व्रत में चाय या कॉफी पिएँ या नहीं | Daily Health Tip | Aayu App

tea or coffee

व्रत में चाय या कॉफ़ी का सेवन ज्यादा ना करें। व्रत रखने पर पेट पूरी तरह से खाली होता है और इस दौरान चाय या कॉफी पीने से पेट में कब्ज और एसिडिटी की समस्या हो जाती है, जिसकी वजह से आपको नींद आने में परेशानी हो सकती है।

Excessive Intake of tea or coffee in fasting is not good. Fasting cause empty stomach and drinking tea or coffee in empty stomach can cause constipation and acidity, due to which you may have problem in sleeping.

Health Tip for Aayu App

आजकल नवरात्रि चल रहें है जिसमें नौ दिन का व्रत रखा जाता है। व्रत के दौरान अन्न ग्रहण नहीं करना चाहिए, बल्कि ऐसी चीजों का सेवन करना चाहिए जो अन्न नहीं होते है। नवरात्रों के दौरान कुछ लोग बिना पानी पिएँ भी उपवास करते है तो कई लोग सिर्फ व्रत में अनाज नहीं खाते है।

व्रत के दौरान अनाज, नमक, मांसाहार, शराब और लहसुन-प्याज वाली चीजें नहीं खाई जाती यह तो सब ही जानते है लेकिन कई लोगों को यह नहीं पता होता कि व्रत में चाय या कॉफी का सेवन करना चाहिए या नहीं। आज हम आपको यह ही बताएंगे।

क्या व्रत में कॉफी पी सकते है?

खाली पेट चाय-कॉफी का सेवन करने से फ्री रेडिकल्स और कैंसर जैसी गंभीर बीमारी के साथ जल्दी बुढ़ापा आने की भी समस्या हो सकती है। इससे बचने के लिए आम (Normal) दिनों में भी सुबह जागकर एकदम चाय-कॉफी पीने की जगह पानी पिएँ। उसके आधे घंटे बाद चाय पिएँ।

व्रत के दौरान चाय और कॉफी जैसे पेय पदार्थो का सेवन कर सकते है हालांकि व्रत के दौरान कॉफी ज्यादा ना पिएँ क्योंकि इसमें बहुत ज्यादा मात्रा में कैफीन होता है। जिससे नर्वस सिस्टम को बूस्ट मिलता है, मतलब झटका लगता है इसलिए सीमित मात्रा में ही कॉफी पिएँ।

व्रत में कॉफी पीने से क्या नुकसान हो सकता है? 

  • व्रत के दौरान खाली पेट बार-बार चाय पीने से एसिडिटी की समस्या हो सकती है।
  • साधारण पत्ती वाली चाय की जगह आप हर्बल चाय पी सकते है, लेकिन दिनभर में दो कप से ज्यादा चाय ना पिएँ।
  • दूध से बनी चाय का सेवन आमाशय (Stomach) पर बुरा प्रभाव डालता है और पाचन क्रिया को क्षति पहुँचा सकता है।
  • चाय-कॉफी में मौजूद कैफीन आपके दिल के लिए भी हानिकारक होती है जिससे हृदय से संबंधित रोग होने की आशंका बढ़ जाती है।
  • चाय में कैफीन तत्व 6 प्रतिशत तक की मात्रा में पाया जाता है जो रक्त को दूषित कर सकता है और इससे चर्म रोग भी हो सकते है।

यह लेख केवल सामान्य जानकारी के लिए है। यह किसी भी तरह से किसी दवा या इलाज का विकल्प नहीं हो सकता। ज्यादा जानकारी के लिए हमेशा आयु ऐप (AAYU App) पर डॉक्टर से संपर्क करें.

फ्री हैल्थ टिप्स अपने मोबाइल पर पाने के लिए अभी आयु ऐप डाऊनलोड करें । क्लिक करें  

Leave a Reply

Your email address will not be published.