तिल के फायदे और नुकसान | Daily Health Tip | Aayu App

Benefits of sesame seeds

तिल में मोनो सैचुरेटेड फैटी एसिड पाया जाता है। यह ब्लड प्रेशर कंट्रोल करने में मदद करते है। इसलिए सर्दियों में तिल का सेवन करें।

Sesame contains mono-saturated fatty acids. It helps in controlling blood pressure. Therefore, consume sesame in winter.

Health Tip for Aayu App

सर्दियों के मौसम में तिल का इस्तेमाल करना फायदेमंद माना जाता है। तिल एक ऐसी चीज है जिसको आमतौर पर सभी घरों में इस्तेमाल किया जाता है। तिल दो प्रकार के होते है सफेद तिल और काले तिल। तिल को कई अलग तरह की डिश और डेजर्ट, फूड में स्वाद को बढाने के लिए इस्तेमाल किया जाता है। तिल में मौजूद पॉलीसैचुरेटेड फैटी एसिड, ओमेगा-6, फाइबर, आयरन, कैल्शियम, मैग्नीशियम और फासफॉरस जैसे तत्व पाए जाते है, जो शरीर के लिए बहुत फायदेमंद माने जाते है।

तिल का तेल, तिल के लड्डू से लेकर तिल की गजक तक में तिल का उपयोग किया जाता है। तिल के सेवन से कई बीमारियों के खतरे से बचा जा सकता है। तिल को सिर्फ सेहत ही नहीं सुंदरता के लिए भी फायदेमंद माना जाता है। तिल के फायदों के बारे में बहुत कम लोगों को पता होता है, वे सिर्फ तिल को स्वाद के लिए इस्तेमाल करते है। आइये जानते है तिल के स्वास्थ्य लाभ (Sesame seeds health benefits).

तिल के फायदे: Sesame Seeds Health Benefits in Hindi:

पाचन में फायदेमंद: तिल के बीज हाई फाइबर से भरपूर होते है। तिल के बीज कब्ज से निजात दिलाने में मददगार साबित हो सकते है। तिल के बीज में पाया जाने वाला तेल आपकी आंतों को चिकनाई देता है।

एनर्जी दिलाएं: तिल में ओमेगा-6 जैसे हेल्दी फैट के अलावा फाइबर, आयरन, कैल्शियम, मैग्नीशियम और फास्फोरस मौजूद होता है, जो शरीर को एनर्जी देने में मदद करता है। तिल को स्वाद ही नहीं एनर्जी के लिए भी अच्छा माना जाता है।

हार्ट के लिए फायदेमंद: तिल को हार्ट के लिए लाभकारी माना जाता है। तिल में कैल्श‍ियम, आयरन, मैग्नीशियम, जिंक और सेलेनियम होते है जो हार्ट को कई बीमारियों के खतरे से बचाने में मदद करते है।

कोलेस्ट्रॉल कम करें: कोलेस्टॉल के लेवल को कम करने के लिए तिल का सेवन करें। तिल में पाया जाने वाला मोनो-सैचुरेटेड फैटी एसिड हमारी बॉडी में कोलेस्ट्रोल लेवल को कम करने में मदद करते है। जो ब्लड प्रेशर को कंट्रोल करने में मदद करता है।

हड्डियों को मजबूत बनाएं: तिल में कैल्श‍ियम, फॉस्फोरस और मैग्नीशियम जैसे तत्व पाए जाते है,‍ जो हड्डियों को मजबूत बनाने और जोड़ों के दर्द से छुटकारा दिलाने में मदद करते है। हड्डियों को कमजोर होने से बचाने के लिए तिल को अपनी डाइट में शामिल करें।

दिल की मांसपेशियों को मजबूत रखें: तिल में कई तरह के लवण जैसे कैल्श‍ियम, आयरन, मैग्नीशियम, जिंक और सेलेनियम होते है जो हृदय की मांसपेशि‍यों को सक्रिय रूप से काम करने में मदद करते है।

बिमारियों से छुटकारा दिलाएं: तिल में सेसमीन नाम का एंटीऑक्सीडेंट पाया जाता है जो कैंसर कोशिकाओं को बढ़ने से रोकता है। इससे लंग कैंसर, पेट के कैंसर, ल्यूकेमिया, प्रोस्टेट कैंसर, ब्रेस्ट कैंसर होने की आशंका को कम करता है।

मेमोरी मजबूत करें:

मेमोरी पावर बढ़ाने के साथ-साथ यह पाचन शक्ति को भी मजबूत बनाता है। इससे वात की समस्या (Wind Problem) दूर होती है लेकिन प्रेग्नेंट महिलाएं या ऐसे लोग जिनको एलर्जी की समस्या है, उन्हें डॉक्टर की सलाह पर ही तिल का सेवन करना चाहिए।

तिल के नुकसान: Side Effects of Sesame Seeds in Hindi:

कुछ लोगों में तिल एलर्जिक रिएक्शन ट्रिगर कर सकता है जो डॉक्टर के पास जाने को मजबूर कर सकता है।

जो लोग लो बीपी के मरीज है उन लोगों के लिए यह नुकसानदेह हो सकता है। ऐसे लोगों को डॉक्टर से सलाह लेकर ही तिल खाना चाहिए।

ज्यादा तिल खाने से पाचन क्रिया तेज हो सकती है जिससे डायरिया की समस्या हो सकती है।

तिल तेल पोर्स को ब्लॉक कर स्कैल्प इरिटेशन की वजह बन सकता है जिससे बाल झड़ना शुरू हो सकता है। इसे सिर में आधे घंटे से ज्यादा नहीं लगाने की सलाह दी जाती है।

यह लेख केवल सामान्य जानकारी के लिए है। यह किसी भी तरह से किसी दवा या इलाज का विकल्प नहीं हो सकता। ज्यादा जानकारी के लिए हमेशा आयु ऐप (AAYU App) पर डॉक्टर से संपर्क करें.

फ्री हैल्थ टिप्स अपने मोबाइल पर पाने के लिए अभी आयु ऐप डाऊनलोड करें । क्लिक करें  

Leave a Reply

Your email address will not be published.