Latest Health Updates: सिर्फ़ 30 सेकंड में मुँह के अंदर कोरोनावायरस को मार कर सकता है माउथवॉश- रिसर्च

corona virus lasts in 30 seconds

एक स्टडी के अनुसार माउथवॉश के उपयोग से बस 30 सेकंड में मुँह के अंदर कोरोनावायरस को खत्म किया जा सकता है। कार्डिफ यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं का कहना है कि माउथवॉश में खास एलिमेंट होते है जो वायरस को मारने में मदद कर सकते हैं। 

1. माउथवॉश से कोरोना का खात्मा है संभव!

कार्डिफ यूनिवर्सिटी के रिसर्चर्स का दावा है कि माउथवॉश इस्तेमाल करने से कोरोनावायरस का खात्मा मुमकिन है। रिसर्च के दौरान पाया गया कि माउथवॉश से 30 सेकंड के अंदर कोरोनावायरस मर सकता है। हालाँकि इस स्टडी को अभी पब्लिश नहीं किया गया है और ऐसा कोई सबूत नहीं मिला है जिससे ये साबित हो की इसे कोरोना के इलाज के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है। 

रिसर्च से यह भी साफ नहीं हुआ है कि माउथवॉश के इस्तेमाल से वायरस फेफड़ों तक पहुंचेगा या नहीं। रिसर्चर्स का कहना है कि जिन माउथवॉश में कम से कम 0.07 प्रतिशत सेटाइपैराडिनियम क्लोराइड है, वे वायरस से लड़ सकते हैं। आगे के क्लिनिकल ट्रायल में देखा जाएगा कि ओवर-द-काउंटर मिलने वाले माउथवॉश में भी वायरस को ख़त्म करने की ताकत है या नहीं।

2. आईसीएमआर (ICMR) का दावा: प्लाज्मा थेरेपी कारगर नहीं

आईसीएमआर (ICMR) की एक स्टडी के मुताबिक प्लाज्मा थेरेपी से विशेष फ़ायदा नहीं देखा गया है। आईसीएमआर ने देश के 39 सरकारी और प्राइवेट अस्पतालों में कोरोना संक्रमित मॉडरेट मरीज़ो पर एक स्टडी की, जिन्हें प्लाज्मा थेरेपी दी गई थी। 400 से ज़्यादा मरीज़ो पर स्टडी करने के बाद नतीजों में पाया गया कि प्लाज्मा थेरेपी मॉडरेट मरीज़ो पर कुछ खास फ़ायदा नहीं कर रही है। 

आईसीएमआर का कहना है कि चीन और नीदरलैंड में भी ऐसी स्टडी की गई है और उसमें भी यही नतीजे सामने आए है। आईसीएमआर ने अपने दिशा निर्देशों में कहा है कि ऐसे कोरोना मरीज़ जिनमें शुरुआती लक्षण हो, उन्हें प्लाज्मा थेरेपी देने से थोड़ा फ़ायदा हो सकता है। और कहा है की प्लाज्मा थेरेपी उन्हीं मरीज़ो को देनी चाहिए जिनके शरीर में कोरोना से लड़ने वाली एंटीबॉडी कभी न बनी हो। लक्षण शुरू होने के 3 से 7 दिन के अंदर प्लाज्मा थेरेपी मिल जानी चाहिए, अगर 10 दिन बीत चुके हैं तो प्लाज्मा थेरेपी का कोई फायदा नहीं होगा।

लेटेस्ट कोरोना वायरस अपडेट्स और किसी भी बीमारी से संबंधित विशेषज्ञ डॉक्टर से परामर्श के लिए डाउनलोड करें ”आयु ऐप’। 

Leave a Reply

Your email address will not be published.