उल्टा वॉक करने के स्वास्थ्य लाभ, बैक पेन और एंग्जाइटी जैसी समस्याएं होगी दूर

reverse walk

उल्टा वॉक करने से ना सिर्फ शारीरिक स्वास्थ्य बल्कि मानसिक स्वास्थ्य भी अच्छा होता है। आज इस आर्टिकल में हम आपको उल्टा चलने के लाभ बताएंगे।

यदि आप एक ऐसी आसान एक्सरसाइज या वर्कआउट ढूंढ़ रहे हैं जिसे करना आसान है और उसका लाभ जबरदस्त होता हो तो आपको अपने लाइफस्टाइल में वॉकिंग को जोड़ना चाहिए। वॉक करना एक ऐसी फिजिकल एक्टीविटी है जिसे करने में कम मेहनत लगती है लेकिन उसके लाभ बहुत है।

नियमित रूप से वॉकिंग करने से डायबिटीज, ब्लड प्रेशर, हार्ट हेल्थ, किडनी हेल्थ और कैंसर जैसी बड़ी बीमारी का खतरा काफी हद तक कम हो जाता है। उल्टा चलने या पीछे की और चलने के लाभ के बारे में जानना चाहते है तो आपको बता दें कि पीछे की तरफ चलने से ना सिर्फ शारीरिक स्वास्थ्य बल्कि मानसिक स्वास्थ्य भी बेहतर रहता है।

उल्टा वॉक करने के फायदे:

घुटनों का दर्द दूर करें: उल्टा चलने से घुटनों का दर्द कम होता है। पीछे की और चलने से घुटनों का तनाव कम होता है, जिससे दर्द और घुटनों की सूजन में राहत मिलती है। बीएमसी मस्कुलोस्केलेटल डिसऑर्डर ने एक अध्ययन में बताया है कि रिवर्स वॉकिंग घुटने के पुनर्वास को बढ़ावा देती है। जिन लोगों में घुटने की समस्या होती है उन्हें एक्सपर्ट से सलाह लेनी चाहिए।

पैर मजबूत करें: हमारे पैरों के आगे की तरफ और पीछे की तरफ मांसपेशियाँ होती हैं। जब आप सीधे यानि कि मुँह की तरफ वॉक करते हैं तो आपके आगे की मांसपेशियों की एक्सरसाइज होती है। पीछे की मसल्स ऐसे ही रह जाती हैं। लेकिन जब हम पीछे की ओर चलते हैं तो पैरों की उल्टी तरफ वाली मांसपेशियाँ दुरुस्त होती हैं, जिससे पैर की ताकत बढ़ती है और पैरों को मजबूती मिलती है।

मानसिक स्वास्थ्य बेहतर करें: उल्टा चलने से शारीरिक स्वास्थ्य ही नहीं बल्कि मानसिक स्वास्थ्य भी बेहतर होता है। जब आप उल्टा चलते हैं तो आपके शरीर को समन्वय बनाए रखने के लिए चुनौती मिलती है। ऐसी स्थिति में आपको संभलकर चलना चाहिए। यह आपकी एंग्जाइटी सही करता है।

हॉर्मोन का उत्पादन करें: पीछे की ओर दौड़ने से हमारे शरीर का संतुलन बढ़ता है जिससे हमारे शरीर में हॉर्मोन का उत्पादन होता है जो हमारे अंदर संवेदनाओं को शांत करता है।

कमर दर्द की समस्या दूर करें: उल्टा चलने से कमर दर्द की समस्याएं दूर होती है। यदि आप प्रतिदिन 15 मिनट के लिए रिवर्स वाकिंग करते है तो आपको कमर दर्द में राहत मिलती है। यह वजन नियंत्रण करने में भी मदद करता है।

शरीर में तालमेल बढ़ाने में मदद करें: अगर आप पीछे की ओर चलने की कोशिश करते है तो आपका शरीर ज्यादा तालमेल बिठा पाता है। यह आपके मस्तिष्क को शरीर को सही निर्देश देने की अनुमति देता है। इससे आप ध्यान केंद्रित कर पाते है।

मसल्स के लिए फायदेमंद: पीछे की तरफ चलने से आपके पैर की सभी मसल्स काम करती है। इसके अलावा यह हैमस्ट्रिंग मसल्स पर भी काम करता है साथ ही जो मसल्स कम इस्तेमाल होती है वो भी इस दौरान फंक्शन करती हैं।

शरीर का लचीलापन बढ़ाएँ: सप्ताह में चार दिन रोजाना 10-15 मिनट पीछे की तरफ चलने से आपके शरीर का लचीलापन बढ़ता है।

कैलोरी बर्न करने में मदद करें: पीछे की तरफ चलने से कैलोरी बर्न करने में मदद मिलती है। पीछे की तरफ चलने से सामान्य रुप से चलने की तुलना में 40 प्रतिशत अधिक कैलोरी बर्न कर पाते हैं क्योंकि इसके लिए आपको अधिक उर्जा की जरुरत होती है। यह आपका वजन नियंत्रित करता है।

अस्वीकरण: सलाह सहित इस लेख में सामान्य जानकारी दी गई है। यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है।अधिक जानकारी के लिए आज ही अपने फोन में आयु ऐप डाउनलोड कर घर बैठे विशेषज्ञ  डॉक्टरों से परामर्श करें। स्वास्थ संबंधी जानकारी के लिए आप हमारे हेल्पलाइन नंबर 781-681-11-11 पर कॉल करके भी अपनी समस्या दर्ज करा सकते हैं। आयु ऐप हमेशा आपके बेहतर स्वास्थ के लिए कार्यरत है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.