गर्म पानी के साथ इलायची खाने के फायदे

cardamom

गर्म पानी के साथ इलायची खाने से उल्टी, कफ जैसी समस्याओं में मदद मिलती है।

Taking Cardamom with lukewarm water helps in vomiting, cough related problems.

Health Tip for Aayu App

भारतीय पकवानों में इलायची का बहुत इस्तेमाल किया जाता है। अगर आपको ऐसा लगता है कि इलायची सिर्फ खाने में महक और स्वाद को बढ़ाती है तो आप गलत है इसके और भी कई लाभ है आइये जानते है इसके कुछ और लाभों के बारे में।

यदि आपको कील-मुंहासे की समस्या है तो आप नियमित रात को सोने से पहले गर्म पानी के साथ इलायची का सेवन करें। इससे आपकी त्वचा संबंधी समस्या दूर होगी।

यदि आपको पेट से संबंधित समस्या है, या आपका पेट ठीक नहीं रहता तो आपके बाल बहुत ज्यादा झड़ते है। इन सब समस्याओं से बचने के लिए आप इलायची का सेवन करें। इसके लिए आप सुबह खाली पेट 1 इलायची गुनगुने पानी के साथ खाएं।

दिनभर की बहुत ज्यादा थकान के बाद भी अगर आपको नींद आने में परेशानी होती है तब भी आप इलायची का सेवन करें। नींद नहीं आने की समस्या से निजात पाने के लिए आप रोजाना रात को सोने से पहले इलायची को गर्म पानी के साथ खाएं। यह खर्राटों में भी राहत दिलाता है।

अगर आपका पेट निकला हुआ है और आप इसे अंदर करना चाहते हैं तो रात को 2 इलायची खाकर गर्म पानी पी लें । इसमें पोटेशियम, मैग्नीशियम, विटामिन B1, B6 और विटामिन C शरीर की अतिरिक्त चर्बी को पिघला देते हैं और इसमें मौजूद फाइबर और कैल्शियम वजन को कंट्रोल करते हैं।

अगर हम दो इलायची खाकर गर्म पानी पीते हैं तो हमें कब्ज़ नहीं रहती l ऐसा करने से हमारी पाचन शक्ति ठीक होती है और पाचन क्रिया ठीक होने के कारण पुरानी से पुरानी कब्ज़ की समस्या भी ठीक हो जाती है l अगर आप कब्ज़ से परेशान हैं तो रोज रात को दो इलायची गर्म पानी के साथ जरुर खाएं l

विभिन्न रोगों में उपचार:

स्वप्नदोष: आंवले के रस में इलायची के दाने और ईसबगोल को बराबर मात्रा में मिलाकर 1-1 चम्मच की मात्रा में सुबह-शाम सेवन करें।

आंखों में जलन होने अथवा धुंधला दिखने पर: इलायची के दाने और शक्कर बराबर मात्रा में लेकर पीस लें। इसके 4 ग्राम चूर्ण में एरंड का चूर्ण डालकर इसका सेवन करें। इससे मस्तिष्क और आंखों को ठंडक मिलती है तथा आंखों की रोशनी तेज होती है।

कफ: इलायची के दाने, सेंधानमक, घी और शहद को मिलाकर पीने से लाभ मिलता है।

मूत्रकृच्छ (पेशाब करने में कष्ट या जलन): इलायची के दानों का चूर्ण शहद में मिलाकर खाने से मूत्रकृच्छ (पेशाब में जलन) में लाभ मिलता है।

मुँह के रोग पर: इलायची के दानों के चूर्ण और सिकी हुई फिटकरी के चूर्ण को मिलाकर मुँह में रखकर लार को गिरा देते हैं। इसके बाद साफ पानी से मुँह को धोते हैं। रोजाना दिन में 4-5 बार करने से मुँह के रोग में आराम मिलता है।

कफ-मूत्रकृच्छ: गाय का पेशाब, शहद या केले के पत्ते का रस, इन तीनों में से किसी भी एक चीज में इलायची का चूर्ण मिलाकर पिलाने से लाभ मिलता है।

उल्टी:

  • इलायची के छिलकों को जलाकर, उसकी राख को शहद में मिलाकर चाटने से उल्टी में लाभ मिलता है।
  • चौथाई चम्मच इलायची के चूर्ण को अनार के शर्बत में मिलाकर पीने से उल्टी तुरन्त रुक जाती है।
  • 4 चुटकी इलायची के चूर्ण को आधे कप अनार के रस में मिलाकर पीने से उल्टी बंद हो जाती है।

हैजा:

  • 5-10 बूंद इलायची का रस उल्टी, हैजा, अतिसार (दस्त) की दशा में लाभकारी है।
  • 10 ग्राम इलायची को एक किलो पानी में डालकर पकाएं, 250 मिलीलीटर पानी रह जाने पर उसे उतारकर ठंडा कर लें। इस पानी को घूंट-घूंट करके थोड़ी-थोड़ी देर में पीने से हैजे के दुष्प्रभाव, प्यास तथा मूत्रावरोध आदि रोग दूर हो जाते हैं।

बाल झड़ना बंद कर दें: रात को 2 इलायची खाकर पानी पीने से बालों की जड़ें मजबूत होती है। बाल झड़ना बंद हो जाता हैं और यह काले भी बने रहते है। इससे बालों का डेंड्रफ दूर होता है।

स्पर्म काउंट बढ़ता है: अगर आपका स्पर्म काउंट कम है तो ये नुस्खा उसके लिए भी कारगार है। इलायची और ऊपर से गर्म पानी पीने से स्पर्म काउंट बढ़ जाता है।

ब्लड सर्कुलेशन ठीक करता है: अगर आप दो इलायची खाकर एक गिलास गर्म पानी पी लेते हैं तो ब्लड सर्कुलेशन ठीक होने के साथ ही यह आपका ब्लड साफ भी करता है। जिससे आपकी स्किन अच्छी होती है।

डाइजेशन स्ट्रांग करें: अगर आप इलायची खाकर गर्म पानी पी लेते हैं तो आपका डाइजेशन सिस्टम स्ट्रॉन्ग हो जाता है। इससे आंतों और किडनी की सफाई होती है और कब्ज की परेशानी भी दूर होती है।

यह लेख केवल सामान्य जानकारी के लिए है। यह किसी भी तरह से किसी दवा या इलाज का विकल्प नहीं हो सकता। ज्यादा जानकारी के लिए हमेशा आयु ऐप (AAYU App) पर डॉक्टर से संपर्क करें.

फ्री हैल्थ टिप्स अपने मोबाइल पर पाने के लिए अभी आयु ऐप डाऊनलोड करें । क्लिक करें  

Leave a Reply

Your email address will not be published.