कोरोना वैक्सीनेशन को लेकर सरकार ने जारी की गाइडलाइन, किसे लगेगी वैक्सीन और किसे नहीं?

कोरोना वैक्सीनेशन

कोरोना वैक्सीनेशन (Corona vaccination) को लेकर सरकार ने गाइडलाइन जारी की है। जिसमें बताया गया है कि किसे लगेगी वैक्सीन और किसे नहीं ? (Corona vaccination know Who will get the vaccine) दरअसल, पूरे देश में 16 जनवरी से कोरोना वैक्सीनेशन ड्राइव शुरु होने वाली हैं। 

इस टीकाकरण अभियान से पहले, स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय ने राज्यों को दोनों टीकों (कोविशील्ड और कोवैक्सीन) (Covishield and Covaxin) के लिए एक व्यापक फैक्ट शीट भेजी है- जिसमें वैक्सीन रोलआउट, फिजिकल स्पेसिफिकेशन, खुराक, कोल्ड चेन स्टोरेज की आवश्यकताओं, मतभेद और हल्की AEFIs (टीकाकरण के बाद प्रतिकूल घटना) के बारे में जानकारी शामिल है।

1. कोरोना वैक्सीनेशन को लेकर केंद्र सरकार द्वारा जारी DOs और Don’ts

कोरोना वैक्सीनेशन को लेकर केंद्र सरकार द्वारा जारी DOs और Don’ts वाले दस्तावेज को सभी प्रोग्राम मैनेजर, कोल्ड चेन हैंडलर और वैक्सीनेटर के बीच भी प्रसारित किया गया है। 

केंद्र सरकार ने कहा कि डूज़ और डोंट के दस्तावेज के अनुसार, टीकाकरण की अनुमति केवल 18 साल से अधिक आयु के लोगों को दी जाती है। जो महिलाएं गर्भवती हैं और जो अपनी गर्भावस्था को लेकर सुनिश्चित नहीं हैं और स्तनपान कराने वाली माताओं, को यह वैक्सीन नहीं लगाई जानी चाहिए।

2. कोरोना वैक्सीनेशन को लेकर केंद्र द्वारा जारी निर्देश

कोरोना वैक्सीनेशन को लेकर केंद्र द्वारी जारी निर्देश इस प्रकार हैं- 

Centre issues guidelines for coronavirus vaccination drive
Centre issues guidelines for coronavirus vaccination drive
  • 18 वर्ष और उससे अधिक उम्र वालों को ही लगेगी वैक्सीन
  • वैक्सीन की दूसरी खुराक उसे ही लगेगी जिसे पहली खुराक दी गई हो
  • आवश्यकता होने पर कोविड-19 वैक्सीन और अन्य टीकों को 14 दिनों के अंतराल में अलग किया जाना चाहिए।
  • दूसरी खुराक उसी वैक्सीन की होनी चाहिए जिसमें पहली डोज ली गई थी। वैक्सीन के इंटरचेंजिंग की अनुमति नहीं है।

3. कोरोना वैक्सीनेशन किसका नहीं होगा?

आइए जानते हैं केंद्र सरकार द्वारा कोरोना वैक्सीनेशन (Corona Vaccination) को लेकर जारी गाइडलाइन के मुताबिक- कोरोना वैक्सीनेशन किसका नहीं होगा और किसका होगा?

1. ऐसी हिस्ट्री वाले व्यक्ति:

– कोविड-19 वैक्सीन (Covid-19 Vaccine) की पिछली खुराक की वजह से ऑनफ्लेक्टिक या एलर्जी रिएक्शन

– वैक्सीन या इंजेक्टेबल थैरेपी, फार्मास्युटिकल उत्पाद, खाद्य-पदार्थ आदि से तुरंत या देरी से शुरू होने वाली एनाफिलेक्सिस या एलर्जी रिएक्शन

2. गर्भावस्था और स्तनपान

– गर्भावस्था और स्तनपान कराने वाली महिलाएं अब तक किसी भी कोविड-19 वैक्सीन (Covid-19 vaccine) के क्लिनिकल परीक्षण का हिस्सा नहीं रही हैं। इसलिए, जो महिलाएं गर्भवती हैं या अपनी गर्भावस्था के बारे में सुनिश्चित नहीं हैं; और स्तनपान कराने वाली महिलाओं को इस समय कोविड-19 वैक्सीन नहीं देनी चाहिए। 

