भीगे हुए बादाम खाने के फायदे और नुकसान | Daily Health Tip | 08 April 2020 | AAYU App

soaked almonds benefits

रोजाना 8-10 बादाम भिगोकर खाने से इसमें मौजूद विटामिन-ई शरीर में नेचुरल किलर सेल्स को बढ़ाने में मदद करता है जो विषाणुओं और कैंसरयुक्त कोशिकाओं को नष्ट करने में सहायक है।

Eat 8-10 water soaked almonds daily. Vitamin-E present in it helps to increase natural killer cells in the body, which is helpful in destroying viruses and cancerous cells.

Health Tips for Aayu App

बादाम को भिगोने से शरीर को उनसे अधिक विटामिन और खनिजों को अवशोषित करने की क्षमता मिलती है। बादाम सबसे पौष्टिक ‘ड्राई फ्रूट्स’ है, क्योकि इसमें फाइबर, प्रोटीन, ओमेगा-3 फैटी एसिड, ओमेगा-6 फैटी एसिड, विटामिन ई, पोटैशियम, जस्ता, कैल्शियम, मैग्नीशियम जैसे अनेक महत्वपूर्ण तत्व पाए जाते है।

भीगे बादाम में पाए जाने वाले पोषक तत्व:

भीगे बादाम में सूखे बादाम के समान ही पोषक तत्व होते है, साथ ही साथ मुख्य विटामिन-बी और लाइपेज (lipase) एंजाइम अधिक मात्रा में होते है। बादाम पोटेशियम, फाइबर आहार, प्रोटीन और वसा का भी एक अच्छा स्रोत है बादाम में वसा के रूप में मोनोअनसैचुरेटेड, पॉलीअनसैचुरेटेड वसा और संतृप्त वसा का निम्न स्तर शामिल होता है। बादाम में कैल्शियम और लौहे के अलावा शक्तिशाली एंटीऑक्सीडेंट भी शामिल है जो सम्पूर्ण स्वास्थ्य में सुधार कर सकते है।

भीगे बादाम खाने के फायदे:

  • रात भर भीगे बादाम में मुख्य रूप से अधिक मात्रा में विटामिन ई, फाइबर आहार और फोलिक एसिड उपस्थित होने के कारण यह पाचन, मधुमेह, त्वचा और पुरानी बीमारियों के लिए अत्यंत लाभकारी प्रभाव डालता है।
  • कच्चे बादाम की तुलना में भीगे बादामों में विटामिन-ई अच्छी मात्रा में पाई जाती है, और यह विटामिन त्वचा की सूजन और उसकी क्षति को कम करने के लिए एंटीऑक्सिडेंट के रूप में कार्य करता है।
  • भीगी बादाम में मौजूद विटामिन ई और अन्य एंटीऑक्सीडेंट आपके शरीर से हानिकारक अवयवों (Ingredients) को खत्म कर सकते है। जिससे आप लंबे समय तक युवा दिख सकते है।
  • भीगी हुई बादाम का सेवन क्षतिग्रस्त त्वचा ऊतकों की आंतरिक रूप से मरम्मत करता है और नई कोशिकाओं के निर्माण की प्रक्रिया को बढ़ा देता है। इसके पेस्ट को मॉइस्चराइजर के रूप में त्वचा पर लगाने से चमक आती है। इसके आलावा इसके इस्तेमाल से त्वचा में निखार आता है और फिर आपको त्वचा मुलायम और चिकनी महसूस होती है।
  • भिगोये हुए बादाम केवल शारीरिक स्वास्थ्य या त्वचा के लिए ही फायदेमंद नहीं होते बल्कि इनके सही उपयोग से बाल लंबे भी हो सकते है।
  • कच्चे बादाम की तुलना में भिगोये हुए बादाम में फोलिक एसिड के उच्च स्तर के कारण न्यूरल ट्यूब दोषों को रोकने में मदद मिलती है, यह दोष फोलेट की कमी के कारण होता है।
  • भिगोये हुए बादाम माता और साथ ही गर्भ दोनों के लिए पोषण और ऊर्जा प्रदान करते है। इसके अलावा, बादाम की फोलिक एसिड सामग्री बच्चे को स्वस्थ रखने में मदद करती है।
  • रात में भिगोकर सुबह बादाम के सेवन से पेरिस्टाल्टिक गति (peristaltic motion) को नियंत्रित करने में मदद मिलती है, और कब्ज, अपचन, सूजन और ऐंठन के लक्षणों को कम किया जा सकता है।
  • बादाम की बाहरी परत में कुछ एंजाइम रुके होते है, जो नमी की उपस्थिति के कारण मुक्त हो जाते है, और बीज को सक्रिय करते है। अतः यह पाचन क्रिया को आसान बनाते है और लोगों को अधिकतम पोषण प्रदान करते है। भिगोये हुए बादाम लिपिड-ब्रेकिंग एंजाइम ‘लिपेज’ को सक्रिय करते है, यह एंजाइम भोजन में मौजूद वसा के पाचन में सहायता करता है।
  • भिगोये हुए बादामों में मोनोअनसैचुरेटेड और पॉलीअनसैचुरेटेड वसा अधिक मात्रा में होती है, जो कोलेस्ट्रॉल संतुलित करने और हार्ट अटैक, स्ट्रोक और ऐथिरोस्क्लेरोसिस (atherosclerosis एक बीमारी है जिसमें आपकी धमनियों के अंदर प्लाक जमा हो जाता है ) को रोकने में मदद करते है।

भीगे हुए बादाम के नुकसान:

  • बादाम विटामिन-ई का अच्छा स्रोत है जिसके कारण विटामिन ई की अतिरिक्त मात्रा के कारण, दस्त, फूलना, धुंधली दृष्टि, सिरदर्द चक्कर आना, सुस्ती आदि समस्यओं को जन्म देती है।
  • बादाम भी मैंगनीज से समृद्ध मात्रा में होता है। शरीर में मैंगनीज की उच्च मात्रा लक्सेटिव एंटीबायोटिक्स और कुछ ब्लड प्रेशर दवाओं के साथ क्रिया कर दुष्प्रभाव प्रकट कर सकती है।
  • भीगे बादाम का अत्यधिक सेवन शरीर में विषाक्तता पैदा कर सकती है।

फ्री हैल्थ टिप्स अपने मोबाइल पर पाने के लिए अभी आयु ऐप डाऊनलोड करें । क्लिक करें

Leave a Reply

Your email address will not be published.