नीम के फायदे | Daily Health Tip | Aayu App

नीम के फायदे

नीम का उपयोग फायदेमंद होता है। नीम में एंटीऑक्सीडेंट गुण पाए जाते है जो कई तरह की बीमारियों से लड़ने में मदद करते है।

Neem can be used in various forms in our daily life. It has antioxidant properties that helps you fight diseases.

Health Tip for Aayu App

नीम का पेड़ एक ऐसा पेड़ है जिसका हर एक हिस्सा किसी ना किसी बीमारी को ठीक करने में मदद करता है। यह अलग-अलग प्रकार के सौंदर्य प्रसाधनों के निर्माण में नीम को प्रमुख रूप से इस्तेमाल किया जाता है।

नीम के फायदे:

जल जाने पर नीम की पत्ती लगाएं: अगर आपका खाना बनाते समय या किसी दूसरे कारण की वजह से हाथ जल गया है तो तुरंत नीम की पत्तियों को पीसकर बनाए। इसमें मौजूद एंटीसेप्टिक गुण घाव को ज्यादा बढ़ने नहीं देता।

कान दर्द में नीम के फायदे: अगर आपके कान में दर्द रहता है तो नीम का तेल इस्तेमाल करना काफी फायदेमंद रहता है। कई लोगों में कान बहने की भी बीमारी होती है, ऐसे लोगों के लिए भी नीम का तेल एक कारगर उपाय है। (यह भी पढ़ें: कान दर्द से होने वाली समस्याएं)

दांतों के लिए फायदेमंद: एक ओर जहाँ दांतों और मसूड़ों की देखभाल के लिए हम तरह-तरह के महंगे टूथपेस्ट इस्तेमाल करते हैं वहीं नीम की दातुन अपने आप में पर्याप्त है। नीम की दातुन पायरिया की रोकथाम में भी कारगर है।

बालों के लिए फायदेमंद: नीम एक अच्छा कंडीशनर है। इसकी पत्तियों को पानी में उबालकर उसके पानी से बाल धोने से रूसी और फंगस जैसी समस्याएं दूर होती हैं।

फोड़े और दूसरे जख्मों पर नीम का इस्तेमाल करें: कई बार ऐसा होता है कि खून साफ ना होने की वजह से समय-समय पर फोड़े हो जाते हैं। ऐसे में नीम की पत्ती को पीसकर प्रभावित जगह पर लगाने से फायदा होगा साथ ही इसके पानी से चेहरा साफ करने पर मुंहासे भी नहीं होते।

सिरदर्द में फायदेमंद: सूखे नीम के पत्ते, काली मिर्च और चावल को बराबर मात्रा में मिलाकर बारीक चूर्ण बना लें। सूर्योदय से पहले सिर के जिस ओर दर्द हो, उसी ओर की नाक में इस चूर्ण को एक चुटकी भर नाक में डालें। इससे माइग्रेन में जल्द लाभ होता है। नीम तेल को ललाट पर लगाने से सिरदर्द ठीक होता है। (यह भी पढ़ें: सिरदर्द से बचने के घरेलू नुस्खे)

नकसीर रोकने में मदद करें: नीम की पत्तियां और अजवाइन को बराबर मात्रा में पीस लें। इसे कनपटियों पर लेप करने से नाक से खून बहना यानि नकसीर बंद होती है।

आँखों के रोग में फायदेमंद: जिस आँख में दर्द हो, उसके दूसरी ओर के कान में नीम के कोमल पत्तों का रस गुनगुना कर 2-2 बूँद टपकाएं। दोनों आँखों में दर्द हो तो दोनों कान में टपकाएं। दर्द समाप्त हो जाएगा।

टीबी में लाभकारी: नीम के तेल की 4-4 बूँदों को कैप्सूल में भरकर दिन में तीन बार सेवन करने से टी.बी. जैसे रोग में फायदा मिलता है।

दमा रोग में फायदेमंद: 3-6 बूँद शुद्ध नीम के बीज के तेल को पान में डालकर खाने से दम फूलना आदि सांसों के रोगों में लाभ होता है।

पेट के कीड़ों को खत्म करें: बैंगन या किसी और सब्जी के साथ नीम के 8-10 पत्तों को छौंक कर खाने से पेट के कीड़े मर जाते हैं।

एसिडिटी में फायदेमंद: नीम की सींक, धनिया, सोंठ और शक्कर सभी को 6-6 ग्राम लेकर एक साथ मिला लें। इसका काढ़ा बनाकर सुबह-शाम पीने से खट्टी डकारें, अपच तथा अत्यधिक प्यास लगने की समस्या दूर होती हैं।

पेट दर्द में फायदेमंद: 40-50 ग्राम नीम की छाल को जौ के साथ कूटकर 400 मिली जल में पकाएं व इसमें 10 ग्राम नमक भी डाल दें। आधा शेष रहने पर गुनगुना कर पिलाने से पेटदर्द में आराम होता है।

दस्त में फायदेमंद: 125-250 मिग्रा नीम की अंदर की छाल की राख को 10 मिली दही के साथ दिन में दो बार सेवन करें।

यह लेख केवल सामान्य जानकारी के लिए है। यह किसी भी तरह से किसी दवा या इलाज का विकल्प नहीं हो सकता। ज्यादा जानकारी के लिए हमेशा आयु ऐप (AAYU App) पर डॉक्टर से संपर्क करें.

फ्री हैल्थ टिप्स अपने मोबाइल पर पाने के लिए अभी आयु ऐप डाउनलोड करें । क्लिक करें   

Leave a Reply

Your email address will not be published.