fbpx

पालक की दाल के फायदे जानें | Daily Health Tip | Aayu App

पालक की दाल के फायदे जानें | Daily Health Tip | Aayu App

अपनी पाचन क्रिया को ठीक करने के लिए पालक की दाल का नियमित सेवन करें। यह शरीर से विषाक्त पदार्थों का बाहर निकालने में मदद करती हैं।

Include Dal Palak (spinach dal) regularly in your diet to improve your digestive system. It helps in flushing out toxins from the body.

Health Tip for Aayu App

सर्दियों में पालक के फायदे जानते ही होंगे। आयरन की कमी को दूर करने के साथ पालक में इम्युनिटी पावर को बूस्ट करने वाले विटामिन भी पाए जाते है। सबसे ज्यादा फायदा पालक वाली दाल खाने से होता है। आइए, जानते है पालक की दाल के फायदे।

पालक की दाल के फायदे: 

आइये जानते है पालक की दाल के फायदे:

  • पालक में विटामिन-K अच्छी मात्रा में पाया जाता है। वहीं, दाल में प्रोटीन मौजूद होता है जिससे हड्डियाँ और मांसपेशियाँ मजबूत होती है।
  • पाचन क्रिया को दुरुस्त रखने के लिए भी दाल पीने की सलाह दी जाती है। ये शरीर के विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालने में मदद करता है। इसके अलावा अगर आपको कब्ज की समस्या है, तो भी पालक वाली दाल फायदेमंद है।
  • अगर आपको त्वचा से जुड़ी कोई समस्या है, तो पालक की दाल में नींबू का रस डालकर पिएँ। इसे त्वचा ग्लोइंग और जवां रहती है। ये बालों के लिए भी अच्छा होता है।
  • गर्भवती महिलाओं को पालक की दाल पीने की सलाह दी जाती है। पालक का जूस पीने से गर्भवती महिला के शरीर में आयरन की कमी नहीं होती।
  • पालक में मौजूद कैरोटीन और क्लोरोफिल कैंसर से बचाव में सहायक है। इसके अलावा ये आंखों की रोशनी के लिए भी अच्छा होता है। 
  • पालक वाली दाल खाने से गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल पाचन तंत्र भी सही रहता है।
  • सर्दियों के मौसम में अपने डाइट में प्रतिदिन पालक वाली दाल लेने से आपका इम्यून सिस्टम मजबूत होता है। दाल और पालक में भरपूर मात्रा में एंटी-ऑक्सीडेंट्स होते है। इम्यून सिस्टम मजबूत होने के कारण आप किसी भी तरह के संक्रमण से आसानी से बच सकते है। पालक में विटामिन-ई भरपूर मात्रा में पाया जाता है और विटामिन-ई रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने का काम करता है।
  • एनीमिया (शरीर में लाल रक्त कोशिकाओं की कमी) का सबसे ज्यादा खतरा गर्भावस्था के दौरान देखने को मिलता है। आयरन की कमी के कारण यह प्रॉब्लम होती है इसलिए गर्भवती महिलाओं को शरीर में आयरन की कमी से होने वाले दुष्प्रभाव से बचने के लिए पालक की दाल और पालक का जूस पीने की सलाह दी जाती है, इससे उनके शरीर में आयरन की कमी नहीं होती और ब्लड भी अधिक मात्रा में बनता है।
  • पालक और दाल आपको हेल्दी बनाए रखने के लिए एंटी-इंफ्लेमेटरी के रूप में भी कार्य करते हैं। एंटी-इंफ्लेमेटरी क्रिया सूजन को कम करने और क्रॉनिक पालक और दाल आपको हैल्थी बनाये रखने के लिए एंटी-इन्फ्लामेट्री के रूप में भी कार्य करते हैं। एंटी-इन्फ्लामेट्री क्रिया सूजन को कम करने और क्रॉनिक इन्फ्लेमेशन को ठीक करने का गुण रखती है इसलिए, पालक वाली दाल को एंटी-इंफ्लेमेटरी आहार के रूप में उपयोग करने की सलाह दी जाती है, जिससे मरीज जल्दी रिकवर कर सकें।

यह लेख केवल सामान्य जानकारी के लिए है। यह किसी भी तरह से किसी दवा या इलाज का विकल्प नहीं हो सकता। ज्यादा जानकारी के लिए हमेशा आयु ऐप (AAYU App) पर डॉक्टर से संपर्क करें.

फ्री हैल्थ टिप्स अपने मोबाइल पर पाने के लिए अभी आयु ऐप डाऊनलोड करें । क्लिक करें  

CATEGORIES
Share This

COMMENTS

Wordpress (0)
Disqus ( )