Corona Vaccine: कोरोना का टीका किस कंडीशन में नहीं लगवाना चाहिए। एक्सपर्ट से जानें कोरोना वैक्सीन से जुड़े ऐसे सवालों के जवाब

Corona Vaccine latest update

Corona Vaccine : भारत में कोरोना का टीकाकरण 16 जनवरी से ही शुरु हो गया, लेकिन अभी हेल्थ वर्कर्स को ही कोरोना वैक्सीन का टीका लगाया जा रहा है। 2 लाख से ज्‍यादा लोगों को अब तक वैक्‍सीन लग चुकी है। हालांकि‍ कोरोना वैक्‍सीन से जुड़े अब भी ऐसे कई सवाल हैं ज‍िनके जवाब लोगों के पास नही हैं। इसको ध्‍यान में रखते हुए इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च के संक्रामक विभाग के प्रमुख ने ट्वीट चैट के जरिए लोगों के सवालों के जवाब द‍िए। आइए जानते हैं वैक्‍सीन से जुड़े 14 जरूरी बातें। 

1. कोरोना वैक्सीन किन लोगों को लगेगी?(Who will get Corona vaccine)

जो लोग लगातार किसी बीमारी का इलाज ले रहे हैं? या गंभीर मेड‍िकेशन पर हैं उन्‍हें वैक्‍सीन नहीं लेनी चाह‍िए। कोरोना वैक्सीन (Corona Vaccine) का ट्रायल अभी तक प्रेंग्नेंट और लैक्‍टिंग मदर्स पर नहीं किया गया है इसलिए उन्हें भी कोरोना वैक्सीन नहीं लगवाने की सलाह दी जा रही है। इसके अलावा जो लोग खून पतला करने के लिए ब्‍लड थ‍िनर्स या इंटर मस्‍कुलर इंजेक्‍शन ले रहे हैं उन्‍हें वैक्‍सीन लगवाने से थोड़ी परेशानी हो सकती है इसल‍िए अगर आप अपनी दवाओं को लेकर कंफ्यूज़ हैं तो डॉक्‍टर से सलाह लें। 

2. कैंसर के मरीज़ लगवा सकते हैं वैक्‍सीन (Corona vaccine can be taken by cancer patients)

अगर किसी व्यक्ति को कैंसर की बीमारी है और उसका इलाज चल रहा है और आप ठीक हैं तो वैक्सीन (Corona Vaccine) लगवा सकते हैं। 

3.स्तनपान कराने वाली माँए लगवा सकती हैं वैक्‍सीन? (Lacting and pregnent women will not be vaccinated)

हमने देखा कोरोना महामारी के समय में गर्भवती महिलाओं को कई परेशानियों का सामना करना पड़ा। इस बीच कई नई जिंदगियों ने दुनिया में कदम भी रखा, जिनमें से कईयों को कोरोना संक्रमण पाया गया। यही वजह रही की अभी तक गर्भवती और स्तनपान कराने वाली महिलाओं पर अभी तक कोरोना वैक्सीन (Corona Vaccine) का ट्रायल नहीं किया गया है। इसलिए डॉक्टर स्तनपान कराने वाली माँओं को वैक्सीन लगवाने की सलाह नहीं दे रहे हैं। जानकारी के मुताबिक, अगले ट्रॉयल तक प्रेगनेंट या लैक्‍ट‍िंग मदर्स को वैक्‍सीन नहीं दी जाएगी। 

4. कोरोना वैक्सीन ब्‍लीडिंग ड‍िस्‍ऑर्डर होने पर न लगवाएं (Avoid vaccine in bleeding disorder)

ब्‍लीडिंग ड‍िस्‍ऑर्डर के मरीज़ों को वैक्‍सीन नहीं लगवानी है। जैसे अगर आपको हीमोफ‍िल‍ीया है तो आपको वैक्‍सीन नहीं लगवानी चाह‍िए। भारत में लगाई जा रही दोनों वैक्‍सीन इंटर मस्‍कुलर इंजेक्‍शन से दी जा रही है इसलि‍ए ब्‍लीडिंग ड‍िस्‍ऑर्डर के मरीज़ों को वैक्‍सीन से मसल्‍स में ब्‍लीड‍िंग हो सकती है। ऐसे मरीज़ वैक्‍सीन अवॉइड करें। अगर आपको एनीम‍िया है तो उसके ठीक होने पर वैक्‍सीन लगवाएं। 

5. एलर्जी की समस्या होने पर न लगवाएं वैक्‍सीन (Avoid vaccine in allergy)

डॉक्टर्स का कहना है कि अगर आप किसी भी प्रकार की एलर्जी से परेशान हैं तो आपको कोरोना वैक्सीन (Corona Vaccine) नहीं लगवानी चाहिए। क्‍योंकि गंभीर एलर्जी के चलते वैक्‍सीन से र‍िएक्‍शन हो सकता है। अपने डॉक्‍टर से सलाह लेकर ही वैक्‍सीन लगवाएं। 

6. डायब‍िटीज़, हाइपरटेंशन या एचआईवी मरीज़ भी वैक्‍सीन लगवा सकते हैं? (Pateints who can take covid vaccine)

जी हां। जो लोग फ‍िज‍िश‍ियन के अंडर अपना ट्रीटमेंट करवा रहे हैं और उन्‍हें बहुत गंभीर समस्‍या नहीं है तो वो ये वैक्‍सीन आराम से लगवा सकते हैं। वैक्‍सीन का कोई साइडइफेक्‍ट मरीज़ पर नहीं होगा। ब्‍लड प्रेशर या ब्‍लड शुगर कंट्रोल है तो कोई परेशानी नहीं होगी।

7. कोविशील्ड और कोवैक्सीन में से कौनसी सुरक्षित है?

मालूम हो, भारत में अब तक कोविशील्ड और कोवैक्सीन को मंजूरी मिली है। वैज्ञानिकों के मुताबिक, दोनों ही वैक्सीन सुरक्षित हैं। गौरतलब है कि सीरम इंस्‍टीट्यूट ऑफ इंड‍़िया की कोव‍िशील्‍ड ऑक्‍सफोर्ड यून‍िव‍र्स‍िटी की मदद से बनाई गई है वहीं कोवैक्‍सीन को भारत बायोटैक ने बनाया है।

ये भी पढ़ें-

डिस्क्लेमर :

कोरोना वैक्सीन का टीका लगना शुरु हो गया है, लेकिन किस कंडीशन में कोरोना का टीका लगवाना चाहिए और किस में नहीं आपको इसकी जानकारी होना जरूरी है। इस लेख में हमने कोरोना के इस विषय पर ही चर्चा की है। अगर आपका इस विषय पर कोई सवाल है या फिर अन्य किसी बीमारी पर स्वास्थ्य जानकारी पाना चाहते हैं तो हमें कमेंट बॉक्स में लिखकर जरूर बताएं।

अगर आप घर बैठे विशेषज्ञ डॉक्टरों से ऑनलाइन परामर्श लेना चाहते हैं या फिर रोज़ाना फोन पर सेहत की जानकारी लेना चाहते हैं तो डाउनलोड करें आयु ऐप।

Leave a Reply

Your email address will not be published.