अपेंडिक्स क्या है? जानें, अपेंडिक्स के लक्षण और घरेलू उपचार

Appendicitis cause symptoms & treatment

अपेंडिक्स  (Appendicitis ) छोटी आंत और बड़ी आंत के बीच में मौजूद ऑर्गन होता है। यह शहतूत के आकार का होता है और आंत से बाहर की ओर निकला रहता है। इसमें डाइजेशन के लिए अच्छे बैक्टीरिया जमा होते रहते हैं। अगर कभी खुले सिरे से खाना अंदर चला जाए तो बंद सिरे से बाहर नहीं आ पाता। इससे अपेंडिक्स में इंफैक्शन होने लगता है, जिससे धीरे- धीरे पेट के दाईं ओर सूजन और दर्द होने लगती है। आइए जानते हैं अपेंडिक्स के बारे में इसके लक्षण और घरेलू इलाज. What is Appendicitis, Appendicitis Symptoms & Treatment)

क्या होती है अपेंडिसाइटिस की बीमारी? What is Appendicitis in Hindi

  • लंबे समय से कब्ज की समस्या, आंत में इंफेक्शन की वजह से अपेंडिक्स में सूजन आ जाती है।
  • अपेंडिक्स को अधिक समय तक नज़रअंदाज़ करना खतरनाक साबित हो सकता है।

अपेंडिक्स से बचने के लिए क्या करें? Appendix treatment In Hindi

  • फाइबर से भरपूर भोजन का सेवन
  • हरी सब्ज़ियाँ, सलाद को भोजन में शामिल करें।
  • भरपूर पानी पीएं।
  • जंक फूड और स्मोकिंग, ड्रिंकिंग से दूर रहें।

अपेंडिक्स के प्रकार Types of Appendix In Hindi

  1. एक्यूट अपेंडिक्स- कभी-कभी यह  2-3 घंटों या कुछ ही दिनों में भी पैदा हो जाता है। इसके शुरुआती लक्षणों में कब्ज और उल्टी की शिकायत होती है।
  2. क्रोनिक अपेंडिक्स- इस तरह की अपेंडिक्स ज्यादा नहीं होती। यह कुछ समय के बाद खुद ही समाप्त भी हो सकती है।

अपेंडिक्स के लक्षण Appendicitis symptoms In Hindi

  • पीठ में दर्द
  • भूख में कमी
  • चक्कर और उल्टी आना
  • दस्त या कब्ज
  • पेशाब करते समय दर्द
  • मलाशय, पीठ या पेट में दर्द
  • ठंडा लगना और शरीर का कांपना
  • गैस नहीं निकाल पाना

अपेंडिक्स के घरेलू इलाज Home Remedies for Appendicitis In Hindi

1. अदरक – वैसे तो कई बीमारियों में अदरक का इस्तेमाल किया जाता है। आयुर्वेद में इसे वात- पित्त दोष के लिए रामबाण इलाज बताया गया है, लेकिन सिर्फ वात-पित्त ही नहीं बल्कि अपेंडिक्स के दर्द और सूजन को समाप्त करने के लिए भी अदरक रामबाण है। रोजाना 2 बार अदरक की चाय पीने से कुछ ही दिनों में फर्क दिखाई देने लगेगा।

2. पालक- अपेंडिक्स से बचने के लिए रोजाना पालक का सूप या इसकी सब्जी बना कर खाएं। पालक शरीर को स्वस्थ रखने का काम करता है।

3. सेंधा नमक- इस समस्या से पीड़ित व्यक्ति को खाना खाने से पहले 1 टमाटर काटकर उसमें सेंधा नमक डाल कर खाना चाहिए । इससे कुछ ही समय के बाद पेट की दर्द और सूजन कम होने लगेगी।

4. तुलसी- यह पेट की बीमारियों के लिए रामबाण औषधी है। रोजाना तुलसी वाली चाय पीने या सुबह खाली पेट तुलसी को चबा- चबा कर खाने से पेट संबंधी समस्या नहीं होती। 

5. छाछ- अगर आप घरेलू तरीके से इस समस्या से राहत पाना चाहते हैं। तो रोजाना छाछ का सेवन करना शुरू करें। अपेंडिक्स के दर्द से छुटकारा पाने के लिए छाछ में काला नमक डालकर पीना लाभकारी है। इससे शरीर में जमा गंदगी बाहर निकल जाती है।

ये भी पढ़ें-

आयु है आपका सहायक

कोरोना वायरस के प्रकोप के चलते आज विश्व टेलीमेडिसिन को अपना रहा है। भारत के प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने भी आमजन से टेलीमेडिसिन के साथ-साथ स्वदेशी अपनाने की बात कही है। भारत का नंबर वन हेल्थकेयर प्लेटफॉर्म आयु पर आप घर बैठे देश के सर्वश्रेष्ठ डॉक्टरों से इलाज़ और परामर्श पा सकते हैं। आज ही डाउनलोड करें स्वदेशी स्वास्थ्य ब्रांड आयु ऐप. हमेशा देश के बेहतर स्वास्थ के लिए अग्रसर |

Leave a Reply

Your email address will not be published.