Afebrile Dengue: बिना बुखार के भी हो सकता है डेंगू, ऐसे करें बचाव

Afebrile Dengue
  • बिना बुखार वाले डेंगू में हल्का इंफेक्शन होता है
  • बूढ़े लोगों और कमज़ोर इम्यूनिटी वाले लोगों में अधिक होता है

डेंगू बुखार का खतरा बारिश का दौर शुरु होने के साथी ही हो जाता है। अक्सर हम ये सोचते हैं कि बुखार होने के बाद ही डेंगू होता है लेकिन हम ग़लत हैं, दरअसल, जरनल ऑफ़ फिजिशियन ऑफ़ इंडिया में प्रकाशित एक रिपोर्ट में खुलासा हुआ है कि डेंगू फीवर बिना बुखार के भी हो जाता है, जिसे एफेब्रिल डेंगू (Afebrile Dengue) कहा गया है। आइए लेख में जानते हैं एफेब्रिल डेंगू (Afebrile Dengue)  और इससे कैसे बचें। (Prevention of Afebrile Dengue fever)

‘एफेब्रिल डेंगू’ क्या है? (What is Afebrile Dengue)

  • ‘एफेब्रिल डेंगू’ यानी बिना बुखार वाला डेंगू। आम तौर पर होने वाले डेंगू में मरीज़ तेज़ बुखार की शिकायत करता है। उसके शरीर में भयानक दर्द होता है। 
  • लेकिन मधुमेह के मरीज़ों, बूढ़े लोगों और कमज़ोर इम्यूनिटी वाले लोगों में बुखार के बिना भी डेंगू हो सकता है।
  • ऐसे मरीज़ों को बुखार तो नहीं होता, लेकिन डेंगू के दूसरे लक्षण ज़रूर होते हैं। ये लक्षण भी काफी हल्के होते है।

एक्सपर्ट्स की राय 

जरनल ऑफ़ फिजिशियन ऑफ़ इंडिया की एक स्टडी के मुताबिक थाईलैंड में बच्चों में बिन बुखार वाले डेंगू के बहुत से मामले सामने आए। स्टडी के मुताबिक वहां के 20 फ़ीसदी बच्चों में इस तरह का डेंगू पाया गया। 

डॉक्टरों के मुताबिक इस तरह का डेंगू ख़तरनाक हो सकता है, क्योंकि मरीज को पता ही नहीं होता कि उसे डेंगू हो गया है। कई बार वो डॉक्टर के पास भी नहीं जाते।

एफेब्रिल डेंगू में बहुत हल्का इंफेक्शन होता है। मरीज़ को बुखार नहीं आता, शरीर में ज़्यादा दर्द नहीं होता, चमड़ी पर ज़्यादा चकत्ते भी नहीं होते। कई बार मरीज़ को लगता है कि उसे नॉर्मल वायरल हुआ। 

किन लोगों को हो सकता है एफेब्रिल डेंगू

  • बुज़ुर्गों, छोटे बच्चों
  • कमज़ोर इम्यूनिटी वाले लोगों
  • मधुमेह के मरीज़
  • कैंसर के मरीज़
  • या जिनका ट्रांसप्लांट हुआ हो

एफेब्रिल डेंगू का प्रकोप

डॉक्टरों के मुताबिक इस सीज़न में यानी अगस्त-सितंबर-अक्टूबर में अगर किसी को शरीर में दर्द, थकान, भूख ना लगना, हल्का-सा रैश, लो ब्लड प्रेशर जैसी समस्या हो, लेकिन बुखार की हिस्ट्री ना हो। तो वो डेंगू हो सकता है। इसलिए डॉक्टर की सलाह अवश्य लें।

उनके मुताबिक अगर मरीज़ सही समय पर प्लेटलेट्स चेक नहीं कराता, तो दिक्कत हो सकती है। अगर प्लेटलेट्स कम हो गए हैं तो ये ख़तरे की बात हो सकती है।

डेंगू से लड़ने के लिए कुछ घरेलू उपाय (Dengue Home Remedies)

  1. अदरक की चाय और ग्रीन टी काफी लाभदायक होती है।
  2. बर्फ का पैक दर्द में आराम पहुंचाता है।
  3. गिलोय बेल का जूस बुखार से लड़ने में मदद करता है।
  4. पपीते का जूस या पपीता ब्लड प्लेटलेट बढ़ाता है।
  5. तुलसी के पत्तों का पानी या चाय इम्युनिटी बढ़ाती है।
  6. नारियल का पानी शरीर को हाइड्रेट करता है।
  7. विटामिन सी वाले फल खाएं, इससे रोग प्रतिरोधक क्षमता बेहतर होती है।
  8. हल्दी मेटाबॉलिज्म बढ़ाती है. इसलिए इसे दूध में डालकर पिएं।

ये भी पढ़ें

आयु है आपका सहायक

कोरोना वायरस के प्रकोप के चलते आज विश्व टेलीमेडिसिन को अपना रहा है। भारत के प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने भी आमजन से टेलीमेडिसिन के साथ-साथ स्वदेशी अपनाने की बात कही है। भारत का नंबर वन हेल्थकेयर प्लेटफॉर्म आयु पर आप घर बैठे देश के सर्वश्रेष्ठ डॉक्टरों से इलाज़ और परामर्श पा सकते हैं। आज ही डाउनलोड करें स्वदेशी स्वास्थ्य ब्रांड आयु ऐप. हमेशा देश के बेहतर स्वास्थ के लिए अग्रसर |

Leave a Reply

Your email address will not be published.