☕ गर्मी में कैफीन पीने के फायदे और नुकसान | Daily Health Tip | 27 February 2020 | AAYU App

caffein side effects and benefits

गर्मी के मौसम में चाय कॉफ़ी कम पीनी चाहिए क्योंकि इसमें कैफीन पाया जाता है जो शरीर को डीहाइड्रेट करता है जिससे शरीर में पानी की कमी हो सकती है। “

In Summer, drink Tea & coffee in less amount as they contain caffeine which dehydrates the body, may result in deficiency of water in the body. ”

Health Tips for Aayu App

कैफीन एक कड़वी, सफेद क्रिस्टलाभ एक्सेन्थाइन अलकोलॉइड है। कैफीन दुनिया की सबसे व्यापक उपभोग वाली मनोचिकित्सक दवा है। कैफीन स्वाभाविक रूप से 60 से अधिक पौधों में पाया जाता है।

कैफीन कई तरीकों से शरीर की चयापचय (Metabolism)प्रक्रिया को प्रभावित करता है। कैफीन केंद्रीय तंत्रिका तंत्र को उत्तेजित करता है और रोगी सतर्क, ऊर्जावान महसूस करता है।

कैफीन के फायदे:

उम्र बढ़ायें:

कैफीन एडिक्ट लोग कैफीन न लेने वाले लोगों से ज्यादा जीते हैं। कॉफ़ी पीने वाले लोगों में ना के बराबर साइड इफ़ेक्ट पाए गए।

बेहतर एथलिट बनने में सहायक:

कॉफी में फैटी एसिड मौजूद होते हैं, जो कि खून के संचार में तेजी लाते हैं। मांसपेशियों के लिए आसान हो जाता है कि वो इस एसिड को ईंधन के तरह इस्तेमाल करें। इसलिए, खिलाड़ियों के लिए कॉफी पीना अच्छा होता है।

वजन घटाने में सहायक:

जो लोग ग्रीन कॉफी पीते हैं उनमें वजन तेजी से कम होता है। एक शोध के अनुसार कॉफी का सेवन करने वाले 37.5 प्रतिशत पहले से मोटापे का शिकार लोगों का वजन सामान्य हुआ।

दिमाग के लिए लाभदायक:

कॉफी के संतुलित सेवन से अल्जाइमर से बचाव होता है। कॉफी पीने से दिमाग की क्षमता और याददाश्त बढ़ जाती है। दिमाग पर कॉफी का असर इसे पीने के 24 घंटे तक रहता है। विशेषज्ञों के अनुसार, याददाश्त बढ़ाने के लिए कॉफी की 200 मिलीलीटर मात्रा काफी होती है।

मानसिक व शारीरिक स्वास्थ के लिए मददगार:

3 से 4 कप कॉफी पीने वाले लोगों को टाइप 2 डायबिटीज का जोखिम कम होता है। कॉफ़ी से स्किन कैंसर तथा अलज़ाइमर का खतरा भी कम होता है।

आंतों के कैंसर के लिए फायदेमंद:

आंतों के कैंसर से ग्रस्त लोगों के लिए यह किसी बड़ी खुशखबरी से कम नहीं है कि कॉफी पीने से आंतो का कैंसर कम हो सकता है। कॉफी में पाए जाने वाले तत्व कैंसर को कम कर देते हैं।

लिवर के लिए फायदेमंद:

गैर-शराब संबंधित फैटी लीवर रोग से पीड़ित लोगों में कैफीन फैटी लीवर कम कर सकती है। यह किडनी में पथरी तथा पुरुषों में इरेक्टाइल डिस्फंक्शन से बचाती है।

कैफीन के नुकसान:

हार्ट रेट का बढ़ना:

कैफीन तंत्रिका तंत्र को उत्तेजित करती है, जिसके कारण दिल पर अधिक दबाव पड़ता है। इस अतिरिक्त कार्य को समायोजित करने के लिए, हार्ट रेट विशेष रूप से तेज हो जाता है। इसलिए दिल की समस्‍या या अनियमित धड़कन से पीड़ित लोगों के लिए खतरनाक हो सकता है। ज्‍यादा कॉफी पीने से आपके सोने के तरीके में हस्‍तक्षेप हो सकता है। इसलिए सोने से पहले कैफीन का सेवन अच्‍छा नहीं होता है।

