हल्दी के दूध के फायदे और नुकसान | Daily Health Tip | 06 April 2020 | AAYU App

benefits of drinking turmeric milk

हल्दी का नियमित सेवन शरीर को फंगस, जीवाणुओं और विषाणुओं से होने वाले संक्रमण से बचाता है। इसे आप दूध में मिलाकर भी पी सकते है। “

Regular intake of turmeric protects the body from infections caused by fungi, bacteria and viruses. You can drink it by mixing it with milk.

Health Tips for Aayu App

हल्दी वाले दूध के फायदे:

  • सर्दी होने या शारीरिक पीड़ा होने पर घरेलू इलाज के रूप में हल्दी वाले दूध का इस्तेमाल करना चाहिए।
  • किसी कारण से शरीर के बाहरी या अंदरूनी हिस्से में चोट लग जाए तो हल्दी वाला दूध इसे जल्द से जल्द ठीक करता है क्योंकि इसके एंटीबैक्टीरियल और एंटीसेप्टिक गुणों के कारण यह बैक्टीरिया को पनपने नहीं देता।
  • शरीर के दर्द में हल्दी वाला दूध आराम देता है। अगर आपको शरीर के किसी भी भाग में दर्द की शिकायत है तो रात को सोने से पहले हल्दी के दूध का सेवन करें।
  • दूध पीने से त्वचा में प्राकर्तिक चमक पैदा होती है। दूध का हल्दी के साथ सेवन एंटीसेप्टिक व एंटीबैक्टीरियल होने के कारण त्वचा की समस्याओं को धीरे-धीरे खत्म कर देता है।
  • दूध में कैल्शियम होने के कारण यह हड्डियों को मजबूत बनाता है और हल्दी के गुणों के कारण रोग प्रतिरोधक क्षमता में वृद्धि होती है।
  • हल्दी वाले दूध का सेवन, आपकी आंतो को स्वस्थ रखकर पाचन संबंधी समस्याओं को दूर करता है। पेट के अल्सर, डायरिया, अपच, कोलाइटिस एवं बवासीर जैसी समस्याओं में भी हल्दी वाला दूध फायदेमंद है। 
  • खून में शुगर की मात्रा अधिक हो जाने पर हल्दी वाले दूध का सेवन ब्लड शुगर को कम करने में मदद करता है।
  • हल्दी वाले दूध में मौजूद एंटी माइक्रो बैक्टीरियल गुण, दमा, ब्रोंकाइटिस, साइनस, फेफड़ों में जकड़न व कफ से राहत देने में सहायता करते है। गर्म दूध के सेवन से शरीर में गर्मी का संचार होता है जिससे सांस की तकलीफ में आराम मिलता है।
  • हल्दी वाला दूध आपको संक्रमण से बचाता है।

हल्दी वाले दूध के नुकसान:

  • अगर आपको पित्ताशय (Gall Bladder) से जुड़ी कोई समस्या है तो हल्दी वाले दूध से आपकी यह समस्या और बढ़ जाएगी। अगर आपकी पित्त की थैली में स्टोन है तो आपको हल्दी वाला दूध नहीं पीना चाहिए।
  • अगर आपको ब्लीडिंग प्रॉब्लम है तो हल्दी वाला दूध आपको नुकसान पहुंचा सकता है। यह ब्लड क्लॉटिंग की प्रक्रिया को कम कर देता है जिससे ब्लीडिंग की समया और अधिक बढ़ सकती है.
  • हल्दी में एक रासायनिक पदार्थ करक्यूमिन पाया जाता है. जो ब्लड शुगर को प्रभवित करता है। ऐसे में अगर आपको मधुमेह है तो हल्दी वाला दूध पीने से परहेज करना ही बेहतर है।
  • हल्दी का बहुत अधिक सेवन करने से आयरन का अवशोषण बढ़ जाता है। जिन लोगों में पहले से ही आयरन की कमी है उन्हें बहुत सोच-समझकर हल्दी का सेवन करना चाहिए.
  • हल्दी खून का थक्का जमने नहीं देता जिसकी वजह से खून का स्राव बढ़ जाता है अगर आपकी सर्जरी हुई है या फिर होने वाली है तो हल्दी के सेवन से बचें।

फ्री हैल्थ टिप्स अपने मोबाइल पर पाने के लिए अभी आयु ऐप डाऊनलोड करें । क्लिक करें

Leave a Reply

Your email address will not be published.