कच्चा पनीर खाने के फायदे जानकर रह जाएंगे दंग

benefits of paneer in hindi

कच्चा पनीर खाने के फायदे: आप कच्चा पनीर खाने के फायदे सिर्फ प्रोटीन के सोर्स के लिए जानते होंगे लेकिन इसके और भी कई फायदे है। पनीर या कॉटेज चीज (Paneer or Cottage Cheese) के बिना भारतीय व्यंजनों की कल्पना नहीं की जा सकती। ज्यादातर घरों में पनीर का सेवन किया जाता है।

पनीर से कई तरह की डिश तैयार की जाती है जैसे, शाही पनीर, पालक पनीर, पनीर पकौड़े, पनीर कोफ्ता आदि।

पनीर सेहत के लिए फायदेमंद माना जाता है। जो लोग नॉनवेज का सेवन नहीं करते वह पनीर का सेवन कर सकते है।

कॉटेज पनीर से बनी डिश हेल्दी हो सकती है, पर उसे डीप फ्राई ना करें। कई लोग कच्चे पनीर के साथ काली मिर्च का सेवन करते है। कुछ लोग इसका सलाद की तरह भी सेवन करते है।

शायद आप पनीर को प्रोटीन का सोर्स ही मानते होंगे लेकिन ऐसा नहीं है। पनीर का सेवन कई तरह से अच्छा होता है। आज हम आपको पनीर खाने के फायदे और नुकसान के बारे में बताएंगे।

कच्चा पनीर खाने के फायदे: Benefits of Paneer in Hindi:

पनीर को कॉटेज चीज (Cottage Cheese) भी कहते है। दूध से तैयार किया जाने वाला पनीर सॉफ्ट, सफेद और मलाईदार होता है। इसे दूध को गाढ़ा करके फाड़कर तैयार करते है।

इस डेयरी प्रोडक्ट को घर में और फैक्ट्री में अलग-अलग तरीके से बनाया जाता है जैसे, नॉनफैट मिल्क, लो फैट मिल्क या रेग्युलर मिल्क से।

पनीर की मार्केट में कई वैरायटी उपलब्ध है जैसे, व्हीप्ड (whipped), क्रीम युक्त (creamed), लैक्टोज मुक्त (lactose free), कम सोडियम (reduced sodium) या सोडियम फ्री (sodium-free) पनीर।

न्यूट्रिशन में हाई होता है: पनीर न्यूट्रीएंट में काफी हाई होता है। इसके सेवन से शरीर में कई विटामिन, मिनरल की पूर्ति हो सकती है। 1 ग्राम फैट वाले दूध से बनाए गए 1 कप यानि करीब 226 ग्राम पनीर में निम्न  न्यूट्रिएंट होंगे।

  • कैलोरी : 163 Cal
  • प्रोटीन : 28 ग्राम
  • कार्ब्स : 6.2 ग्राम
  • वसा : 2.3 ग्राम
  • फॉस्फोरस : रोजाना की जरूरत का 24%
  • सोडियम : रोजाना की जरूरत का 30%
  • सेलेनियम : रोजाना की जरूरत का 37%
  • विटामिन बी 12 : रोजाना की जरूरत का 59%
  • राइबोफ्लेविन : रोजाना की जरूरत का 29%
  • कैल्शियम : रोजाना की जरूरत का 11%
  • फोलेट : रोजाना की जरूरत का 7%

इसके अलावा पनीर में मौजूद विटामिन बी-6, जिंक, कॉपर भी पाए जाते है जिससे वह न्यूट्रिशन से भर देते है।

यदि पनीर के कार्ब्स और प्रोटीन की बात करें तो इसमें 3 प्रतिशत कार्ब और करीब 70 प्रतिशत प्रोटीन होता है, जो लैक्टोस और मिल्क की नैचुरल शुगर के कारण होता है।

यदि आप रोजाना पनीर का सेवन करते है तो कम सोडियम या सोडियम फ्री पनीर का ही सेवन करें। सोडियम के अधिक सेवन से ब्लड प्रेशर बढ़ सकता है।

वजन कम करने में मदद करता है: प्रोटीन में हाई पनीर का सेवन करने से लंबे समय तक पेट भरा रहता है और आपको भूख नहीं लगती। इससे खाना खाने की क्रेविंग नहीं होती और कैलोरी इंटेक (Calorie Intake) कम होने से आपका वजन कम होता जाता है।

इसके अलावा पनीर में कॉन्ज्यूगेटेड लिनोलिक एसिड (conjugated linoleic acid), फैटी एसिड भी हाई होता है। यह शरीर में फैट बर्न करने की प्रोसेस को तेज करता है।

एक स्टडी के मुताबिक पनीर खाने से महिलाओं में औसतन 6.2 पाउंड (2.8 किग्रा) और पुरुषों में 3.1 पाउंड (1.4 किग्रा) तक वजन कम करने में मदद मिलती है।