सिरदर्द की शिकायत:

कैफीन थकान या उनींदापन से अल्पकालिक राहत प्रदान करता है। लेकिन बहुत ज्यादा कैफीन के सेवन से कुछ दुष्प्रभाव हो सकते हैं। हर कोई कैफीन के ज्‍यादा सेवन से मस्तिष्क और तंत्रिका तंत्र में उत्तेजना की वृद्धि को सहन नहीं कर पाता। बहुत ज्यादा कैफीन, मस्तिष्क पर उत्तेजक प्रभाव के कारण सिर दर्द का कारण हो सकता है। दर्द की तीव्रता भिन्न होने के कारण यह अन्य चिकित्सा समस्याओं के साथ भ्रमित कर सकता है। माइग्रेन से प्रभावित लोगों को विशेष रूप से कैफीन के सेवन से बचना चाहिए।

मूत्रवर्धक:

कॉफ़ी यूरीन के साथ आपके शरीर को तरल पदार्थ से छुटकारा दिलाने में मदद करता है। जब आप अपने पेय के रूप में चाय, कॉफी या सोडा लेते हैं तो आपको हर थोड़ी देर के बाद टॉयलेट जाने की संभावना बढ़ जाती है। शरीर से इतना ज्‍यादा तरल पदार्थ निकलने से आपको निर्जलीकरण की समस्‍या हो सकती है। बहुत ज्यादा कैफीन पीने के बाद कुछ लोग उल्टी करने लगते हैं, लेकिन यह बहुत ही दुर्लभ लक्षण है।

बोन मास डेंसिटी कम करने में मददगार:

कैफीन आपके रक्तचाप को बढ़ाता है। यह प्रभाव अस्थायी होता है, लेकिन अगर आप बहुत अधिक मात्रा में कॉफी पीते हैं, तो यह स्थायी उच्च रक्तचाप का कारण बन सकता है। आप अपने कान और सिर दर्द में बज अनुभव से बढ़ते हुए रक्तचाप के प्रभाव को महसूस कर सकते हैं। अगर आप इन समस्याओं से पी‍डि़त हैं तो आपको कॉफी को छोड़ने के बारे में सोचना चाहिए। एक साल तक एक दिन में तीन कप कॉफी से अधिक पीना बोन मास डेंसिटी को कम करता है। इसका मतलब आप ऑस्टियोपोरोसिस (Osteoporosis) के विकास के उच्च जोखिम पर हैं। ऑस्टियोपोरोसिस की बीमारी से महिलाएं कमजोर हड्डियों से पीड़ित होती हैं।

विकास में बाधा:

दूध, जूस और पानी जैसे स्‍वस्‍थ पेय के स्‍थान पर बहुत ज्‍यादा कैफीन लेने वाले बच्‍चों को वृद्धि और विकास के लिए उचित मात्रा में पर्याप्‍त पोषण नहीं मिल पाता है। कैफीन बच्‍चे की भूख को कम करता है और ऐसा होने पर वह आहार से पर्याप्त पोषण नहीं ले पाते। बहुत अधिक मात्रा में कैफीन पीने के बाद लोग शरीर में कंपन या तनाव का अनुभव करते हैं। ऐसा तंत्रिका तंत्र पर अधिक उत्तेजना के कारण होता है। जो लोग शरीर पर कैफीन के प्रभाव को सहन करने में असमर्थ होते हैं, उन लोगों में यह चिंता का कारण बन सकता है। और कुछ मामलों में ऐसे लोगों को अवसाद के लक्षणों का अनुभव हो सकता है।

फ्री हैल्थ टिप्स अपने मोबाइल पर पाने के लिए अभी आयु ऐप डाऊनलोड करें । क्लिक करें

Leave a Reply

Your email address will not be published.