पिता नहीं बन पाने के 3 बड़े कारण

sad father due to infertility
शेयर करें

वर्तमान समय में लाइफ इतनी फॉस्ट हो चुकी है कि इंसान अपने सेहत पर ध्यान ही नहीं दे पाता है. बदलती जीवनशैली और तनाव के कारण पुरुष कई समस्याओं से घिर जाता है, ऐसे में उनकी पिता बनने का सपना बी टूट जाता है. पुरुष के पिता नहीं बनने के संभवत तीन कारण होते है ,जिस वजह से वे पिता का सुख नहीं ले पाते हैं और पुरुष बाँझपन का शिकार हो जाते हैं.

इन चीजों से बना लें दूरी

हॉट टब में स्नान

गर्म पानी के टब में बैठकर स्नान करना भी खतरनाक है. यदि 30 मिनट या उससे अधिक समय तक गर्म पानी के टब में नहाया जाए तो शुक्राणुओं के निर्माण की प्रक्रिया बंद हो जाती है. यदि इस तरह से नहाना बंद कर दिया जाए तो शुक्राणुओं के निर्माण की प्रकिया फिर सामान्य हो जाती है.

तेज बुखार

यदि आप तेज बुखार के शिकार होते हैं, तो उसका भी वही प्रभाव पड़ता है, जो हॉट टब में नहाने से होता है. एक शोध के अनुसार तेज बुखार के बाद शुक्राणुओं की सघनता 35 प्रतिशत तक कम हो जाती है.

लैपटॉप

यदि आप हमेशा लैपटॉप को गोद में रखकर काम करने के आदी हैं तो इस आदत को जितनी जल्दी हो सके, त्याग दें. लैपटॉप को डेस्क पर रखकर काम करने की आदत डालें.इसका कारण यह है कि लैपटॉप की गर्मी से अंडकोषों का तापमान बढ़ जाता है और शुक्राणुओं के निर्माण की प्रक्रिया बंद हो जाती है.

शरीर में नहीं आनी चाहिए इन चीजों की कमी

एस्ट्रोजन की कमी

यह स्टेरोएड हार्मोन का एक समूह है, जो महिला व पुरुष दोनों में पाया जाता है लेकिन यह अधिकतर महिलाओं में पाया जाता है, इसके कारण उनकी प्रजनन क्षमता भी प्रभावित होती है. एस्ट्रजेन हार्मोन के कारण ही महिलाओं और पुरुषों में भिन्नताएं पाई जाती है. शरीर में एस्ट्रोजन की कमी के कारण पुरुषों के शुक्राणु कमजोर हो जाते हैं, जिसके कारण वह महिलाओं के एग को फर्टलाइज नहीं कर पाते.इस कारण से भी पुरुषों को पिता बनने में दिक्कत का सामना करना पड़ता है.इतना ही नहीं इन हार्मोन की कमी से पुरुषों की सेहत पर भी खराब असर पड़ता है. एस्ट्रोजन हार्मोन्स को सामान्य रखने के लिए पौष्टिक आहार लेना बेहद जरूरी है.

कैल्शियम की कमी

पुरुषों के लिए शरीर में कैल्शियम की कमी होना उनके स्वास्थ्य के लिए अच्छा नहीं होता है. कैल्शियम की कमी होने से पुरुषों के शुक्राणुओं की गुणवत्ता खराब हो जाती हैं, जिसके कारण उन्हें पिता बनने में परेशानी का सामना करना पड़ता है. इसलिए अगर किसी पुरुष को पिता बनने में परेशानी हो रही हैं तो उसे कैल्शियम युक्त आहार का सेवन करना चाहिए और डॉक्टर की सलाह लेनी चाहिए. ऐसा करने से उनकी ये समस्या धीरे-धीरे समाप्त हो सकती है.

टेस्टोस्टेरोन की कमी

टेस्टोस्टेटरॉन भी एक प्रकार का हार्मोन है, जो पुरुषों के टेस्टिकल्स में मौजूद होता है. इस हार्मोन के कारण ही पुरुषों में यौन इच्छा जागृत होती है. पुरुषों में चिड़चिड़ापन या फिर जरा-जरा सी बातों पर गुस्सा आना टेस्टोस्टेरॉन की कमी की वजह से होता है. पुरुषों के पिता बनने में इन टेस्टोस्टेरोन हार्मोन्स की महत्वपूर्ण भूमिका होती है. लेकिन इन हार्मोन्स की कमी के कारण पुरुष चाह कर भी पिता नहीं बन पाता है. हालांकि डॉक्टर से सलाह और अपने सेहत व खान-पान पर ध्यान देने से इन हार्मोन को बढ़ाया जा सकता है.टेस्टोस्टेरॉन के स्तर का पता लगाने के लिए खून की जांच कराई जा सकती है. अगर शरीर में टेस्टोस्टेरॉन का स्तर कम होता है, तो चिकित्सक की सलाह से इस हार्मोन के लेवल को बढ़ाया जा सकता है.

