Latest Health Update: कोरोना वायरस का स्ट्रेन कितना है खतरनाक जानें

corona virus new strain

भारत में कोरोना वायरस के नए स्ट्रेन मामले जैसे-जैसे बढ़ते जा रहें है वैसे-वैसे लोगों में तनाव का माहौल देखने को मिल रहा है। नया स्ट्रेन कितना खतरनाक है इस मामले में जानने के लिए एम्स के एक डॉक्टर से बात की गई।

जैसा आप जानते है भारत में कोरोना वायरस का नया स्ट्रेन आ चूका है। स्वास्थ्य मंत्रालय ने इसकी जानकारी दी की पिछले दिनों में आए 33 हजार यात्रियों मे से 114 पॉजिटिव आए थे जिसमें से 6 नए स्ट्रेन से पॉजिटिव होते है। इन सबको राज्य सरकार के हैल्थ फैसिलिटी में अलग से आइसोलेट किया गया है।

भारत में भी यूके के कोरोना वायरस के नए वेरिएंट ने दस्तक दे दी है। यूके से आए 6 यात्रियों के जीनोम सीक्यूनेसिंग टेस्ट से इस बात की पुष्टि हुई है। कितना खतरनाक हो सकता है ये यूके के कोरोना वायरस का नया वेरिएंट इस पर एम्स के डॉक्टर से बात की गई।

कितना घातक हो सकता है कोरोना वायरस का नया स्ट्रेन:

जो भी एविडेंस अभी तक सामने आए है उसके मुताबिक ये वायरस जो है इसमे इंफेक्शन ज्यादा तेजी से फैलता है। इसमें इंफेक्शन की गति ज्यादा है। सिवियरिटी ज्यादा करता है इसका कोई एविडेंस नहीं है. तो ज्यादा तेज गति से अगर यह करता है तो कहीं भी आएगा तो ज्यादा तेज गति से होने की संभावना है लेकिन इसका एक दूसरा पहलू यह भी है कि पहले से जिन्हें नेचुरल इंफेक्शन हो चुका है अगर उनमें एंटीबॉडी डिवेलप हुई है वह उससे प्रोटेक्टेड हो. क्योंकि अभी तक हमें नहीं पता कि उससे उसे प्रोटेक्शन है या नहीं।

उसी तरह वैक्सीन के लिए भी काम करेगा या नहीं। लेकिन अभी हम मान कर चल रहे है जो वैक्सीन हम दे रहे है वह काम करेगा। तभी हम मान कर चल रहे है जो नेचुरल इंफेक्शन है वह प्रोटेक्ट करेगा तो उस तेज गति से होने की संभावना बहुत कम है। अगर नहीं प्रोटेक्ट कर रहा है तो तेज गति से हो सकता है। इसके लिए एविडेंस इकट्ठा करने की जरूरत है जो अभी तक इतने नहीं मिले है।

यह तेजी से फैलता है। काफी जगहों पर बड़े शहरों में खासतौर पर मुंबई, चेन्नई इंफेक्शन यहाँ काफी लोगों को हो भी चुका है। अगर हम 25 से 30 फीसदी लोगों को मान ले कि वह इंफेक्शन हो चुका है तो एक पॉपुलेशन इम्यून है। जब पूरी की पूरी पॉपुलेशन एड्रेस कहती है जब कुछ नहीं हुआ होता है तो उस समय बहुत तेजी से फैलता है। उतनी तेजी से फैलने की संभावना कम है।

अगर बिल्कुल ही नया वायरस है और पूरी तरह से नया रूप ले चुका है जिसका की पुराने वाले वायरस से बिल्कुल अलग है तो हो सकता है. पूरे देश में फैल सकता है कुछ भी हो सकता है जिसकी संभावना भी कम है इसलिए घबराने की जरूरत नहीं है।

घबराने की जरूरत नहीं है?

उन्होंने कहा कि “डरने की जरूरत नहीं है इसका मतलब यह नहीं जो सावधानी हम बरत रहे है इसकी रोकथाम के लिए उसको खत्म कर दे। जब तक इसको लेकर कोई एविडेंस नहीं आ जाता तब तक सभी मैसर्स जैसे फ्लाइट बंद करना उनको इन्वेस्टिगेट करना और एविडेंस जनरेट करना और उसके बाद ही एक्शन लेना चाहिए. अब तक जो कदम उठाए गए हैं वह ठीक है और आगे बढ़ते हुए हमें और एविडेंस जमा करने होंगे।

लेटेस्ट कोरोना वायरस अपडेट्स और किसी भी बीमारी से संबंधित विशेषज्ञ डॉक्टर से परामर्श के लिए डाउनलोड करें” आयु ऐप’।    

Leave a Reply

Your email address will not be published.