ऐल्कलाइन डाइट लेने के फायदे | Daily Health Tip | Aayu App

alkaline diet

हमारे शरीर में रोग, अम्ल (Acid) और क्षार (Base) के असंतुलन से होते है। इनको संतुलन में रखने के लिए लौकी का जूस, पुदीने की चटनी आदि चीज़ों को अपनी डाइट में शामिल करें।

Most diseases in our body happen due to acid and base imbalances. To maintain the balance bottle gourd juice , mint chutney etc can be added to the diet .

Hea;th Tips for Aayu App

ऐल्कलाइन डाइट का उद्देश्य खाने के तरीके को ठीक कर पीएच संतुलित करना है। इसके अंतर्गत मांस, डेयरी प्रोडक्ट, मिठाई, कैफीन, अल्कोहल आर्टिफिशियल और प्रोजन प्रोडक्ट्स से परहेज और ताजा फल और सब्जियों तथा नट्स और बीजों का अधिक सेवन आता है। ऐल्कलाइन डाइट के कुछ फायदे और नुकसान हैं। इन फायदे और नुकसान पर बात करने से पहले हमें पीएच और इसकी कार्यप्रणाली को समझना होगा।

पीएच से जुड़े तथ्य:   

  • पीएच किसी पदार्थ में अम्ल या क्षार के स्तर को मापने वाली इकाई होती है। शरीर में सात से कम मूल्य अम्ल का व सात से ऊपर मूल्य क्षार (एल्काई) का संकेत देता है। क्षार एक ऐसा रसायन है जो अम्ल के साथ अभिक्रिया करने पर लवण बनाता है। क्षार का पीएच मान सात से अधिक होता है।
  • शरीर में रोगों की शुरुआत अम्ल और क्षार के असंतुलन से होती है। यदि इसको संतुलित कर लिया जाए तो रोग खत्म हो सकते है। 
  • इंसान के शरीर में लगभग 80 प्रतिशत क्षार तथा 20 प्रतिशत अम्ल होता है। जब यह अनुपात बिगड़ जाता है तो रोग शरीर को घेरने लगते हैं। इस अनुपात को सही रखकर शरीर को स्वस्थ रखा जा सकता है। 
  • अधिकतर खाद्य पदार्थ जैसे नींबू, संतरा, पत्तेदार सब्जियां, नारियल, अंकुरित अनाज, खजूर,अंजीर व मेवा आदि में क्षार पाया जाता है।
  • अंडा, मांस, पनीर, मक्खन, पका हुआ भोजन, चीनी व इससे बने पदार्थ, कॉफ़ी, चाय, मैदा, नमक, चॉकलेट, तंबाकू, सोड़ा, वेजिटेबल ऑइल, अल्कोहल, तेल से बनी चीजें आदि में अम्ल अधिक होता है।  

ऐल्कलाइन डाइट के लाभ:

  • ऐल्कलाइन डाइट का उद्देश्य शरीर के पीएच स्तर के संतुलन को कायम रखना होता है।
  • हमारा शरीर अम्लीय हो जाने पर बीमारियों का घर बन जाता है और रोग ऐसे में शरीर को घेर लेते हैं।
  • कोशिकाओं को सुचारू रूप से काम करने योग्य बनने के लिए शरीर से विषाक्त पदार्थों को बाहर कर इसे डीटॉक्स करना बेहद जरूरी होता है, और ऐल्कलाइन डाइट ऐसा करने में कारगर होती है।
  • इसके अलावा ऐल्कलाइन डाइट जबड़ों को यथा स्थान सुदृढ़ बनाए रखने में सहायक होती है और दर्द के एहसास को घटाती है।
  • यह डाइट वृद्धावस्था की रफ्तार को कम करती है। यह खाने के पाचन में मददगार होती है। आपको एक स्वस्थ और छरहरी काया देने में ऐल्कलाइन डाइट बड़े काम की है। 

यह लेख केवल सामान्य जानकारी के लिए है। यह किसी भी तरह से किसी दवा या इलाज का विकल्प नहीं हो सकता। ज्यादा जानकारी के लिए हमेशा आयु ऐप (AAYU App) पर डॉक्टर से संपर्क करें.

फ्री हैल्थ टिप्स अपने मोबाइल पर पाने के लिए अभी आयु ऐप डाऊनलोड करें । क्लिक करें  

Leave a Reply

Your email address will not be published.