टेस्टोस्टेरोन बढ़ाने के उपाय

  • कद्दू एक सुपर-फूड है जो बीटा-कैरोटीन और अन्य फाइटोन्यूट्रिएंट्स से भरा होता है.
  • एक्सरसाइज खराब जीवनशैली से उत्पन्न बीमारियों को दूर करने और टेस्टोस्टेरोन के स्तर को बढ़ाने में लाभदायक होता है.
  • अच्छी सेहत के लिए जिस तरह से अच्छा भोजन और नियमित व्यायाम जरूरी होता है वैसे ही अच्छी नींद लेना भी काफी महत्वपूर्ण होता है.
  • भोजन में पर्याप्त प्रोटीन, हेल्दी फैट और कार्बोहाइड्रेट शामिल करें। यह टेस्टोस्टेरोन को बढ़ाने के लिए फायदेमंद होता है.
  • अश्वगंधा कॉर्टिसोन नामक हार्मोन को कम कर टेस्टोस्टेरोन को बढ़ाता है.
  • शिलाजीत में फुल्विक एसिड होता है जो प्राकृतिक रूप से टेस्टोस्टेरोन के स्तर को बढ़ाने में मदद करता है.

ये भी पढ़े- एचआईवी व एड्स के बारे में जानें? पढ़ें कारण व लक्षण

एस्ट्रोजन हार्मोन को बढ़ाने का उपाय

  • सीमित एक्सरसाइज करें और योग को अपने वर्कआउट रूटीन में शामिल करें.
  • संतुलित, कम फैट वाला और अधिक रेशेदार भोजन खाएं.
  • अलसी, अंडे, सूखे मेवों और चिकन जैसे ओमेगा-3 युक्त आहार को अपनी डाइट में शामिल करें.
  • रोजाना 7 से 8 घंटे की नींद लें। दरअसल कभी-कभी अनिद्रा के कारण हार्मोन असंतुलन हो जाता है.
  • पर्याप्त रूप से पानी पीएं और शरीर में पानी की कमी न होने दें.
  • चाय, कॉफी, शराब के सेवन से बचें.
  • ग्रीन टी या नरियल पानी को अपनी डाइट में शामिल करें.

ये भी पढ़ेखतरनाक डेंगू के लक्षण और इससे बचने के उपाय

कैल्शियम की कमी दूर करने के उपाय

  • गेहूँ, बाजरा व रागी का अधिक सेवन करें.
  • हो सके तो नारियल , गुड़, शकरकंद खाने की आदत डालें.
  • दूध से बने उत्पादों का सेवन बढ़ाएं.
  • मूंग दाल, राजमा, सोयाबीन, चना, मोठ को सेवन करें , इसमें कैल्शियम भरपूर मात्रा में मौजूद होता है.
  • कढ़ी पत्ता, पत्ता गोभी, अरबी के पत्ते, सुरजने के पत्ते, मैथी, मूली के पत्ते, पुदीना हरा, धनिया, ककड़ी, सेम ग्वारफली, गाजर, भिंडी, टमाटर को अपने आहार का हिस्सा बनाएं.
  • मुनक्का, बादाम, पिस्ता, अखरोट व तरबूज भी आपको कैल्शियम देने में फायदेमंद है.
  • इसके अलावा आप मांसाहार का सेवन करते है तो अपने खाने में मछली को भी शामिल कर सकते है.
  • बता दें कि शरीर को प्रतिदिन 0.8 से 1.3 ग्राम कैल्शियम की आवश्यकता होती है.

मेडकॉर्डस आपका सहायक

आपके परिवार का कोई सदस्य पुरुष रोग से परेशान है तो इसे गंभीरता से लें. मेडकॉर्ड्स ऐप से घर बैठे अनुभवी डॉक्टरों से ई-परामर्श और सलाह लें। आज ही मेडकॉर्डस हेल्प लाइन नं- 781-681-1111 पर करें कॉल

शेयर करें

Leave a Reply

Your email address will not be published.