फ फ्रंटलाइन कर्मचारियों और दूसरे ज़रूरतमंद लोगों को ही लगाया जाएगा।

बतादें, रूस ने दुनिया की पहली कोरोना वैक्सीन स्पुतनिक वी लांच की है, जिसके बाद इसकी प्रमाणिकता को लेकर शंकाएं जताई जा रही हैं। 

मालूम हो, दुनिया में कोरोनावायरस संक्रमण के अब तक 2 करोड़ 10 लाख 77 हजार 917 मामले सामने आ चुके हैं। इनमें 1 करोड़ 39 लाख 10 हजार 488 मरीज ठीक हो चुके हैं। 7 लाख 53 हजार 394 की मौत हो चुकी है। ये आंकड़े www.worldometers.info/coronavirus के मुताबिक हैं।

लेटेस्ट कोरोना अपडेट्स और किसी भी बीमारी से संबंधित विशेषज्ञ डॉक्टर से परामर्श के लिए डाउनलोड करें ”आयु ऐप’।

Leave a Reply

Your email address will not be published.