खराब डाइट बढ़ा सकती है कोरोना जैसे वायरस से संक्रमित होने की आशंका

Bad diet

अमेरिका में किसान, दूध, अंड़ा और फसल फेंक रहे हैं। वहां 37 लाख गैलन दूध और लाखों टन ताजा खाना बर्बाद हो रहा है। कोरोना महामारी के समय में खाने की ऐसी बर्बादी खतरनाक है। टुफ्ट्स यूनिवर्सिटी के फ्रेडमैन स्कूल ऑफ न्यूट्रिशन साइंस एड पॉलिसी के प्रमुख डा दारिउस मोजाफअरिन के मुताबिक, देश में इतने उत्पादन के बावजूद अमेरिका में हर पांच में से एक व्यक्ति का ही मेटाबॉलिज्म मजबूत है। वे खराब डाइट को लोगों की खराब सेहत का सबसे प्रमुख कारण मानते हैं। उनके मुताबिक खराब डाइट की वजह से हर साल 5 लाख लोगों की मौत हो रही है। 

खराब डाइट से कोरोना संक्रमण की आशंका

  1. डा मोजाफअरिन बताते हैं कि  खराब मेटाबॉलिज्म इम्यूनिटी को कमज़ोर करता है, जिससे दिल संबंधी रोग, टाइप-2 डायबिटीज़ और मोटापे से संबंधित कैंसर की आशंका होती है। 
  2. खराब डाइट की वजह से खराब हुआ मेटाबॉलिज्म भी दुनिया को कोरोना वायरस का शिकार बना रहा है। केवल 12 फीसदी अमेरिकी ही ऐसे हैं जिन्हें हाई ब्लड प्रेशर, हाई कॉलेस्ट्रॉल, हाई डायबिटीज़ और प्री डायबिटीज़ नही हैं।

उम्र ही नहीं, ये सभी बीमारियां कोविड-19 के खतरे को बढ़ाती हैं। 

शरीर के बीच वाले हिस्से में ज्यादा फैट, हायपरटेंशन, उच्च ब्लड शुगर और खराब कॉलेस्ट्रॉल प्रोफाइल मेटाबॉलिक सिंड्रॉम कहलाते हैं। जो कि खराब डाइट से जुड़े हुए हैं। ये मेटाबॉलिक सिंड्रॉम रोग प्रतिरोधक क्षमता को कम करते हैं और संक्रमण, निमोनिया यहां तक की कैंसर की आशंका भी बढ़ाते हैं। 

डॉ मोज़ाफारिअन कहते हैं ये सभी पूरे शरीर में होने वाली जलन और सूजन से जुड़े हुए हैं और कोरोना भी इसी तरह की जलन से  मारता है, जो शरीर की रोगाणुओं से लड़ने की क्षमता खत्म कर देता है। अब लोगों को बाजार कम से कम जाने को कहा जा रहा है, जिससे कैन वाले और पैकेज्ड फूड पर लोगों की निर्भरता बढ़ रही है,

जिनमें ज्यादा फैट, शुगर और नमक होता है। यानि इनमें न्यूट्रिशन कम होता है और डाइट संबंधी बीमारियों से वायरस से संक्रमित होने की आशंका और अधिक बढ़ जाती है। इसलिए एक पौष्टिक और संपूर्ण डाइट को आदत में शामिल करना जरूरी है, ताकि फिर कभी कोरोना वायरस जैसी महामारी आए, तो कम से कम खराब डाइट (Bad Diet) की वजह से तो हमारी इम्यूनिटी कमजोर न रहे। 

कोरोना के दौर में डाइट पर कैसे करें नियंत्रण

तनाव में हम ज्यादा खाते हैं। कोरोना महामारी का तनाव लिए बिना खुद पर नियंत्रण रखना चुनौतिपूर्ण है। कैलिफ़ोर्निया यूनिवर्सिटी में क्लिनिकल न्यूट्रिशन विभाग की प्रमुख और सेंटर ऑफ ह्यूमन न्यूट्रिशन की निदेशक झाओपिंग ली कहती हैं कि उन चीजों को स्टॉक में रखना बंद करें जिन्हें आप अपनी डाइट (Diet) से हटाना चाहते हैं। वे कहती हैं, ‘कोरोनावायरस (Corona virus) की वजह से क्वारंटाइन (Quarantine) में रह रहे लोगों के लिए यह अपनी डाइट सुधारने का यह सुनहरा समय है। कोई भी प्रोसेस्ड फूड जिसमें सिरीयल्स, कुकीज (Cookies) और जूस (Juice) शामिल हैं

इस महामारी से हमें सबक लेना चाहिए की स्वास्थ्य पर फोकस करना जरूरी है। क्या और कितना खा रहे हैं, उस पर ध्यान देना जरूरी है।  

संबंधित खबरें –

आयु है आपका सहायक

प्रधानमंत्री ने राष्ट्र के नाम अपने संबोधन में लोगों को संकल्प लेने को कहा है कि वे केंद्र और राज्य सरकारों के परामर्श का अनुपालन करेंगे। मोदी ने लोगों से अनुरोध किया कि वे नियमित जांच के लिए अस्पताल जाने से बचें ताकि स्वास्थ्यकर्मियों पर दबाव कम हो। ऐसे में आयु ऐप आपको कोरोना या किसी भी अन्य बीमारी से लड़ने और उसकी संपूर्ण जानकारी विशेषज्ञ डॉक्टरों के द्वारा आपको घर बैठे निशुल्क उपलब्ध करवा रहा है। आप इस ऐप के माध्यम से विशेषज्ञ डॉक्टरों से परामर्श और इलाज की सुविधा ले सकते हैं इसके लिए नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें।

Source – द न्यूयॉर्क टाइम्स  

Leave a Reply

Your email address will not be published.