CHEMICAL PNEUMONIA | जानें “रासायनिक निमोनिया” क्या है व क्या है बचाव?

ज़हरीले तत्वों का सांस द्वारा फेफड़ों में पहुंचने और उसकी वजह से होने वाले निमोनिया को केमिकल निमोनिया (Chemical Pneumonia) कहा जाता है।

केमिकल निमोनिया (Chemical Pneumonia) के लिए सीधे तौर पर प्रदूषित हवा ज़िम्मेदार होती है। निमोनिया आमतौर पर बैक्टीरिया या वायरस के कारण होता है। हालाँकि केमिकल निमोनिया होने का प्रतिशत काफी कम है।

कई पदार्थ रासायनिक निमोनिया (Chemical Pneumonia) का कारण बन सकते हैं, जिसमें –

  • तरल पदार्थ,
  • गैस,
  • धूल या धुएं के छोटे कण शामिल है।
किसी भी स्वास्थ्य समस्या के लिए आज ही “Aayu” ऐप डाउनलोड करें

रासायनिक निमोनिया (Chemical Pneumonia) के लक्षण-

रासायनिक निमोनिया (Chemical Pneumonia) के लक्षण सामान्य निमोनिया से काफी अलग होते है।

क्लोरीन( CHLORINE ) नामक रसायन के उच्च स्तर के संपर्क में आने से व्यक्ति की श्वसन विफलता से मृत्यु भी हो सकती है।

अगर आपको —

  • नाक, होंठ, और गले में जलन हो,
  • पीला या हरा बलगम निकले,
  • खांसी या गुलाबी झाग आए,
  • फेफड़ों में सूजन हो,
  • तेज़ी से सांस आए
  • त्वचा और होंठ पीला होने लगें  
  • बेहोशी की हालत हो
  • सूजन, खऱाशयुक्त या धीमी आवाज निकले,
  • शरीर से रासायनिक गंध आए,
  • खांसने में बुलबुलेदार थूक निकले,
  • बुखार हो

तो जल्द ही अपने नज़दीकी डॉक्टर या स्थानीय ज़हर नियंत्रण केंद्र से संपर्क करें। गंभीर संकेत या लक्षण वाले किसी भी व्यक्ति को तुरंत एम्बुलेंस द्वारा निकटतम अस्पताल के आपातकालीन विभाग में ले जाया जाना चाहिए।

निम्नलिखित हालत में अस्पताल के आपातकालीन विभाग में तत्काल इलाज आवश्यक है:

  • बेहोशी की हालत
  • त्वचा का नीला पड़ना
  • सांस लेने मे तकलीफ
  • आवाज का अचानक परिवर्तन
  • मुंह या गले में सूजन
  • छाती में दर्द
  • साँस की कमी
  • खांसी या खूनी थूक
  • बदलती सोच और तर्क कौशल

रासायनिक निमोनिया (Chemical Pneumonia) के लिए जांच और टेस्ट–

रासायनिक निमोनिया (Chemical Pneumonia) के लिए निदान और उपचार संकेतों और लक्षणों के आधार पर अलग-अलग किए जाते हैं —

  • कभी-कभी गंभीर संकेतों और लक्षणों को कृत्रिम (आर्टिफीशियल) वेंटिलेशन या जटिल चिकित्सीय चिकित्सा जैसे कृत्रिम(आर्टिफीशियल) ह्रदय प्रत्यारोपण (transplantation) की आवश्यकता होगी। ज़्यादातर मामलों में, डॉक्टर सलाह के लिए स्थानीय ज़हर नियंत्रण विशेषज्ञों से परामर्श लेते हैं।
  • डॉक्टर को पहले यह सुनिश्चित करना होगा कि अस्पताल के कर्मचारियों को इससे कोई जोखिम नहीं है।
  • अगली प्राथमिकता रसायन की पहचान करना और फेफड़ों और बाकी के शरीर पर होने वाले प्रभावों पर विचार करना है।
  • रसायन का प्रभाव, क्षेत्र, प्रकार और उसकी एकाग्रता,अन्य चिकित्सा समस्याओं  इस सब का एक विवरण बनाया जायेगा जिसमें महत्वपूर्ण संकेतों (हृदय गति, श्वसन दर, तापमान और आपके पास कितनी ऑक्सीजन है) के नज़दीकी निरीक्षण के अलावा, डॉक्टर कम से कम, नाक, गले, त्वचा, फेफड़ों का मूल्यांकन करेंगे।

इसके बाद प्रभावित व्यक्ति की स्थिति,रासायनिक जोखिम के प्रकार और अन्य कारकों के आधार पर मूल्यांकन हो सकता है।

रासायनिक निमोनिया (Chemical Pneumonia) के उपचार–

घर पर स्वयं की देखभाल–

चिकित्सा देखभाल,आपके लक्षणों की गंभीरता और जोखिम के अन्य कारकों पर निर्भर करती है।

यदि आप गलती से कोई रसायन सूंघ लेते है, तो आपको जल्द से जल्द नज़दीकी डॉक्टर या अपने स्थानीय ज़हर नियंत्रण केंद्र पर कॉल करना चाहिए।

यदि आपके लक्षण गंभीर हैं, तो आप अस्पताल में तत्काल उपचार के लिए जाइये।

  • रासायनिक निमोनिया में घर पर देखभाल रखना सबसे ज़रुरी है।
  • हानिकारक रासायनिक या जोखिम के क्षेत्र से दूर रहें। यदि संभव हो तो दूसरों को उसी रसायन से बचने के लिए जागरूक करें। रासायनिक क्षेत्र से निकल के स्नान करके अपने कपड़ों को अवश्य बदलें।
  • चिकित्सा मूल्यांकन में स्थानीय पुलिस, अग्नि विभाग, आपातकालीन चिकित्सा सेवाएं (EMS),और हानिकारक सामग्री कर्मियों को शामिल किया जा सकता है।

रासायनिक निमोनिया (Chemical Pneumonia) के लिए चिकित्सा उपचार–

आपका नज़दीकी डॉक्टर आपके –

  • रक्तचाप,
  • ऑक्सीजन स्तर,
  • हृदय गति,
  • श्वसन दर की जांच करते है|

अगर आपके शरीर में रासायनिक निमोनिया (Chemical Pneumonia) के लक्षण मिलते है तो अस्पताल में आपको –

  • नसों द्वारा तरल पदार्थ एवं दर्द दवाएं देकर ,
  • नली द्वारा ऑक्सीजन देकर ,
  • नसों या मुँह द्वारा सांस लेने वाली नली को खोलने के लिए दवा के साथ श्वास उपचार करके ,
  • रोग निवारक दवाएं देकर (कभी-कभी)

चिकित्सा उपचार किया जाता है जिससे आप जल्द ही स्वस्थ एवं बेहतर महसूस करने लगते है |

आयु है आपका सहायक

अगर आपके घर का कोई सदस्य लंबे समय से बीमार है या उसकी बीमारी घरेलू उपायों से कुछ समय के लिए ठीक हो जाती है, लेकिन पीछा नहीं छोड़ती है तो आपको तत्काल उसे डॉक्टर से दिखाना चाहिए. क्योंकि कई बार छोटी बीमारी भी विकराल रूप धारण कर लेती है. अभी घर बैठे स्पेशलिस्ट डॉक्टर से “Aayu” ऐप पर परामर्श लें . Aayu ऐप डाउनलोड करने के लिए नीचे दी गई बटन पर क्लिक करें.

Leave a Reply

Your email address will not be published.