10 BENEFITS OF FLAX SEED | अलसी के बीज के प्रमुख 10 स्वास्थ्य लाभ

सुपर फ़ूड के नाम से प्रचलित अलसी के बीज जिन्हें फ्लेक्स सीड्स (Flax Seed) भी कहा जाता है। उसका आपके स्वास्थ्य पर बहुत प्रभाव होता है। अलसी के बीज (Flax Seed) का सेवन करने से हृदय रोग, पाचन रोग, कैंसर और मधुमेह में फायदा मिलता हैं। यह वज़न घटाने से ले कर कोलेस्ट्रोल कम करने में सहायता करता है।

आइये जानें अलसी के बीजों (Flax Seeds) के फायदे:

1. मोटापा घटाए: अलसी के बीजों (Flax Seed) में भरपूर मात्रा में फाइबर होता है जिसकी वजह से इसको खाने से व्यक्ति को जल्दी भूख नहीं लगती। अलसी के बीजों के सेवन से पेट में उपस्थित लाभदायक बैक्टीरिया मेटाबोलिज्म या उपापचय दर को तेज़ कर देतें हैं जिससे ज़्यादा कैलोरी जलती है व मोटापा कम होता हैं।

2. ओमेगा 3 का श्रेष्ठ स्त्रोत: ओमेगा 3 (Omega 3) हमारे शरीर के लिए अतिआवश्यक है। सबसे ज़्यादा ओमेगा । समुद्री मछलियों में पाया जाता है इसलिए शाकाहारी लोगों के लिए अलसी के बीज ओमेगा 3 का सबसे बड़ा स्त्रोत है। अलसी के बीज Omega 3 fatty acids का बहुत अच्छा स्रोत माने जाते हैं।

3. कैंसर से बचाव: अलसी के बीज (Flax Seed) में लिग्नन्स (Lignans) नामक पोषक तत्वों का एक समूह होता है, जिसमें शक्तिशाली एंटीऑक्सिडेंट और एस्ट्रोजन गुण होते हैं। वे स्तन और प्रोस्टेट कैंसर, साथ ही अन्य प्रकार के कैंसर को रोकने में मदद कर सकते हैं।

4. पाचन के लिए लाभदायक: अलसी के प्रत्येक छोटे बीज में बहुत फाइबर होता है जिससे  नियमित रूप से सही रूप से मल त्याग होने के साथ आपका पाचन स्वास्थ्य बेहतर बनाता है।

5. कोलेस्ट्रॉल को घटाता है: उच्च कोलेस्ट्रॉल वाले लोगों में एक अध्ययन में, तीन महीने के लिए रोजाना 3 चम्मच (30 ग्राम) फ्लैक्ससीड पाउडर का सेवन करने से कुल कोलेस्ट्रॉल 17% और “खराब” एलडीएल कोलेस्ट्रॉल लगभग 20% तक कम देखा गया।

अलसी के बीज (Flax Seed) के उच्च फाइबर गुण कोलेस्ट्रॉल को कम करने में मदद करते है और हृदय स्वास्थ्य को बेहतर बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है।

6. ब्लड प्रेशर कम करता है: अलसी के बीज (Flax Seed) पर किए गए अध्ययनों से पाया गया की इनमें रक्तचाप को कम करने की प्राकृतिक क्षमता होती है।

एक केनेडियन अध्ययन में पाया गया कि 30 ग्राम फ्लैक्स सीड्स को छह महीने तक रोज़ खाने से सिस्टोलिक और डायस्टोलिक ब्लड प्रेशर 10 mmHg और 7 mmHg कम हो जाता है।

7. प्रोटीन का प्रचुर स्त्रोत: फ्लैक्स सीड्स प्लांट-आधारित प्रोटीन का एक बड़ा स्रोत हैं। अलसी के बीजों में प्रोटीन अमीनो एसिड आर्जिनीन, एस्पार्टिक एसिड और ग्लुटामिक एसिड प्रचुर मात्रा में पाया जाता है। कई लैब अध्ययनों से पता चला है कि अलसी के प्रोटीन में प्रतिरक्षा प्रणाली (Immune System) को बढ़ाने, कोलेस्ट्रॉल कम करने, ट्यूमर को रोकने और एंटी-फंगल गुण पाए जाते हैं।

फ्लैक्स सीड्स प्लांट-आधारित प्रोटीन का एक अच्छा स्रोत हैं और जो लोग मांस नहीं खाते हैं उनके लिए एक वैकल्पिक प्रोटीन का बेहतर स्रोत है।

SKIN CARE | दमकती त्वचा के लिए अपनाएं ये 10 आदतें

8. ब्लड शुगर को कंट्रोल करता है: टाइप 2 मधुमेह दुनिया भर में एक बड़ी स्वास्थ्य समस्या है। कुछ अध्ययनों में पाया गया है कि टाइप 2 मधुमेह वाले लोग जो अपने दैनिक आहार में 10 से 20 ग्राम अलसी के पाउडर को कम से कम एक महीने तक शामिल करते हैं, उनमें रक्त शर्करा के स्तर में 8-20% की कमी देखी गई।

अलसी के बीज (Flax Seed) उनके अघुलनशील फाइबर के कारण रक्त शर्करा को कम कर सकते हैं। वे मधुमेह वाले लोगों के आहार के लिए एक लाभकारी आहार साबित हो सकते हैं।

9. बालों व त्वचा के लिए फायदेमंद: अलसी के बीजों (Flax Seed) में पाया जाने वाला ओमेगा 3 फैटी एसिड (Omega 3 Fatty Acid) बालों को बढ़ाने में बहुत मदद करता है। इसके सेवन से त्वचा में कसाव, झुर्रियों व महीन रेखाओं  में कमी आती है। अलसी के बीज (Flax Seed) एक अच्छे मॉइस्चराइजर की तरह काम करते हैं व त्वचा की कई समस्याओं जैसे एक्ज़िमा, सोरायसिस आदि के उपचार में भी सहायता करती है।

10. आँखों के लिए फायदे: ओमेगा 3 फैटी एसिड (Omega 3 Fatty Acid) आँखों में सूखेपन के लिए एक प्रभावी उपचार है. यह आँखों में नमी बनाये रखता है। जिससे ग्लूकोमा व हाई आई प्रेशर के ख़तरे को कम करता है।

मेडकॉर्ड्स (MedCords) डॉक्टर के अनुसार अलसी के बीज को अपने दैनिक जीवन में शामिल करने से आप कई स्वास्थ्य संबंधी बीमारियों से राहत पा सकते हैं। ध्यान रखें अलसी के बीज की 40 gm मात्रा रोज़ काफ़ी है।

इसी तरह के जानकारी भरे लेख पढ़ने के लिए मेडकॉर्ड्स के ब्लॉग पढ़ें व स्वास्थ्य संबंधी अधिक जानकारी के लिए हमारे टोल फ्री नंबर +91-781-681-1111 पर कॉल करें और नज़दीकी सेहत साथी के पास जाकर हमारे एक्सपर्ट डॉक्टर से सलाह लें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *