एलर्जी अस्थमा के लक्षण, अस्थमा में क्या नहीं खाना चाहिए?

asthma treatment

एलर्जिक अस्थमा (Allergic Asthma) के दौरान किसी विशेष चीज से एलर्जी होती है जैसे धूल मिट्टी के सम्पर्क में आते ही साँस फूलने लगना या मौसम में बदलाव होना। नॉन एलर्जिक अस्थमा (Non Allergic Asthma) तब होता है जब कोई बहुत अधिक तनाव में हो या बहुत सर्दी या खाँसी जुकाम हो रहा हो। हम सबसे पहले आपको यहाँ एलर्जी अस्थमा के लक्षण के बारे में बताते है।

एलर्जी अस्थमा के लक्षण (Symptoms of Asthma):

दमा या एलर्जी अस्थमा के लक्षण (asthma ke lakshan)के रूप में सबसे पहले सांस लेने में तकलीफ होती है। इसके अलावा और भी कई तरह के लक्षण होते है। अस्थमा के लक्षणों का जितनी जल्दी पता चलता है उतनी ही जल्दी अस्थमा का इलाज होना संभव होता है। आइये जानते है एलर्जी अस्थमा के लक्षण

  • बार-बार खाँसी आना।
  • साँस लेते समय सीटी जैसी आवाज आना।
  • छाती में भारीपन।
  • साँस फूलना
  • खाँसी के समय कठिनाई होना और कफ ना निकल पाना।
  • गले का ब्लॉक और ड्राई होना।
  • बेचैनी होना।

अस्थमा कैसे फैलता है (How Asthma Spreads)?

दमा साँस की नली में सूजन आने से होता है, साँस की नली का काम फेफड़ों में से हवा को बाहर लाना और उसे अंदर ले जाना होता है। इस सूजन की वजह से साँस की नली बहुत संवेदनशील हो जाती है, इसलिए यह सिकुड़ जाती है। यह कभी भी, या किसी ट्रिगर के संपर्क में आने के बाद हो सकता है।

बच्चों में अस्थमा के लक्षण (Asthma Symptoms in Children):

माता-पिता को बच्चों में अस्थमा के लक्षण पर ध्यान देना बहुत जरूरी है, क्योंकि कई बार कुछ सामान्य से दिखने वाले लक्षण (अस्थमा) दमा का संकेत दे सकते है। नीचे आपको बच्चों में अस्थमा के लक्षणों के बारे में बताएंगे।

  • खांसना और रात को खांसी ज्यादा होना
  • सीने में कसाव महसूस होना
  • सांस लेने में परेशानी होना
  • व्हीजिंग (wheezing) यानि सांस लेते वक्त सीटी जैसी आवाज निकलना

विशेषज्ञ डॉक्टरों से अपनी समस्याओं का घर बैठे पाएं समाधान, अभी परामर्श लें 👇🏽

Online Consultation through Aayu Card
Online Consultation through Aayu Card

दमे का उपचार (Treatment of Asthma):

लहसुन खाएं: दमा के उपचार में आप लहसुन का इस्तेमाल कर सकते है। यह अस्थमा के रोगियों के लिए बहुत लाभदायक होता है। इसके लिए आप 30 मि.ली. दूध में लहसुन की पाँच कलियाँ उबालें और इस मिश्रण का हर रोज सेवन करें जिससे अस्थमा का जड़ से इलाज हो सकें।

अंजीर खाएं: अंजीर के सूखे फल गुणकारी होते है। यह कफ को जमने से रोकते है। सूखी अंजीर को गर्म पानी में रातभर भिगोकर रखें। सुबह खाली पेट इसे खाएं। ऐसा करने से श्वास नली में जमा बलगम ढीला होकर बाहर निकलता है और इससे संक्रमण से भी राहत मिलती है।

अजवाइन खाएं: अस्थमा से बहुत लोग पीड़ित रहते है। अस्थमा का जड़ से इलाज करने के लिए आप अजवाइन का सेवन करें। इसके लिए आप अजवाइन डालकर उबालें और इस पानी से भाप लें।

मैथी खाएं: मैथी हर जगह दिखता है। आप मैथी के इस्तेमाल से अस्थमा का इलाज कर सकते है। अस्थमा का घरेलू उपचार (Home remedies for Asthma) करने के लिए आप मैथी का प्रयोग कर सकते है। शरीर की भीतरी एलर्जी को खत्म करने में मैथी सहायक है। मैथी के कुछ दानों को एक गिलास पानी के साथ तब तक उबालें जब तक पानी एक तिहाई ना हो जाए। इस पानी में शहद और अदरक का रस मिलाकर रोज सुबह-शाम इसका सेवन करें।

अदरक खाएं: अस्थमा का जड़ से इलाज करने के लिए आप अदरक का इस्तेमाल करें। अदरक की चाय में लहसुन की दो पिसी हुई कलियाँ मिलाकर पिएँ। अदरक का एक चम्मच ताजा रस, एक कप मैथी का काढ़ा और स्वादानुसार शहद मिश्रण में मिलाएँ।

अस्थमा में क्या नहीं खाना चाहिए (What not to eat in Asthma)?

  • अनाज
  • दाल
  • फल
  • सब्जियाँ
  • तेलीय पदार्थ
  • फैट युक्त पदार्थ

अस्वीकरण: सलाह सहित इस लेख में सामान्य जानकारी दी गई है। अधिक जानकारी के लिए आज ही अपने फोन में आयु ऐपडाउनलोड कर घर बैठे विशेषज्ञ डॉक्टरों से परामर्श करें। स्वास्थ संबंधी जानकारी के लिए आप हमारे हेल्पलाइन नंबर 781-681-11-11 पर कॉल करके भी अपनी समस्या दर्ज करा सकते हैं। आयु ऐप हमेशा आपके बेहतर स्वास्थ के लिए कार्यरत है। 

Leave a Reply

Your email address will not be published.