मसल्स गेन करने में मदद करें: फैट बर्न करना हो या मसल्स गेन करना हो, दोनों स्थितियों में प्रोटीन जरूरी होता है। पनीर में प्रोटीन में हाई होता है इसलिए इसके सेवन से मसल्स बिल्डिंग में मदद मिलती है।

हाई प्रोटीन फूड्स (High Protein Foods) के साथ एक्सरसाइज की जाए तो मसल्स मास बढ़ने में ज्यादा मदद मिलती है। आप भी मसल्स मास बढ़ाना या मसल्स गेन करना चाहते है तो डाइट में पनीर को शामिल कर सकते है।

पाचन में सुधार करें: पनीर पाचन में सहायता कर सकता है। इसमें फॉस्फोरस (Phosphorus) की अच्छी मात्रा होता है, जो पाचन और उत्सर्जन (Digestion and Excretion) में मदद करता है।

पनीर में मौजूद मैग्नीशियम (Magnesium) कब्ज (Constipation) को रोक सकता है। इसके सेवन से मल (Stools) में पानी खिंचता है, जिससे मल नरम होता है और आसानी से आंतों की दीवारों से गुजर जाता है।

हड्डी को मजबूत करके स्ट्रेंथ बढ़ाएं: पनीर दूध से बनता है, इसलिए इसमें कैल्शियम अच्छी मात्रा में होता है। यह फॉस्फोरस और प्रोटीन का भी अच्छा सोर्स है। यह सभी न्यूट्रिशन मिलकर बोन को मजबूत बनाकर शरीर में स्ट्रेन्थ बढ़ाते है साथ ही पनीर ऑस्टियोपोरोसिस के उपचार (Osteoporosis Treatment) में भी सहायक होता है। कैल्शियम और फॉस्फोरस मिलकर, हाइड्रोक्साइपटाइट (Hydroxyapatite) बनाते है, जो हड्डियों के घनत्व (bone density) को बढ़ाने में मदद करता है।

  • पनीर इंसुलिन को बढ़ने से रोक सकता है, जो कि टाइप 2 डायबिटीज और हार्ट डिजीज का मुख्य कारण हो सकता है।
  • सेलेनियम में हाई होने के कारण ब्लड में एंटीऑक्सीडेंट प्रोटेक्शन बढ़ जाता है। 
  • पनीर को कैंसर में भी फायदेमंद बताया जाता है।
  • ब्लड प्रेशर कंट्रोल करने में पनीर फायदेमंद है।
  • इसमें मौजूद अमीनो एसिड से डिप्रेशन कम करने में मदद मिलती है। इसमें मौजूद मैग्नीशियम के कारण ये कुछ हद तक इम्यूनिटी बढ़ाने में मदद कर सकता है।

पनीर को कैसे और कितना खाएं: How much and how to take paneer in Hindi:

पनीर को कई तरह से डाइट में शामिल किया जा सकता है। आप फिटनेस जर्नी पर है तो पनीर को कच्चा खाना ज्यादा फायदेमंद होता है।

इसके अलावा नॉर्मल दिनों में पनीर भुर्जी, पनीर सलाद, पालक पनीर या सूखी सब्जी के साथ अलग-अलग तरह की डिश बनाकर सेवन कर सकते है।

दिनभर में कितना पनीर खा सकते है, इस पर कोई स्टडी अभी तक नहीं हुई है लेकिन किसी भी चीज को लिमिट में खाना ही सही रहता है। अगर आप ओवर ईटिंग करते है तो कोई भी चीज नुकसान कर सकती है।

पनीर खाने के नुकसान: Side Effects of Paneer in Hindi:

पनीर में फैट काफी मात्रा में होता है। यदि आप वेट लॉस जर्नी पर है तो इसके अधिक सेवन से कैलोरी इंटेक बढ़ सकता है इसलिए ट्रेनर की सलाह के मुताबिक ही इसका सेवन करें।

पनीर में मौजूद कैल्शियम हड्डियों और दांतों के लिए अच्छा हो सकता है। लेकिन एक स्टडी के अनुसार कॉटेज चीज में मौजूद हाई सोडियम सामग्री 696 mg प्रति कप होती है, जो ब्लड प्रेशर का बैलेंस बिगाड़ सकती है।

कई लोगों को डेयरी प्रोडक्ट से एलर्जी हो सकती है, ऐसे लोगों को पनीर का सेवन नहीं करना चाहिए। 

अस्वीकरण: सलाह सहित इस लेख में सामान्य जानकारी दी गई है। अधिक जानकारी के लिए आज ही अपने फोन में आयु ऐपडाउनलोड कर घर बैठे विशेषज्ञ डॉक्टरों से परामर्श करें। स्वास्थ संबंधी जानकारी के लिए आप हमारे हेल्पलाइन नंबर 781-681-11-11 पर कॉल करके भी अपनी समस्या दर्ज करा सकते हैं। आयु ऐप हमेशा आपके बेहतर स्वास्थ के लिए कार्यरत है। 

Leave a Reply

Your email address will not be published.