अलसी के बीज खाने के आश्चर्यचकित फायदे | Daily Health Tip | 22 June 2020 | AAYU App

benefits of flax seeds

अलसी सूजन और दर्द से राहत दिलाने में मदद करती है। इसके लिए आप अलसी को उबलते हुए पानी में डालकर धीरे-धीरे मिलाएं। यह गीली होनी चाहिए, लेकिन बहुत गाढ़ा नहीं होना चाहिए। इसे दर्द या सूजन वाले अंग पर तेल की तरह चुपड़ कर लगाएं।

Flax seeds help in relieving swelling and pain. Boil flax seeds in water & Stir it slowly. Ensure that the mixture is moist, but not too thick. Apply it on the swollen part for relief.

Health Tips for Aayu App

अलसी क्या है ?

अलसी एक जड़ी-बूटी है, जिसका इस्तेमाल औषधि के रूप में किया जाता है। अलसी के बीज के फायदे है। स्थानों की प्रकृति के अनुसार, अलसी के बीजों के रंग-रूप, और आकार में भी अंतर पाया जाता है। देश भर में अलसी के बीज सफेद, पीले, लाल, या थोड़े काले रंग के होते है। गर्म प्रदेशों की तीसी सबसे अच्छी मानी जाती है। आमतौर पर लोग अलसी के बीज, तेल को उपयोग में लाते है। अलसी के बीज के प्रयोग से सांस, गला, कंठ, कफ, पाचनतंत्र विकार सहित घाव, कुष्ठ आदि रोगों में लाभ लिया जा सकता है।

अलसी के बीज के फायदे:

नींद ना आने की बीमारी में:

नींद ना आने की बीमारी में अलसी का सेवन फायदेमंद होता है। इसके लिए अलसी, तथा एरंड तेल को बराबर-बराबर मात्रा में मिलाकर, कांसे की थाली में अच्छे से पीस लें। इसे आंखों में काजल की तरह लगाने से नींद अच्छी आती है।  

आँखों के रोग में :

अलसी के गुण आँख संबंधी बीमारियों में बहुत फायदेमंद होता है। आंखों की बीमारी, जैसे- आंख आना, आंखों की लालिमा खत्म होने आदि को ठीक करने के लिए अलसी के बीजों को पानी में फूला लें। इस पानी को आंखों में डालें।

दर्द और सूजन में :

अलसी के इस्तेमाल से दर्द, और सूजन में बहुत फायदा होता है। इसमें अलसी से बनाई हुई गीली दवा बहुत काम करती है। एक भाग कुटी हुई अलसी को, 4 भाग उबलते हुए पानी में डालकर धीरे-धीरे मिलाएं। यह गीली होनी चाहिए, लेकिन बहुत गाढ़ा नहीं होना चाहिए। इसे दर्द, या सूजन वाले अंग पर तेल की तरह चुपड़ कर लगाएं। इसके प्रयोग से सूजन, और दर्द दूर होती है।

कान को ठीक करने में:

कान की सूजन को ठीक करने के लिए अलसी के गुण उपचार स्वरुप बहुत काम आते है। इसके लिए अलसी को प्याज के रस में पकाकर, छान लें। इसे 1-2 बूंद कान में डालें। इससे कान की सूजन ठीक हो जाती है।

सिरदर्द में:

सिरदर्द से आराम पाने के लिए अलसी का सही तरह से प्रयोग करने पर अलसी के लाभ पूरी तरह से मिल सकता है। इसके लिए अलसी के बीजों को ठंडे पानी में पीसकर लेप करें। इससे सूजन के कारण होने वाले सिर दर्द, या अन्य तरह के सिर दर्द, या फिर सिर के घावों में फायदा मिलता है।

जुकाम से राहत पाने में:

जुकाम से परेशान है, तो जुकाम का इस्तेमाल कर सकते है। महीन पिसी हुई अलसी को साफ कर धीमी आंच से तवे पर भून लें। जब यह अच्छी तरह भून जाए, और गंध आने लगे, तब पीस लें। इसमें बराबर मात्रा में मिश्री मिला लें। अलसी खाने का तरीका यह है कि आप इसे 5 ग्राम की मात्रा में गर्म पानी के साथ, सुबह और शाम सेवन करें। इससे जुकाम में लाभ होता है।

थायराइड में:

थायराइड का उपचार करने के लिए भी अलसी का प्रयोग कर सकते है। अलसी के लाभ का पूरा फायदा उठाने के लिए बराबर-बराबर मात्रा में अलसी के बीज, शमी, सरसों, सहिजन के बीज, जपा के फूल, तथा मूली की बीज को छाछ से पीसकर पेस्ट बना लें। इस पेस्ट को गले की गांठों आदि पर लेप करने से थायराइड में लाभ होता है।

आग से जलन में:

शुद्ध अलसी का तेल, और चूने का निथरा हुआ जल को बराबर-बराबर मात्रा में लेकर अच्छी प्रकार मिला लें। यह सफेद मलहम जैसा हो जाता है। इसको आग से जले हुए स्थान पर लगाएं। इससे तुरंत आग से जले हुए घाव का दर्द ठीक हो जाता है। रोज 1 या दो बार लेप करते रहने से घाव ठीक होता है।

टीबी में:

टीबी के लिए 25 ग्राम अलसी के बीजों को पीसकर, रात भर ठंडे पानी में भिगोकर रखें। इस पानी को सुबह कुछ गर्म करें, और इसमें नींबू का रस मिलाकर, पिएं। इससे टी.बी. के रोगी को बहुत लाभ होता है। 

यह लेख केवल सामान्य जानकारी के लिए है। यह किसी भी तरह से किसी दवा या इलाज का विकल्प नहीं हो सकता। ज्यादा जानकारी के लिए हमेशा आयु ऐप (AAYU App) पर डॉक्टर से संपर्क करें.

फ्री हैल्थ टिप्स अपने मोबाइल पर पाने के लिए अभी आयु ऐप डाऊनलोड करें । क्लिक करें

Leave a Reply

Your email address will not be published.