fbpx

🏃 व्यायाम करने के फायदे और इसके प्रकार | Daily Health Tip | 10 February 2020 | AAYU App

🏃 व्यायाम करने के फायदे और इसके  प्रकार  | Daily Health Tip | 10 February 2020 | AAYU App

सर्दियों में नियमित रूप से व्यायाम 🏃 करना चाहिए। रोज़ाना व्यायाम से शरीर का रक्त संचार बढ़ता है और शरीर की अंदरूनी शक्ति का विकास होता है। “

Exercise 🏃 should be a part of your daily routine in winters. It improves blood circulation in the body and helps in developing immunity & inner strength of the body. ”

व्यायाम करना हमारे शरीर के स्वास्थ्य के लिए बहुत ज़रूरी हैं। क्योकि यह शरीर और मस्तिष्क को फिट रखने में मदद करता हैं। लेकिन क्या आप जानते है व्यायाम के बहुत सारे प्रकार हैं। आइये जानते हैं आपको स्वस्थ रखने वाले व्यायाम।

व्यायाम के प्रकार:

समतानी व्यायाम (isotonic exercise): इस व्यायाम में बॉडी में ज़्यादा हलचल होती हैं। इसमें भागना दौड़ना, साइकिल चलाना, तैरना, फुटबॉल, टेनिस जैसे खेल कूद भी शामिल हैं। इस तरह के व्यायाम में मासपेशियों के तंतुओ की लम्बाई के साथ साथ इन पर तनाव बना रहता हैं। 

सममितीय व्यायाम (isometric exercise): यह व्यायाम मासपेशियों का बल और आकार जल्दी बढ़ाने में मदद करता हैं। क्योकि इस प्रकार के व्यायाम में भार को हाथों से आगे पीछे या ऊपर- निचे धकेला जाता हैं। इस प्रकार के व्यायाम में बिना ज़्यादा हलचल करे मासपेशियों को ज़्यादा काम करना पड़ता हैं। जिम में मशीनो पर समतानी व्यायाम ही किया जाता हैं।

आइसोमेट्रिक और आइसोटोनिक एक्सरसाइज कॉम्बिनेशन: आइसोमेट्रिक और आइसोटोनिक एक्सरसाइज मिलाकर करने से ताकत और सहनशीलता दोनों बढ़ती हैं। यह कॉम्बिनेशन हाथों और पैरो दोनों के लिए लाभदायक हैं। हाथों के लिए आइसोमेट्रिक व्यायाम लाभदायक है और पैरो के लिए आइसोटोनिक व्यायाम मजबूती और स्टेमिना प्रदान करता हैं। 

yoga 2

वाकिंग (चलना): यह एक सहज व्यायाम हैं जिसे हर उम्र के लोग करते हैं। चलने से शरीर स्वस्थ रहने के साथ साथ एक्टिव और एनर्जेटिक भी बनता हैं। हर व्यक्ति को रोजाना कुछ समय घूमने के लिए निकालना चाहिए ताकि शरीर सही तरीके से काम करता रहे।

गेम्स: गेम्स एक ऐसा व्यायाम हैं जिसे करने में हमे मज़ा भी बहुत आता हैं। यह टीमवर्क करना भी सिखाता हैं। यह शरीर के हर अंग को एक्टिव रखने के साथ साथ फ्लेक्सिबिलिटी और स्टेमिना भी बढ़ाने में मदद करता हैं। 

योग: योग अपने आप में एक संपूर्ण व्यायाम हैं जिसमे आसन, मुद्राएं और बंध शामिल हैं। 

👉 आसन: निश्चित समय के लिए एक निश्चित स्थति में बने रहना आसन कहलाता हैं। यह पुरे शरीर को ऊर्जावान और निरोगी बनाता हैं। 

👉 मुद्राएं: कुण्डलिनी को जाग्रत करने में मुद्राए सहायक होने के साथ साथ इसके अभ्यास से शरीर दीर्घायु और निरोगी भी बनता हैं। 

👉 बंध: मसल्स को कसावट देने वाली क्रियाएं बंध कहलाती हैं। बंध चार प्रकार के होते हैं- मूल बंध, उड्डियान बंध, जालंधर बंध और महाबंध।

फ्री हैल्थ टिप्स अपने मोबाइल पर पाने के लिए अभी आयु ऐप डाऊनलोड करें । क्लिक करें

CATEGORIES
TAGS
Share This

COMMENTS

Wordpress (1)
  • comment-avatar
    Dharmdev 2 years

    Valuable tips for healthy life.

  • Disqus (0 )