fbpx

गिलोय के फायदे, औषधीय गुण और सेवन का तरीका

गिलोय के फायदे, औषधीय गुण और सेवन का तरीका

गिलोय एक प्राकृतिक और आयुर्वेदिक जड़ी-बूटी है। आयुर्वेज्ञान के मुताबिक गिलोय का जूस एनिमिया के अलावा बहुत सी बीमारियों को दूर करने में गुणकारी है। आज जब विश्व कोरोना महामारी से दो-चार हो रहा है ऐसे में यह गिलोय बहुत काम आ रहा है।गिलोय का उपयोग कर वात-पित्त और कफ को ठीक किया जा सकता है। यह पचने में आसान होती है, भूख बढ़ाती है, साथ ही आंखों के लिए भी लाभकारी होती है। लोग प्रतिदिन गिलोय के जूस का सेवन करके अपनी इम्यूनिटी पावर बढ़ा रहे हैं। आइए जानते हैं गिलोय का इस्तेमाल कैसे किया जाता है। 

गिलोय के फायदे- (Giloy ke fayde)

  • गिलोय के इस्तेमाल से प्यास, जलन, डायबिटीज़, कुष्ठ और पीलिया रोग में लाभ ले सकते हैं।
  • पाचन शक्ति को बढ़ाती है।
  • इसके सेवन से वीर्य और बुद्धि बढ़ाती है।
  • महिलाओं की शारीरिक कमज़ोरी की स्थिति में यह बहुत अधिक लाभ पहुँचाती है।
  • बुखार,उल्टी,खांसी,बवासीर,मूत्र और टीबी रोग में भी गिलोय का प्रयोग किया जाता है।

गिलोय को कैसे पहचाने ? (What is giloy?)

गिलोय अमृता, अमृतवल्ली अर्थात् कभी न सूखने वाली एक बड़ी लता है। इसका तना देखने में रस्सी जैसा लगता है। इसके कोमल तने तथा शाखाओं से जडें निकलती हैं। इस पर पीले व हरे रंग के फूलों के गुच्छे लगते हैं। इसके पत्ते कोमल तथा पान के आकार के और फल मटर के दाने जैसे होते हैं।

यह जिस पेड़ पर चढ़ती है, उस वृक्ष के कुछ गुण भी इसके अन्दर आ जाते हैं। इसीलिए नीम के पेड़ पर चढ़ी गिलोय सबसे अच्छी मानी जाती है। 

गिलोय आँखों के लिए है फायदेमंद (Giloy Benefits for Eye in Hindi)

  • 10 मिली गिलोय के रस में 1-1 ग्राम शहद व सेंधा नमक मिलाकर पीस लें।
  • इसे आँखों में काजल की तरह लगाएं।
  • यह अँधेरा,छाना,चुभन और काला व सफेद मोतियाबिंद रोगों में फायदेमंद है।
  • गिलोय रस में त्रिफला मिलाकर काढ़ा बनाएं।
  • आँखों के लिए 10-20 मिली काढ़े में एक ग्राम पिप्पली चूर्ण और शहद मिलाकर सेवन करें। 

विशेषज्ञ डॉक्टरों से अपनी समस्याओं का घर बैठे पाएं समाधान, अभी परामर्श लें 👇🏽

consultation

कब्ज को करे ठीक (Giloy is Beneficial in Constipation in Hindi)

  1. 10-20 मिली गिलोय के रस का गुड़ के साथ सेवन करने से कब्ज ठीक होता है। 
  2. सोंठ, मोथा, अतीस तथा गिलोय को बराबर मात्रा में लेकर काढ़ा बनाएं।
  3. इस काढ़ा को 20-30 मिली सुबह-शाम लेने से अपच में फायदा मिलता है।

गिलोय के सेवन की मात्रा (How Much to Consume Giloy?)

काढ़ा – 20-30 मिली

रस – 20 मिली

किसी भी बीमारी में गिलोय का सेवन करने से पूर्व आयुर्वेदिक चिकित्सक से परामर्श करें।

गिलोय के सेवन का तरीका (How to Use Giloy?)

  • काढ़ा
  • रस

गिलोय के नुकसान (Side Effects of Giloy)

  • गिलोय के लाभ की तरह गिलोय के नुकसान भी हो सकते हैं।
  • गिलोय डायबिटीज़ (मधुमेह) कम करता है। इसलिए जिन्हें कम डायबिटीज़ की शिकायत हो, वे गिलोय का सेवन न करें।

ये भी पढ़ें-

आयु है आपका सहायक

कोरोना वायरस के प्रकोप के चलते आज विश्व टेलीमेडिसिन को अपना रहा है। भारत के प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने भी आमजन से टेलीमेडिसिन के साथ-साथ स्वदेशी अपनाने की बात कही है। भारत का नंबर वन हेल्थकेयर प्लेटफॉर्म आयु पर आप घर बैठे देश के सर्वश्रेष्ठ डॉक्टरों से इलाज़ और परामर्श पा सकते हैं। आज ही डाउनलोड करें स्वदेशी स्वास्थ्य ब्रांड आयु ऐप. हमेशा देश के बेहतर स्वास्थ के लिए अग्रसर |

CATEGORIES
TAGS
Share This

COMMENTS

Wordpress (2)
  • comment-avatar
    Reena thakur 10 months

    Taiphaid me giloy ko use kese kre

  • comment-avatar

    Very good information.. Thanks❤🌹 for share.. Giloy ke in hindi

  • Disqus ( )