4. किन परिस्तिथियों में कोरोना रिकवरी के 4-8 सप्ताह तक नहीं लगेगी वैक्सीन

corona recovery
  • SARS-CoV-2 संक्रमण के सक्रिय लक्षण वाले व्यक्ति।
  • SARS-COV-2 के मरीज़ जिन्हें SARS-CoV-2 मोनोक्लोनल एंटीबॉडी या एनाल्जेसिक प्लाज्मा दिया गया है।
  • किसी भी बीमारी के कारण अस्वस्थ और अस्पताल में भर्ती (गहन देखभाल के बिना) मरीज

5. विशेष सावधानियां

ब्लीडिंग या कोगुलेशन डिसऑर्डर (जैसे, क्लॉटिंग फैक्टर डिफिसिएंसी, कोगुलोपैथी या प्लेटलेट डिसॉर्डर) की बीमारी से पीड़ित मरीज में सावधानी के साथ वैक्सीन लगाई जानी चाहिए। 

Precautions and Contraindications for COVID 19 Vaccination
Precautions and Contraindications for COVID-19 Vaccination

6. इन स्थितियों में कोरोना वैक्सीन के लिए रोक नहीं है… 

– SARS-CoV-2 संक्रमण (सीरो-पॉजिटिवटी) या आरटी-पीसीआर पॉजिटिव बीमारी के पिछले हिस्ट्री के लोग

 – पुरानी बीमारियों और मॉर्बिडिटीज (कार्डिएक, न्यूरोलॉजिकल, पल्मोनरी, मेटाबॉलिक, गुर्दे, मालिगनेंसीज) 

– इम्यूनो-डिफिसिएंसी, एचआईवी, किसी भी स्थिति के कारण इम्यून-सप्रेशन के मरीज (इन व्यक्तियों में कोविड-19 वैक्सीन की प्रतिक्रिया कम हो सकती है)

7. विचार योग्य अन्य महत्वपूर्ण मुद्दे 

– वैक्सीन से संबंधित अन्य सावधानियां जैसे-जैसे नई जानकारियां उपलब्ध होती जाएंगी लागू हो सकती हैं. 

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा फैक्टशीट दोनों वैक्सीन कोविशील्ड के साथ-साथ कोवैक्सीन के लिए भी बनाया गया है- 

image

8. कोविशील्ड वैक्सीन और कोवैक्सीन की सूचीबद्ध प्रतिकूल घटनाएं:

सरकारी गाइडलाइन के मुताबिक कोविशील्ड वैक्सीन और कोवैक्सीन की सूचीबद्ध प्रतिकूल घटनाएं इस प्रकार हैं-

-इंजेक्शन साइट टेंडरनेस, इंजेक्शन साइट पेन, सिरदर्द, थकान, बुखार, म्याल्जिया, पयरेक्सिया, ठंड लगना, मतली, डिमाइलेटिंग डिसॉर्डर के बहुत कम उदाहरण बताए गए हैं। कोविशील्ड वैक्सीन 95 फीसदी सुरक्षित बताई गई है।

-इंजेक्शन साइट टेंडरनेस, इंजेक्शन साइट पेन, सिरदर्द, थकान, बुखार, शरीर में दर्द, पेट में दर्द, मतली, उल्टी, चक्कर आना, पसीना, ठंड, खांसी, इंजेक्शन साइट सूजन। आदि की लक्षण बहुत कम मात्रा में दिखाई दे सकते हैं।

डिस्क्लेमरकोरोना वैक्सीनेशन को लेकर अगर आपके भी सवाल हैं कि किसे वैक्सीन लगेगी और किसे नहीं तो तुरंत आयु ऐप डाउनलोड कर पढ़ें कोरोना वैक्सीनेशन से जुड़ी सारी अपडेट्स। यहां आप आयु ऐप पर मौजूद प्रत्येक बीमारी के एक्सपर्ट डॉक्टर से घर बैठे ऑनलाइन परामर्श ले सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.